School Holidays: देश के इन राज्यों में 22 जनवरी को रहेगा सरकारी अवकाश, छुट्टी का ऐलान किया

 
देश के इन राज्यों में 22 जनवरी को रहेगा सरकारी अवकाश, छुट्टी का ऐलान किया 

School Holidays:  22 जनवरी 2024 का दिन भारतवासियों के लिए बेहद खास है, क्योंकि इस दिन अयोध्याधाम में बहुप्रतीक्षित श्री रामलला की नई मूर्ति का प्राण-प्रतिष्ठा समारोह होना है, जिसे लेकर देशभर में उत्साह और उमंग है। 

अयोध्या के साथ-साथ देशभर में इसकी तैयारियां जोरों पर चल रही हैं, इस बीच आम जनता की भावनाओं को देखते हुए कई राज्य सरकारों ने 22 जनवरी को शिक्षण संस्थानों और सरकारी दफ्तरों में छुट्टी की घोषणा कर दी है.

यूपी में 22 जनवरी को शिक्षण संस्थानों में छुट्टी

यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने 22 जनवरी को प्रदेश के शिक्षण संस्थानों में छुट्टी घोषित करने के निर्देश दिए हैं. मुख्यमंत्री ने इस खास मौके को 'राष्ट्रीय पर्व' करार देते हुए कहा है कि 22 जनवरी को प्रदेश में शराब की दुकानें बंद रखी जाएं. 

14 जनवरी से 22 शहरों में स्वच्छता पर विशेष अभियान चलायें. शहर में कहीं भी गंदगी नहीं दिखनी चाहिए, क्योंकि जब भगवान राम की प्रतिष्ठा होगी तो दुनिया भर से सनातन धर्म के लोग यहां आएंगे, इसलिए कहीं भी गंदगी नहीं दिखनी चाहिए. 

योगी ने लोगों से हर मंदिर में रामायण का पाठ करने और अपने घरों में दीपक जलाने और नए भारत की नई दिवाली मनाने की भी अपील की है.

यूपी के अलावा गोवा की प्रमोद सावंत सरकार ने भी अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर के प्रतिष्ठा समारोह के मद्देनजर 22 जनवरी को सरकारी कर्मचारियों और स्कूलों के लिए छुट्टी की घोषणा की है। 

बुधवार को सीएम प्रमोद सावंत ने कैबिनेट मीटिंग के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान छुट्टी का ऐलान किया और कहा कि इस दिन को दिवाली की तरह मनाया जाए इसलिए सरकार ने सरकारी कर्मचारियों के लिए छुट्टी घोषित करने का फैसला किया है.

राजस्थान-छत्तीसगढ़ में भी छुट्टी की मांग

यूपी और गोवा में 22 जनवरी को छुट्टी घोषित करने के बाद अब अन्य राज्यों में भी इस दिन छुट्टी घोषित करने की मांग उठने लगी है. धर्मस्व, संस्कृति एवं शिक्षा मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय को पत्र लिखकर 22 जनवरी को राम लला के प्रतिष्ठा समारोह पर सार्वजनिक अवकाश की मांग की है और स्कूल-कॉलेजों को भी बंद रखने की अपील की है. 

वहीं मंत्रालयिक कर्मचारी संघ ने भी सीएम से अवकाश घोषित करने की मांग की है. हालाँकि, सरकार पहले ही 22 जनवरी को रामलला प्राण प्रतिष्ठा समारोह को समारोहपूर्वक मना चुकी है और उस दिन को राज्य में शुष्क दिवस घोषित कर चुकी है।

राजस्थान में 22 जनवरी को सार्वजनिक अवकाश घोषित करने की भी मांग की गई है. हालांकि, राज्य की भजनलाल सरकार ने इस दिन को सूखा दिवस घोषित किया है और सभी से 22 जनवरी को हर्षोल्लास के साथ मनाने की अपील की है. 

इधर, राजस्थान के टोंक जिले के उनियारा राजकीय महाविद्यालय के प्राचार्य ने छुट्टी की घोषणा कर दी है. उम्मीद है कि राजस्थान सरकार जल्द ही सार्वजनिक अवकाश पर फैसला ले सकती है, वहीं मध्य प्रदेश में भी छुट्टी की घोषणा की जा सकती है.