Second Hand CNG Car Guide: अपनी पुरानी कार में लगवा रहे हैं CNG किट? भूल कर भी नजरअंदाज ना करें ये तमाम बातें
Second Hand CNG Car Guide: पेट्रोल-डीजल की कीमत को देखते हुए अब भारतीय ग्राहक वैकल्पि ईंधन की ओर बढ़ने लगे हैं और यही वजह है कि नई और सेकेंड हैंड CNG कारों की डिमांड में जोरदार इजाफा हुआ है. इस खबर में हम आपको बता रहे हैं यूज्ड CNG कार इस्तेमाल करते वक्त ध्यान देने वाली बातें.
 

Second Hand CNG Car Guide: पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों ने लोगों का ध्यान CNG की ओर खींचा है. पिछले कई दिनों में CNG गाड़ियों की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है. ऐसे में नई गाड़ी खरीदने वाले लोग तो CNG कारें खरीद रहे हैं लेकिन जो लोग सेकेंड हैंड कार खरीद रहे हैं वो बाहर से CNG फिट करा रहे हैं जो कि उनकी गाड़ी के लिए हानिकारक है. ऐसे में आइए जानते हैं कि सेकेंड हैंड CNG कार खरीदने वालों को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

फैक्ट्री फिटेड CNG कार खरीदना ज्यादा जरूरी
आप भी अगर इन दिनों सेकेंड हैंड CNG कार खरीदने का मन बना रहे हैं या यूज्ड CNG कार चला रहे हैं तो आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए. सबसे पहली बात तो ये है कि कोशिश करें कि आप फैक्ट्री फिटेड CNG कार ही खरीदें. क्योंकि कंपनियां अपनी CNG कारों की सेफ्टी पर खास जोर देती हैं और उन्हें इंजन के साथ ऐसे फाइन ट्यून करती हैं कि इंजन की सेहत भी सही रहती है और लोगों को अच्छी माइलेज के साथ ही सुरक्षा भी मिलती है.

समय-समय पर CNG किट करवाते रहें चेक
अगर आपने सेकेंड हैंड CNG कार खरीदी है या पहले से ही यूज्ड CNG कार इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपको समय-समय पर आफ्टर मार्केट CNG किट को चेक करवाते रहना चाहिए. यह चेक इसलिए किया जाता है कि कहीं से गैस लीक तो नहीं हो रही या सिलेंडर की क्वॉलिटी से तो समझौता नहीं हुआ है.

इस दौरान होते हैं अधिकतर हादसे
पिछले कुछ सालों में ऐसी कई रिपोर्ट्स आई हैं जिनमें कार की CNG किट में ब्लास्ट के बारे में बताया गया है. अधिकतर ब्लास्ट गैस रीफ्यूलिंग के समय होते हैं. इसीलिए आपने गौर किया होगा कि सिलेंडर भरते समय पंप वाले लोग सभी को कार से उतरने के लिए कहते हैं.

सिलेंडर भरवाते समय इन बातों का रखें ख्याल
CNG की कार में गैस रीफ्यूलिंग के समय कुछ खास बातों का ध्यान रखना होता है. जब भी आप गैस भरवाने CNG स्टेशन पर जाते हैं तो कार से उतरकर कुछ दूर चले जाएं. आप गैस रीफ्यूलिंग के वक्त कार में बिल्कुल न बैठें. इसके अलावा जब भी मौका मिले तो CNG सिलेंडर चेक करवा लें कि कहीं लीकेज तो नहीं है. इन सबके साथ एक और जरूरी बात कि आफ्टर मार्केट CNG किट अपनी कार में लगवाते समय गुणवत्ता का ध्यान रखें और कम कीमत वाली घटिया CNG किट न लगवाएं.