महिलाओं की शर्ट के बटन उल्टी साइड क्यों होते हैं, वजह जानिये
 

पुरुषों की शर्ट के बटन हमेशा दाईं जबकि महिलाओं की शर्ट के बटन हमेशा बाईं ओर लगे होते हैं। क्या आप जानते हैं कि वास्तव में ऐसा क्यों होता है। क्या इसके पीछे कोई दिनचर्या से जुड़ा कारण है या शारीरिक बनावट से जुड़ा कोई कारण है या कोई ऐतिहासिक कारण है। जानिये, इसके पीछे अब तक क्या-क्या तर्क दिये गये हैं।

पहला तर्क
कहा जाता है कि पहले आदमी अपने कपड़े खुद पहनते थे, जबकि महिलाएं कपड़े खुद नहीं पहनती थीं। उस समय अधिकांश लोग दाहिने हाथ से काम करते थे, सामने खड़े होकर बटन लगाने में दिक्कत ना हो इसलिये महिलाओं के कपड़ों के बटन बाईं ओर लगाए जाते थे।

girls shirt button 2

दूसरा तर्क
पुरुषों को बटन बंद करने या खोलने के लिए बाएं हाथ का सहारा लेना पड़ता था, इसलिए उनके शर्ट में दाईं तरफ बटन होते हैं। जबकि महिलाओं को साथ इसका उल्टा होता है, इसलिए महिलाओं के कपड़े में बाईं तरफ बटन होते हैं।

तीसरा तर्क
पहले महिलाओं और पुरुषों के कपड़ों में कई विभिन्नताएं होती थी, लेकिन अब काफी समानता आ गई है, इसलिए महिलाओं और पुरुषों के कपड़ों में थोड़ा अंतर रखने के लिए भी ऐसा किया जाने लगा।

girls shirt button 255

चौथा तर्क
कुछ इतिहास से जुड़े तथ्यों के मुताबिक महिलाओं के कपड़ों में बटन बाईं ओर लगाने का आदेश नेपोलियन बोनापार्ट ने दिया था। इसके पीछे तर्क दिया जाता है कि नेपोलियन एक खास अदा में हमेशा अपना एक हाथ शर्ट में डालकर खड़े होते थे, लेकिन महिलाएं इसका मजाक बनाने लगी थी। जब ये बात नेपोलियन को पता चली तो उन्होंने महिलाओं को रोकने के लिये कपड़ों में बटन बाईं ओर लगाने लिये के आदेश दे दिए।

एक थ्योरी ये भी है कि महिलाएं आमतौर पर स्तनपान कराते वक्त अपने बच्चों को बाएं हाथ में पकड़ती हैं और दाएं हाथ से कुछ और काम भी करती हैं। इसलिए शर्ट के बटन को बाएं तरह लगाया गया जिससे वो अपने सीधे हाथ से बटन को खोल सकें। इसके अलावा एक आम थ्योरी ये है कि जब महिलाओं की शर्ट बनना शुरू हुई तब उसमें बटन को बाएं तरफ लगाया गया जिससे उसे पुरुषों की शर्ट से अलग पहचान मिले।

दाएं तरफ क्यों होते हैं पुरुषों की शर्ट के बटन
इसके पीछे जो प्रमुख थ्योरी प्रचलित है, वो ये कि पुराने वक्त में जब पुरुष जंग पर जाते थे वो अपने दाएं हाथ में तलवार पकड़ते थे। उनकी तलवार उनकी बाएं तरफ लटकी होती थी और उसे निकालने के लिए दायां हाथ काम में आता था। इसलिए बटन को दाएं तरफ लगाया गया जिससे कि बाएं हाथ से उन्हें आसानी से खोला जा सके और तलावर निकालते वक्त बटन ना टूट जाए।