वायरल

Karwa Chauth 2022: करवाचौथ पर भूल से भी न करें ये गलतियां, नहीं तो निष्फल हो जाएगा व्रत...

Renu Sharma
23 Sep 2022 5:16 AM GMT
Karwa Chauth 2022: करवाचौथ पर भूल से भी न करें ये गलतियां, नहीं तो निष्फल हो जाएगा व्रत...
x
खुशहाल दांपत्य जीवन, और पति क लंबी आयु के लिए सुहागिनें हर साल कार्तिक माह में करवा चौथ का व्रत करती है। ये निर्जला व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक चलता है।

Karwa chauth 2022 Mistakes: खुशहाल दांपत्य जीवन, और पति क लंबी आयु के लिए सुहागिनें हर साल कार्तिक माह में करवा चौथ का व्रत करती है। ये निर्जला व्रत सूर्योदय से चंद्रोदय तक चलता है। पति की लंबी आयु और अच्छे स्वास्थ के लिए विवाहित महिलाए ये व्रत पूर्ण विधि अनुसार रखती हैं। इसलिए इस दिन कुछ ऐसे काम है जो सुहागिनों को नहीं करना चाहिए, वरना व्रत सफल नहीं हो पाता। शास्त्रों क मानें तो करवा चौथ के दिन कुछ काम नहीं करने चाहिए, अन्यथा व्रत रखने का कोई लाभ नहीं होता। तो चलिए आपको बताते है करवा चौथ पर ऐसे कौन स कार्य है जिनको नहीं करना चाहिए-

करवा चौथ कब है ? इस वर्ष 13 अक्टूबर 2022 को करवा चौथ का व्रत रखा जाएगा। इस साल करवा चौथ की पूजा का समय शाम 06 बजकर 01 मिनट से रात 07 बजकर 15 मिनट तक है। वहीं चांद निकलने का समय रात 08 बजकर 19 मिनट पर है।

करवा चौथ के दिन सुहागिनें क्या न करें-

देर तक न सोएं- करवा चौथ व्रत के दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर सरगी खाना चाहिए। व्रती करवा चौथ में देर तक न सोएं साथ ही दिन के समय भी सोना नहीं चाहिए। व्रत का दिन भजन कीर्तन करने और शंकर-पार्वती के स्मरण में व्यतीत करें। इस व्रत में सरगी का विशेष महत्व है। देर तक सोने से सरगी खाने का समय निकल सकता है।

सुहाग की वस्तु- करवा चौथ के इस खास पर्व पर सुहागिन महिलाएं 16 श्रृंगार करती है। ध्यार रहे कि इस दिन सुहाग की कोई वस्तु पहनते समय टूट जाए तो उसे कूड़दान में बिल्कुल ना डालें, बल्कि बहते जल में प्रवाहित कर देना चाहिए। इस दिन भूलें से भी किसी दूसरी स्त्री से सिंदूर उधार लेकर मांग में न लगाएं औऱ न ही अपना सिंदूर और श्रृंगार का सामान किसी दूसरी महिला को दें।

सफेद चीजों का दान वर्जित- करवा चौथ सुहागिन स्त्री का सबसे बड़ा त्यौहार होता है। इस व्रत में सुहाग से जुड़ी वस्तुओं का दान करना शुभ माना जाता है। ऐसे में इस दिन सफेद रंग की चीजों (दूध, दही, चावल, सफेद मिठाई, वस्त्र) का दान भूलें से भी ना करें।

सिलाई-कढ़ाई- धार्मिक मान्यताओं पर नजर डालें तो सुहागिन महिला को इस दिन किभी भी धारदार चीजों का इस्तेमालन नहीं करना चाहिए। इस दिन सिलाई-कढ़ाई जिसमें कैंची का उपयोग होता है वह गलती से भी न करें। ऐसा करना अपशगुन माना जाता है।

विवाद न करें- करवा चौथ व्रत का फल तभी मिलता है जब सुहागिन स्त्री का पूरा ध्यान ईश्वर की भक्ति में हो। इस दिन किसी को अपशब्द न कहें, विवाद से दूर रहे। खासकर पति से वाद-विवाद न करें। ये बात पति पर भी लागू होती है।

Next Story