Delhi-Vadodara-Mumbai Expressway: दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सप्रेसवे किन किन राज्यों को जोड़ेगा आपस में, जानें जल्दी

 
 Delhi-Vadodara-Mumbai Expressway: दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सप्रेसवे किन किन राज्यों को जोड़ेगा आपस में, जानें जल्दी
Delhi-Vadodara-Mumbai Expressway: भारत के सबसे लंबे एक्सप्रेसवे दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सप्रेसवे का काम तेजी से चल रहा है और 2024 के अंत तक पूरा होने की उम्मीद है। पिछले साल अक्टूबर में पीएम मोदी ने इस एक्सप्रेसवे के वडोदरा-मुंबई ट्रेंच का उद्घाटन किया था।

यह भारत की अब तक की सबसे बड़ी एक्सप्रेसवे परियोजना है। इस प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 1 लाख करोड़ रुपये है. यह देश का सबसे लंबा और व्यस्ततम एक्सप्रेसवे होगा और इसकी लंबाई 1,350 किमी है. पिछले साल जनवरी में पीएम मोदी ने दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे के 246 किलोमीटर लंबे दिल्ली-दौसा-लालसोट ब्लॉक का उद्घाटन किया था.

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे मार्ग NHAI (भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण) द्वारा तैयार किया जा रहा है। इसका रखरखाव भी एनएचएआई द्वारा किया जा रहा है.

24 घंटे का सफर सिर्फ 12 घंटे में:
इस एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट के पूरा होने के बाद दिल्ली से मुंबई तक का सफर आसान हो जाएगा. अभी मुंबई से दिल्ली जाने में करीब 24 घंटे का समय लगता है, लेकिन इस एक्सप्रेसवे के पूरी तरह से शुरू होने के बाद यह समय सीधे 12 घंटे रह जाएगा. साथ ही इस एक्सप्रेसवे के शुरू होने के बाद बड़े शहरों की सड़क कनेक्टिविटी में काफी सुधार होगा.

दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे की मुख्य विशेषताएं:

दिल्ली-वडोदरा-मुंबई एक्सप्रेसवे भारत की सबसे लंबी एक्सप्रेसवे परियोजना है। इसकी कुल लंबाई 1,350 किमी है।
यह एक्सप्रेसवे देश के प्रमुख शहरों कोटा, इंदौर, जयपुर, भोपाल, वडोदरा और सूरत को जोड़ रहा है।

इस पूरे एक्सप्रेसवे पर 30 लेन के टोल प्लाजा बनाए जा रहे हैं. जिसके कारण वाहनों को गुजरते समय इंतजार करने का समय 10 सेकंड से भी कम रह जाता है।
इस एक्सप्रेसवे पर यात्रियों की सुविधा के लिए कार पार्किंग। ईंधन पंप, रेस्तरां, सेवा क्षेत्र, शौचालय, बच्चों के खेलने का क्षेत्र आदि की व्यवस्था की जा रही है।
यह भारत का पहला एक्सप्रेसवे होगा जिसमें 2.5 किमी वन्यजीव क्रॉसिंग होगी।

इस परियोजना को 52 पैकेजों में विभाजित किया गया है, जिनकी लंबाई 8 किमी से 46 किमी तक है।
यह एक्सप्रेसवे 93 पीएम गति शक्ति आर्थिक नोड्स, 13 बंदरगाहों, आठ प्रमुख हवाई अड्डों और 8 मल्टी-मॉडल लॉजिस्टिक्स पार्कों को कनेक्टिविटी प्रदान करेगा। यह आगामी ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे को भी जोड़ेगा।
इसे 8-लेन तक के लिए डिज़ाइन किया गया है जिसे ट्रैफ़िक के आधार पर विस्तारित किया जा सकता है

किन 6 राज्यों को जोड़ेगा यह:
यह एक्सप्रेसवे कुल छह राज्यों से होकर गुजर रहा है. इन राज्यों में दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और महाराष्ट्र शामिल हैं। यह एक्सप्रेसवे गुड़गांव से शुरू होकर राजस्थान के जयपुर और सवाई माधोपुर, मध्य प्रदेश के रतलाम और गुजरात के वडोदरा से होते हुए मुंबई तक पहुंचेगा.