नौकरी छोड़कर 100 साल पुराने घर की देखभाल में लगा कपल, शहर की भीड़भाड़ से दूर बिता रहा चैन की जिंदगी
 

द बेटर इंडिया वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार अमरजीत और सुनिता (Amarjeet and Sunita) काफी सालों से हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री से जुड़े थे और दिल्ली-मुंबई जैसे शहरों में नौकरी कर चुके थे. मगर उन्होंने अपनी नौकरी को छोड़कर एक 100 साल पुराने (Couple rennovate 100 year old house transform into homestay) घर को रेनोवेट कराने का फैसला किया.

ड़े और भीड़भाड़ वाले शहरों में रहने वाले कई लोग सोचते हैं कि वो अपने शहर को छोड़ किसी ऐसे शहर में जाकर रहने लगें जो एकांत में हो और जहां ज्यादा समस्याएं ना हों. मगर ऐसा कर पाना हर किसी के बस की बात नहीं है. जो ऐसा कर जाते हैं, वो बेशक खुशहाल जिंदगी जीने लगते हैं. ऐसा ही कुछ एक भारतीय कपल ने भी किया जो उत्तराखंड (Uttarakhand) में एक 100 साल (Couple left job to transform 100 year old house into a homestay) पुराने घर की देखरेख में लग गया है.

F

द बेटर इंडिया वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार अमरजीत और सुनिता (Amarjeet and Sunita) काफी सालों से हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री से जुड़े थे और दिल्ली-मुंबई जैसे शहरों में नौकरी कर चुके थे. एक बार दोनों उत्तराखंड के छोटे से कस्बे लैंडॉर (Landour) में छुट्टियां मनाने गए थे जब उन्हें वहां एक 100 साल पुराना (Couple transform 100 year old house in Uttarakhand) घर दिख गया. वो अंग्रेजों के स्टाइल का बना बेहद खूबसूरत बंगला था मगर उसकी हालत बुरी हो चुकी थी. वो घर मिशनरी ट्रस्ट का था जिनके पास इतने पैसे नहीं थे कि उसे रेनोवेट करवा सकें

F

तब उन्होंने तय किया कि वो उस घर की मरम्मत करवाएंगे और उसे मेंटेन करेंगे. कपल ने मिशनरी से 33 सालों के लिए घर को खरीदने की मांग की. साल 2009 में घर मिलने के बाद, 2 साल तक उसे मरम्मत करवाया और 2011 में घर को होमस्टे का रूप देकर पर्यटकों के लिए खोल दिया. 9 कमरों में से 6 कमरे उन्होंने गेस्ट के लिए रखे और 3 अपने परिवार के लिए घर बना लिया. अमरजीत और सुनीता ने अपनी नौकरी छोड़ी, मुंबई में अपना फ्लैट बेचा और पूरी तरह से उत्तराखंड में बस गए. 

F

बेटर इंडिया वेबसाइट से बात करते हुए उन्होंने बताया कि घर को फिर से उसके पुराने लुक में ढालना आसान नहीं था. वहां रहना ही मुश्किल था क्योंकि लैंडॉर में रातें काफी सर्द होती हैं और घर मुख्य शहर से थोड़ा दूर है तो वहां तक जरूरत की हर चीज को पहुंचाना भी मुश्किल था. उन्होंने अपने इस होमस्टे बंगले को पूरी तरह से इको-फ्रेंडली बना दिया है. ला विला बेथनी (La Villa Bethany) नाम के घर में रेन-वॉटर हारवेस्टिंग की सुविधा है और सोलर हीटर भी लगा दिए गए हैं. कपल अब छोटे एनजीओ को भी मदद करते हैं और लोगों को होम स्टे सेट करने में भी मदद करते हैं.