बस ड्राइवर की बेटी बनी IAS अधिकारी, बताया सफलता का राज, पढ़िए प्रीती हुड्डा की सफलता की कहानी
 

वो कहते है ना की हर इंसान में कोई न कोई खूबी होती है। सब की अपनी एक कहानी होती है। ऐसी ही एक प्रेरणात्मक कहानी है। प्रीती हुड्डा की हरियाणा के बहादुरगढ़ की रहने वाली है। प्रीति हुड्डा ने हिंदी मीडियम से पेरप और इंटरव्यू को देकर यूपीएससी एग्जाम को क्लियर किया है। इसके बाद वह जब आईएएस के लिए चुनी गई तो प्रीति अपने खुशी के आँसू भी नही थाम पाई। प्रीती के पिता दिल्ली परिवहन निगम में बस चलाते थे।

जब उन्होंने अपने पिता को आईएएस बनने की जनाकारी दी तो उसी समय वी बस चला रहे थे। उनके पिता को भी बहुत ज्यादा ख़ुशी हुई। इस बीच एक मीडिया चैनल से बात करते हुए प्रीति ने बताया है कि मुझे कभी भी इस बात की उम्मीद नही थी कि मैं सिविल सेवा की तैयारी करूंगी। मैं अपने परिवार में इतनी ज्यादा पढाई करने वाली पहलीं लड़की हूँ।

उन्होंने आग कहा है कि मेरे पापा का सपना था कि मैं आईएएस बनू। JNU में  एम फील करने के दौरान इस बारे में ज्यादा पता चला कि तैयारी कैसे की जाए और एम फील करने के बाद मैंने तैयारी भी शुरू कर दी।

यूपीएसी के एग्जाम की तैयारी को लेकर प्रीति हुड्डा ने बताया है कि लगातार ही 10 घण्टे की तैयारी के बजाए थोड़ा सोचकर दिशा तय करके पढाई करने की जरूरत भी होती है। तैयारी के साथ साथ ही मस्ती करना भी बहुत ज्यादा जरूरी है। तैयारी करते वक्त फिल्में देखना भी बहुत ज्यादा जरूरी है। कॉन्फिडेंस के साथ ही धीरे धीरे सेलेब्स को पूरा भी करे और बहुत सारी किताबे पढ़ने के बजाए सीमित ही पढ़िए। लेकिन उनको बार बार पढ़िए।

उन्होंने आगे बताया है कि मेरे पापा कभी भी मुंह पर तारीफ नही करते है लेकिन जब मेरा रिजल्ट आया और जब मैने उनसे कहा कि मैं आईएएस बन गई हूं तो उन्होंने मुझे कहा कि शाबाश बेटा, मैं बहुत खुश हूं।