Home Big Breaking 30 सालों से औरत बनकर घूम रहा है ये शख्स, वजह जानकर आप रह जाएंगे हैरान

30 सालों से औरत बनकर घूम रहा है ये शख्स, वजह जानकर आप रह जाएंगे हैरान

2 second read

Chaupal Tv, UP

कोई आदमी तीस से ज्यादा सालों तक औरत के भेष में घूमता रहे, लेकिन आपने कम ही सुना होगा। लेकिन अब आपको हम ऐसे ही एक शख्स की खबर सुनाते हैं जो कि पिछले 30 सालों से औरत के लिबास में रहता है। हम बात कर रहे हैं उत्तर प्रदेश के जौनपुर निवासी चिंता हरण चौहान की। चिंता हरण मौत के डर से पिछले तीस सालों से औरत के भेष में घूम रहा है।

चिंता हरण उर्फ करिया के परिवार पर प्रेत आत्मा का साया था जिससे अब तक उनके परिवार के 14 लोगों की मौत हो चुकी है। चिंता शरण की छोटी ही उम्र में शादी हो गई थी लेकिन पत्नी की भी मौत हो गई जिसके बाद काफी समय पहले इन घटनाओं से तंग आकर चिंता हरण पश्चिम बंगाल भाग गया था वहां पर ईंट भट्टे पर मजदूरी करने लगा। यहां पर उसकी एक राशन वाले के साथ अच्छे संबंध बन गए तो राशन वाले ने अपनी बेटी का हाथ चिंता शरण के हाथ में थमा दिया, लेकिन कुछ समय बाद चिंता शरण वहां से भाग आया।

इस घटना के बाद चिंता हरण की पत्नी और उनके परिजनों ने खूब तलाशा लेकिन नहीं मिला। उनके पास घर का असली पता भी नहीं था, जिसके बाद परेशान होकर चिंता शरण की दूसरी पत्नी ने भी खुदकुशी कर ली। इस घटना के बाद करीब एक साल बाद फिर चिंता हरण पश्चिम बंगाल चले गए और वहां पर जाकर अपनी पत्नी को तलाशने की कोशिश की लेकिन पता चला की उसने खुदकुशी कर ली है। इस घटना से आहत होकर चिंता शरण वापस जौनपुर आ गए।

जौनपुर आने के बाद चिंता हरण की परिजनों ने तीसरी शादी कर दी। शादी के कुछ समय बाद ही चिंता हरण बीमार पड़ गया और उनके परिजनों की भी एक के बाद एक करके मौत होने लगी। उनके पिता राम जीवन, बड़ा भाई छोटाऊ, छोटा भाई बड़ाऊ, उसकी पत्नी इंद्रावती, उसके दो बेटे और तीसरी पत्नी और उसके तीन बेटियों और चार बेटों की मौत हो गई।

चिंता हरण बताते हैं कि बंगाली पत्नी उसके सपने में आती है और उसके द्वारा दिये गए धोखे को लेकर खूब रोती है। चिंता हरण ने एक दिन सपने में अपनी बंगाली पत्नी को अपने परिवार को बख्श देने की मांग की तो प्रेत आत्मा पिंघल गई और बोली कि मुझे सोलह सिंगार में अपने साथ रखो तो बख्श दूंगी।

चिंता हरण ने बताया कि करीब 30 सालों से अब इसी सोलह श्रंगार में वह रहते हैं, तब से उनके घर में किसी की अचानक मौत भी नहीं हुई है। इस घटना के बाद वह शारीरिक रूप से भी स्वस्थ है और उनके दो बेटे दिनेश और रमेश भी जिंदा है।

Check Also

ICCR में लोअर डिवीज़न क्लर्क समेत कई पदों पर भर्ती, यहां से करें आवेदन

Chaupal TV , Chandigarh भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद ने एलडीसी, सहायक, जूनियर स्टेनोग्राफ…