Hindi News: जब दो सामाजिक कार्यकर्ता बने जीवन साथी, 70 लोगों ने किया महादान, दूल्हा-दुल्हन ने भी किया रक्तदान

 
जब दो सामाजिक कार्यकर्ता बने जीवन साथी, 70 लोगों ने किया महादान, दूल्हा-दुल्हन ने भी किया रक्तदान

Hindi News: धूम-धड़ाके और पानी की तरह पैसा बहाने वाली महंगी शादियों से हर कोई वाकिफ है। कुछ शादियां ऐसी होती हैं जो न सिर्फ समाज को अच्छा संदेश देती हैं बल्कि इतिहास भी बन जाती हैं। जो लोग ऐसे ऐतिहासिक पलों के गवाह बने वे खुद को भाग्यशाली मानते हैं।

ऐसी शादी लाखों में एक होती है. ऐसी ही एक शादी सोमवार की रात भी हुई, जहां शादी के बंधन में बंधने से पहले दो दिलों ने कुछ ऐसा किया कि दोनों समाज के लिए मिसाल बन गए. उनके इस काम में बाराती और सराती दोनों पक्षों के लोगों ने उनका भरपूर साथ दिया और वे इस ऐतिहासिक पल के गवाह और पात्र भी बने.

किरदार बनने के बाद उन्हें भी गर्व महसूस हुआ. दरअसल, ये अनोखी और इतिहास रचने वाली शादी बिहार के औरंगाबाद के हसपुरा में हुई. यह शादी है अनीश केशरी और सिमरन केशरी की. इस शादी की सभी रस्में, रीति-रिवाज और परंपराएं आम हैं लेकिन इस दौरान कुछ ऐसा हुआ जिसने इस शादी को खास बना दिया।

दरअसल, लड़का और लड़की दोनों सामाजिक कार्यकर्ता हैं। सामाजिक कार्यों के दौरान दोनों एक-दूसरे के करीब आए। दोनों को प्यार हो गया. दोनों की जाति एक ही थी. इसलिए दोनों के परिवारों ने उनके रिश्ते को खुशी-खुशी स्वीकार कर लिया। लव मैरिज अरेंज मैरिज में बदल गई.

दोनों की शादी के कार्ड के कवर पर जीवन रक्षा अभियान का संदेश था. सभी ने शादी का कार्ड पढ़ा. उस मैसेज पर सभी का ध्यान गया, लेकिन लोगों ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि शादी के दिन जो होगा वो न सिर्फ अद्भुत होगा बल्कि इतिहास भी रच देगा.

दरअसल, शादी के कार्ड के कवर पर 'खून दो, जिंदगी बचाओ' का नारा छपा था, जिसने लोगों का ध्यान तो खींचा, लेकिन इसके पीछे दूल्हा-दुल्हन की रहस्यमयी भावना को लोग तोड़ नहीं पाए। दहेज में खून का उपहार - चूँकि मामला प्रेम विवाह का न होकर अरेंज मैरिज का था।

शादी से पहले ही लड़के ने लड़की के परिवार वालों से कहा था कि वह प्रेम विवाह करता लेकिन आपने हमारे प्यार को स्वीकार कर लिया। इसलिए, मुझे लव अरेंज मैरिज होने से कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन इसमें उपहार की जरूरत होती है, दहेज की नहीं। उपहार के रूप में मुझे धन-दौलत नहीं बल्कि वो चाहिए जो किसी की जान बचाने में मदद करें।

कन्या पक्ष ही नहीं वर पक्ष भी मुझे वह बहुमूल्य वस्तु उपहार स्वरूप दे सकता है। वर पक्ष के लोग भी यह स्वीकार करेंगे कि वे भी मुझे अपना बहुत प्रिय मानते हैं। दरअसल, लड़के ने लड़की के परिवार को बताया था कि शादी के समय रक्तदान शिविर का आयोजन किया जाएगा और दूल्हा-दुल्हन पक्ष के जो भी लोग चाहें, वे स्वेच्छा से रक्तदान करेंगे।