ChopalTv Chandigarh

कोरोना संक्रमण काल में एमडीयू को एडमिशन करने केे अपने पुराने सिस्टम को बदलना पड़ा है। अब दाखिले की प्रक्रिया में पहली बार पूरी तरह से ऑनलाइन होने जा रही है। अब आवेदन भरने से लेकर काउसंलिंग तक की प्रक्रिया में आवेदक सिर्फ ऑनलाइन ही भाग ले सकेंगे। इसके लिए विश्वविद्यालय की ओर से नया साफ्टवेयर डेवलप किया जा रहा है, ताकि स्टूडेंट्स को एक बार भी इस दाखिला प्रक्रिया के लिए विश्वविद्यालय में ना आना पड़े।

साफ तौर पर कहा जाए तो सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखते हुए स्टूडेंट्स की सुरक्षा में इस तरह का कदम उठाना पड़ रहा है। हालांकि विवि को इसमें ऑनलाइन फ्रॉड होने का भी खतरा बना हुआ है कि कहीं कोई जालसाजी कर दाखिला लेने का प्रयास ना कर ले।

इसी के चलते एमडीयू ने ऑनलाइन तरीके से आवेदन में फ्रॉड करने वालों से सख्ती से निपटने का भी फैसला ले लिया है। एमडीयू में करीब 22 साल से प्रवेश परीक्षा के जरिए ही एडमिशन प्रक्रिया चल रही थी, लेकिन अब कोरोना की वजह से इस पूरी प्रक्रिया को बदला गया है।

15 जुलाई तक तैयार कर दिया जाएगा सिस्टम

एमडीयू के यूसीसी डायरेक्टर प्राे. जीपी सरोहा ने बताया कि एमडीयू में नए वर्ष के दाखिलों की प्रक्रिया पहली बार पूरी तरह से online कर दी जाएगी। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए प्रयास रहेगा कि इस पूरी दाखिला प्रक्रिया केे दौरान सीधे तौर स्टूडेंट्स को विश्वविद्यालय में बुलाने की जरुरत ही ना पड़े।

इसके लिए नया साफ्टवेयर डेवलप किया जा रहा है। इस साफ्टवेयर को डेवलप करने का काम भी विवि के कंप्यूटर सेंटर की टीम ही लगी हुई है। बाहर से कोई साफ्टवेयर डेवलप नहीं करवाया जा रहा है। प्रयास रहेगा कि 15 जुलाई तक इस पूरी प्रक्रिया को सिरे चढ़ा दिया जाए। ये पूरी प्रक्रिया गुड फेद यानि विश्वास पर निर्भर रहेगी। यदि किसी आवेदक ने फर्जीवाड़ा किया तो उससे विवि के नियमों व कानूनी तरीके से ही निपटा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *