Railway : दुनिया का ऐसा देश जहां तीन रेलवे ट्रैक किए जाते हैं इस्तेमाल, जानिए इसके पीछे के रोचक तथ्य
 

Railway : भारत की तरह पड़ोसी देशों में भी लोग ज्यादा से ज्यादा सफर रेलवे से ही करते हैं। हालांकि, चीन को छोड दिया जाए, तो भारत की तरह बाकी पड़ोसी देशों में रेलवे का विस्तार उतना नहीं है। खासकर बांग्लादेश की बात करें तो यहां रेलवे के पास 2,855 KM का ही रेल मार्ग है। लेकिन फिर भी बांग्लादेश रेलवे (Bangladesh Railway) एक खास वजह से पूरी दुनिया में जानी जाती है। दरअसल, यहां ट्रेने ड्यूल ट्रैक पर चलती है। यानी बांग्लादेश में तीन रेलवे ट्रैक का उपयोग किया जाता है। सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लग रहा है, लेकिन ये सच है।

Like India, people in neighboring countries also travel more and more by railways. However, except China, the railway expansion is not as much as in other neighboring countries like India. Especially talking about Bangladesh, the railways here have only 2,855 KM rail route. But still Bangladesh Railway is known all over the world for a special reason. Actually, here trains run on dual track. That is, three railway tracks are used in Bangladesh. It sounds a bit strange to hear, but it is true.

Railway Track Construction is done According to Gauge

बता दें दुनियाभर में रेलवे ट्रैक को गेज के अनुसार बनाया जाता है। इस कारण से आप देश के अलग-अलग हिस्सों में पटरियों की चौड़ाई को अलग-अलग पाते होंगे। कहीं कुछ कम चौड़ी पटरियां होती हैं तो कहीं कुछ अधिक चौड़ी। इन्हें अक्सर लोग बड़ी लाइन और छोटी लाइन भी कहते हैं। हालांकि 60% दुनिया की रेलवे 1,435 mm की मानक गेज का उपयोग करती है। वहीं भारत (Indian Railway) में 4 प्रकार के रेलवे गेज का उपयोग किया जाता है। ब्रॉड गेज (broad gauge), मीटर गेज (meter gauge), नैरो गेज (narrow gauge) और स्टैण्डर्ड गेज (standard gauge) । स्टैणडर्ड गेज का इस्तेमाल भारत में मेट्रो के लिए किया जाता है। वहीं देश में 95 प्रतिशत रेलवे ट्रैक ब्रॉड गेज के हैं।

Three Railway Tracks have been Laid in Bangladesh and why?

बांग्लादेश रेलवे को मिनिस्ट्री ऑफ बांग्लादेश के द्वारा गवर्न किया जाता है, जिसमें टोटल रूट की लंबाई लगभग 2,855 मार्ग किमी, जिसमें मीटर गेज (Meter Guage) हैं, ब्रॉड गेज (Broad Guage) हैं और रेलवे ट्रैक ड्यूल (dual) ब्रॉड गेज डबल रूट हैं। Yards sidings में डबल लाइन पर ट्रैक सहित चलने वाले ट्रैक भी हैं। संक्षेप में ड्यूल गेज (dual guage), ब्रॉड गेज और मीटर गेज से मिलकर बनता है। इसलिए ही तो इसे मिक्स्ड गेज भी कहा जाता है। यानी बांग्लादेश में तीन रेलवे ट्रैक का उपयोग किया जाता है।

धीरे-धीरे बांग्लादेश में रेलवे का विस्तार हो रहा है। जब मीटर गेज से ब्रॉड गेज में परिवर्तन होने लगा तब बांग्लादेश रेलवे इतनी दूर तक फैले मीटर गेज के रेलवे नेटवर्क को बंद नहीं करना चाहती थी। क्योंकि इस परिवर्तन से सिर्फ रेलवे ट्रैक ही नहीं उसके साथ-साथ कोच, लोकोमोटिव और सारी चीजों को परिवर्तन करना पढ़ता। इसलिए बांग्लादेश रेलवे ने dual रेलवे ट्रैक का विस्तार किया।

What is Dual Railway Track?

ड्यूल रेलवे ट्रैक एक ऐसा रेलवे ट्रैक होता है जो दो अलग-अलग गेज के ट्रेन को चालाने में सक्षम होता है। इसे कभी-कभी मिक्स्ड गेज (Mixed guage) भी बोला जाता है। यानी ब्रॉड गेज और मीटर गेज को मिलाकर जो ट्रैक बनता है उसे dual गेज कहा जाता है। एक dual गेज रेलवे ट्रैक में तीन रेल होते हैं जिसमें दो में गेज वाले रेल होते हैं ओर तीसरा कॉमन होता है जो दोनों अलग-अलग गेज के ट्रेन के लिए काम में आता है।

साथ ही हम आपको बता दें कि कभी-कभी फोर रेल का भी दो आउटर और दो इनर में इस्तेमाल किया जाता है। यानी कभी-कभी dual गेज बनाने के लिए दो बाहरी और दो आंतरिक रेलों का उपयोग करके चार रेल ट्रैक की आवश्यकता होती है। जो कॉमन third रेल है वो लोकोमोटिव को इलेक्ट्रिक सप्लाई देने के लिए बिछाया गया है। यह third रेल एक अलग गेज पर ट्रेनों के ऑपरेशन को सुनिश्चित करता है। dual गेज ट्रैक पर ट्रेन के प्लेटफार्म की हाइट बहुत कम होती है क्योंकि उस पर दोनों गेज वाली ट्रेनों को रोका जाता है। बांग्लादेश के अलावा और भी कई देशों में इस तरह के dual गेज का इस्तेमाल किया जाता है।