अन्य समाचार

Amritsar बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का डीपीआर का काम हुआ पूरा, अब 13 स्टेशन बनाए जाएगे

Vikash Kumar
6 July 2022 4:28 AM GMT
Amritsar बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट का डीपीआर का काम हुआ पूरा, अब 13 स्टेशन बनाए जाएगे
x
केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी परियोजनाओं में से एक बुलेट ट्रेन (Bullet Train) की सौगात जल्द ही देशवासियों को मिलने वाली है

केंद्र सरकार की महत्वकांक्षी परियोजनाओं में से एक बुलेट ट्रेन (Bullet Train) की सौगात जल्द ही देशवासियों को मिलने वाली है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव (Railway Minister Ashwini Vaishnav) के मुताबिक, देश में बुलेट ट्रेन के लिए सात रूट तय किए गए हैं. जिनमें से 459 किमी लंबा दिल्ली-चंडीगढ़-लुधियाना-जालंधर-अमृतसर रूट भी शामिल है. ताजा जानकारी के अनुसार, इस बुलेट ट्रेन के इस रूट पर डीपीआर का काम पूरा कर लिया गया है. दिल्ली-अमृतसर हाईस्पीड बुलेट रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट (Delhi-Amritsar High Speed ​​Bullet Rail Corridor Project) के काम में काफी तेजी देखने को मिल रही है. इसके तहत एरियल सहित सभी आवश्यक सर्वे के काम पूरे कर लिए गए हैं.

आपको बता दें कि सर्वे के आधार पर मिले डेटा का विश्लेषण करने के बाद ही विस्तृत प्रकल्प रिपोर्ट (डीपीआर) बनाने का काम शुरू किया गया था. जिसे अब पूरा कर लिया गया है. डीपीआर का काम पूरा होने के बाद उम्मीद की जा रही है कि जल्द से जल्द दिल्ली-अमृतसर हाईस्पीड बुलेट रेल कॉरिडोर प्रोजेक्ट का जमीनी काम की शुरूआत हो जाएगी.

456 KM लंबे रूट पर बनेंगे 13 स्टेशन

बता दें कि दिल्ली-अमृतसर के रूट की प्रस्तावित लंबाई 456 किलोमीटर है. रेलवे लाइन दिल्ली (Delhi) से शुरू होते हुए आसौदा, रोहतक, जींद, कैथल, संगरूर, मलेरकोटला, लुधियाना, जालंधर व अमृतसर (Amritsar) तक जाएगी. इस रूट पर कुल 13 स्टेशन बनाए जाएंगे. वहीं दिल्ली-चंडीगढ़-अमृतसर बुलेट ट्रेन के रूट से चंडीगढ़ से जोड़ने के लिए संगरूर से अलग लाइन बनाई जाएगी. इस लाइन पर कुल 13 स्टेशन बनाए जाएंगे. जिसमें दिल्ली, आसौदा, रोहतक, जींद, कैथल संगरूर, मलेरकोटला, लुधियाना, जालंधर, अमृतसर स्टेशन शामिल होंगे.

Next Story