मुगल अपनी रानियों के लिए हरम में रखते थे किन्नर ! रातभर करवाते थे ऐसे-ऐसे काम !

 
मुगल अपनी रानियों के लिए हरम में रखते थे किन्नर ! रातभर करवाते थे ऐसे-ऐसे काम !

मुगल बादशाह (Mughal Emperor) अकबर की जब भी बात की जाती है तो हमको पढ़ाए जाने वाले इतिहास में सिर्फ उनकी महानता, बुद्धि कौशल, विशाल सेना और उनकी राजनीति की समझ की ही बात की जाती है। लेकिन इसके इतर भी मुगलों का एक इतिहास है जिसके बारे में कभी पढ़ाया औऱ बताया नहीं गया।

अकबर के हरम में 5000 महिलाएं थी जो अकबर की सेवा करती थीं।अकबर के हरम की कई कहानियां प्रचलित है लेकिन यहां हम सिर्फ हरम में रहने वाले किन्नरों के बारे में बात करने वाले हैं।

आज हम आपको मुगल हरम की ऐसी कहानी बताने जा रहे हैं जिसे जानने के बाद आप हैरान हो जाएंगे। ये बात तो आप जान चुके हैं कि अकबर के हरम में 5 हजार औरतें थीं। लेकिन इसके अलावा इस हरम में किन्नर भी रहते थे। अब आप सोच रहे होंगे कि रानियों का ऐसा कौन सा काम है जो किन्नर करते होंगे। दरअसल हरम में किन्नरों को रखने के पीछे सोची- समझी रणनीति थी। आइए जानते हैं किन्नर इस हरम में रातभर क्या करते थे।

हरम में किन्नरों का काम

लेखक निकोलाओ के अनुसार किन्नर अकबर के बहुत विश्वासपात्र थे। इसलिए किन्नर हरम में सैनिकों का काम करते थे। हरम की पूरी सुरक्षा किन्नर ही करते थे। दरअसल रानियों की सेवा के लिए महिलाओं को रखा जाता है।महिलाएं शारीरिक रूप से इतनी शक्तिशाली नहीं थीं की अपनी सुरक्षा कर सकें। इसलिए हरम की सुरक्षा किन्नरों के हवाले थी।


इस काम के लिए मिलता था मेहनताना

हरम में जो भी महिलाएं और किन्नर काम करते थे उनको इस काम के लिए सैलरी दी जाती थी। दरोगा के पद पर जो होता था उसको सबसे ज्यादा 1 हजार रुपये दिए जाते थे। बाकि जो भी अन्य थे उन्हे 2 रुपये महिने का मिलता था। इसी से ये लोग अपने घर का पालन- पोषण करते थे।