Panjab News: पंजाब का ये जिला हुआ सबसे गंदे जिलों में शामिल, देखें जल्दी

 
पंजाब का ये जिला हुआ सबसे गंदे जिलों में शामिल, देखें जल्दी

Panjab News: केंद्र सरकार के संबंधित मंत्रालय ने आज स्वच्छ भारत मिशन के तहत चल रहे स्वच्छता सर्वेक्षण 2023 के नतीजों की घोषणा की, जिसके दौरान देश भर में स्वच्छता रैंकिंग में पंजाब 7वें स्थान पर है जबकि जालंधर शहर 239वें स्थान पर खिसक गया है।

गौरतलब है कि पिछली बार जालंधर की रैंक थोड़ा सुधरकर 154 हो गई थी लेकिन इस बार रैंकिंग में भारी गिरावट आई है। आज रैंकिंग के नतीजे जालंधर निगम के अधिकारियों और शहर पर राज करने वाले नेताओं के लिए शर्मनाक हैं क्योंकि शहर की सफाई स्थिति बहुत खराब स्थिति में पहुंच गई है।

जालंधर निगम की बात करें तो इस शहर में स्मार्ट सिटी और स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों नहीं बल्कि अरबों रुपये खर्च किए गए हैं, इसके बावजूद आज शहर की हालत ऐसी है। केंद्र से मिले पैसे की बंदरबांट का ही नतीजा है कि आज जालंधर में जगह-जगह कूड़े के ढेर लोगों का स्वागत करते हैं।

स्वच्छता के मामले में पटियाला, मोहाली, बठिंडा, बरनाला, पठानकोट, अबोहर, होशियारपुर जैसे छोटे शहर भी जालंधर से आगे रहे। पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने एक बार शहर में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा था कि जालंधर पंजाब का सबसे खूबसूरत और व्यवस्थित शहर है और वह जालंधर में ही रहना चाहते हैं।

अब शायद इस मामले में जालंधर ने नोटिस ले लिया है क्योंकि अब जालंधर को पंजाब का सबसे गंदा शहर कहा जाने लगा है। सफाई के मामले में जालंधर शहर अब लुधियाना और अमृतसर से भी पिछड़ गया है।

इस बार केंद्र सरकार द्वारा दी गई स्वच्छता सर्वेक्षण रैंकिंग में पूरे पंजाब के शहरों की स्थिति पर नजर डालें तो साफ है कि आज जालंधर शहर की स्थिति पंजाब के छोटे शहरों जैसे पटियाला, मोहाली से भी बेहतर है। बठिंडा, बरनाला, पठानकोट, अबोहर, होशियारपुर। खराब है।

निगम की बात करें तो कागजों पर यह काफी मजबूत माना जाता है जिसके कारण इसे कुछ रैंकिंग मिलती है, अन्यथा जालंधर भी देश के सबसे गंदे शहरों की श्रेणी में आ सकता है। कागजों पर जालंधर 100 प्रतिशत शौच मुक्त शहर बन गया है। निगम कुछ अभियान चलाकर कुछ अंक भी अर्जित करता है।

अन्यथा हकीकत तो यह है कि शहर के डंप स्थल दिनभर कूड़े से भरे रहते हैं। शहर में कई अवैध कूड़ाघर विकसित हो गए हैं, जो धीरे-धीरे स्थायी कूड़ाघर का रूप लेते जा रहे हैं। आज के नतीजों में जालंधर के हर घर से कूड़ा अलग करना (यानी गीला और सूखा कूड़ा अलग करने की प्रक्रिया) शामिल है। ) 60 प्रतिशत आंका गया है जबकि स्थिति यह है कि यह आंकड़ा 6 प्रतिशत भी नहीं है।

10 साल तक अकाली-बीजेपी के बाद कांग्रेस पार्टी 5 साल तक पंजाब और जालंधर निगम में सत्ता में रही. आज आम आदमी पार्टी को सत्ता में आए दो साल हो गए हैं, लेकिन इस कार्यकाल में हर नेता और हर अधिकारी ने स्वच्छता के मामले में बिना किसी विजन के काम किया और कूड़ा प्रबंधन और निस्तारण की ओर कोई ध्यान नहीं दिया गया.

इन वर्षों में शहर की सभी सड़कों पर कूड़ा-कचरा खुले में पड़ा रहता था. कई दिनों तक कूड़ा नहीं उठा। आज भी प्लाजा चौक डंप, चौगिट्टी, रेडियो कॉलोनी, मछली मार्केट डंप, फोकल प्वाइंट, खालसा स्कूल, प्रताप बाग डंप, टी.वी. सेंटर डंप की हालत इतनी खराब है कि इसके पास से गुजरना भी मुश्किल है, लेकिन अधिकारी और नेता इसकी चिंता नहीं है.