MP News: 15 साल की दोस्ती बदली प्यार में, फिर भी जिंदगी भर रहेगा एक गम, जानें जल्दी

 
15 साल की दोस्ती बदली प्यार में, फिर भी जिंदगी भर रहेगा एक गम, जानें जल्दी

MP News: मध्य प्रदेश के जबलपुर में एक नेत्रहीन लड़का और लड़की 15 साल तक एक-दूसरे से दोस्ती निभाते रहे. फिर दोनों ने जीवन साथी बनने का फैसला किया. अब दोनों सात फेरे लेकर पति-पत्नी के पवित्र रिश्ते में बंध गए।

दोनों ने सदर स्थित काली मंदिर में हिंदू रीति-रिवाज से शादी की. इस अनोखी शादी में उनके साथी छात्र, शिक्षक, शहर के जन प्रतिनिधि और नेशनल एसोसिएशन फॉर द ब्लाइंड के पदाधिकारी मौजूद थे।

इस खास शादी की जिम्मेदारी नेशनल एसोसिएशन ऑफ द ब्लाइंड ने उठाई और शादी का खर्च और घर का सारा सामान भी नए जोड़े को मुहैया कराया.

जानकारी के मुताबिक, कटनी जिले के रहने वाले नरेंद्र और वंदना जन्म से ही देख नहीं सकते हैं. इस कारण उनके माता-पिता उन्हें जबलपुर के अंध आश्रम में छोड़ आये।

दोनों बचपन से इसी अंध आश्रम में एक साथ रहते थे। हमने एक साथ पढ़ाई की, एक साथ लिखा, एक साथ खेला और एक साथ बड़े हुए। दोनों के बीच मन की बात पहले ही हो चुकी थी. इसके बाद दोनों ने एक-दूसरे का हाथ थाम लिया और जिंदगी भर साथ रहने का फैसला किया।

iuyi

नरेंद्र वर्तमान में अंधमूक बाइपास स्थित एक अंध विद्यालय में शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं, जबकि वंदना भी प्राइवेट नौकरी करती हैं. शिक्षा प्राप्त कर दोनों आत्मनिर्भर बन गई हैं।

सदर के काली मंदिर में शादी के दौरान माहौल ऐसा था कि हर कोई इस जोड़े को देखने के लिए उत्सुक दिख रहा था. दूल्हे को औपचारिक रूप से बैंड-बाजे के साथ घोड़ी पर बैठाकर विवाह स्थल तक लाया गया।

 फिर स्टेज पर दूल्हा-दुल्हन ने एक दूसरे को माला पहनाई. इसके बाद लोगों ने उनके साथ तस्वीरें भी लीं. फिर दोनों ने मंडप के नीचे सात फेरे लिए और अग्नि को साक्षी मानकर जीवन भर एक-दूसरे का साथ निभाने का वादा किया।

इस कार्यक्रम में शामिल हुए भारतीय जनता के युवा नेता ने कहा कि वह कई वर्षों से अंध आश्रम से जुड़े हुए हैं और अक्सर वहां जाकर अपने दिव्यांग भाई-बहनों के साथ समय बिताते हैं.

अब जब उनकी शादी कराने का मौका आया तो वे संगठन के सभी वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ पहुंचे और इस विवाह कार्यक्रम में शामिल हुए. बहरहाल, यह घटना पूरे शहर में चर्चा का विषय बनी हुई है.