Home Big Breaking WhatsApp के जरिये चल रहा था बड़ा फर्जीवाड़ा, पूरे हरियाणा के अधिकारियों की लोकेशन हो रही थी ट्रैस

WhatsApp के जरिये चल रहा था बड़ा फर्जीवाड़ा, पूरे हरियाणा के अधिकारियों की लोकेशन हो रही थी ट्रैस

4 second read

Amit Sharma

Chaupal TV, Tosham

हरियाणा तोशाम एस. डी. एम. सन्दीप कुमार ने वीरवार को प्रातः एक गिरोह का पर्दाफाश किया है जो प्रदेश भर में खनन कार्य में लगे डम्फर / ट्रक चालको को अधिकारियों की गाड़ीयों की लोकेशन देता था।
एस.डी.एम.ने अपने कार्यकाल में आयोजित पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि वीरवार को प्रातः 6 बजे तोशाम-जुई मार्ग पर वे खनन कार्य में लगे ओवर लोडिंग वाहनों की चैकिंग कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने ओवर लोडिंग में संलिप्त पाये गऐ ट्रकों को भी पकड़ा।

उन्होंने बताया कि चैकिंग के दौरान प्रदेश में खनन कार्य से ओवर लोडिंग वाहनों की लोकेशन देने वाली एक गाड़ी को भी जब्त किया गया। लोकेशन की सूचना देने वाली गाड़ी को रूकवाया तब उसमें तीन व्यक्ति सवार थे। एक व्यक्ति भाग गया तथा दो व्यक्ति पकड़ लिऐ गये। उन्होंने बताया कि पकड़े गए दोनों व्यक्ति भिवानी जिला के हैं जिनमें एक प्रवीन गाँव हड़ौदी से तथा संदीप गाँव ढाणीमाहू का निवासी है।

एस.डी.एम.संदीप कुमार ने बताया कि पकड़े गए गिरोह से एक गाड़ी न0 एच.आर.19 एन 4913 तथा दो मोबाइल फोन जब्त किए गए हैं। मोबाइल फोन में तीन ग्रुप ओवरलोड भाईचारा, सब भाई तथा दादरी पी. के. नाम से बना रखे हैं। इन ग्रुप के माध्यम से खनन कार्य में लगे वाहनों को सूचना दी जाती थी।

ग्रुप को ऑन करने पर कैथल,छुछकवास,गुरूग्राम,रोहतक,तोशाम सहित पूरे हरियाणा के अन्दर सूचना की रिकार्डिंग मिली हैं। उन्होंने बताया कि यह गिरोह प्रत्येक वाहन चालक से सूचना देने की एवज में दो से तीन हजार रूपये लेता था।
एस.डी.एम. ने बताया कि इस गिरोह के माध्यम से सूचना मिलने के बाद ट्रक/ डम्फर चालक सड़क किनारे अपने वाहन को खड़ा करके भाग जाते हैं।

उन्होंने बताया कि सरकारी अधिकारियों की गाड़ी की लोकेशन मिलने से ओवर लोड वाहन चालक प्रदेश भर में लाखों रूपये की राशि के राजस्व का नुकसान कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि उनके निवास स्थान के नजदीक भी एक गाड़ी खड़ी रहती थी जो शायद इस गिरोह से जुड़ी हुई थी।

ओवर लोड वाहनों पर अंकुश लगाने के लिए चलाया जाने वाला अभियान जारी रहेगा। लोकेशन की सूचना देने वाले दोनों व्यक्ति तथा उनसे प्राप्त मोबाइल फोन थाना तोशाम को सोंप दिये गऐ हैं। एस. एच. ओ. द्वारा लोकेशन की सूचना देने वाले गाड़ी को जब्त करके 16 हजार रूपये का चालान काट दिया गया है। जब्त की गई गाड़ी में गाड़ी से संम्ब्धित कोई दस्तावेज भी नहीं मिला।

हरियाणा में इससे पहले रोडवेज विभाग में भी व्हाट्सएप के ग्रुप्स का मामला सामने आया था जिसमें चैकिंग करने वाले अधिकारियों की पूरी जानकारी ग्रुप्स में डाली जा रही थी। वहीं इससे पहले खनन मंत्री मूलचंद शर्मा ने भी रात को करीब आठ घंटे खुद चैकिंग अभियान चलाया था।

 

Check Also

कोरोना महामारी के बीच मनोहर सरकार ने क्या-क्या बड़े फैसले लिये, देखिये पूरी लिस्ट

Sahab Ram, Chopal TV हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि कोरोना वायरस के संकट से नि…