Chopal tv health desk

मुस्कुराहट सबसे बड़ी नेमत है। मुस्कुराता चेहरा हर किसी को अच्छा लगता है और इसी मुस्कान का आकर्षण बढ़ाते हैं आपके साफ-सुंदर चमकते दांत, लेकिन कई बार हम दांतों की सफाई को अनदेखा कर देते हैं. इसका नतीजा होता है पीलापन.

 कारण

कुछ खाद्य पदार्थों में टैनिक एसिड उच्च मात्रा में होता है, जैसे कि रेड वाइन आदि। यह टैनिक एसिड दांतों के पीलेपन का कारण बन सकता है (2)। इसके अलावा, कॉफी और सोडे से भी दांत पीले हो सकते हैं। ये आपके दांतों के इनेमल में मिल जाते हैं और लंबे समय तक दांतों के पीलापन का कारण बन सकते हैं।

 

धूम्रपान: धूम्रपान पीले दांतों के मुख्य कारणों में से एक है। धूम्रपान से होने वाला दांतों का पीलापन जिद्दी दाग जैसा हो सकता है 

बीमारी: कुछ मेडिकल ट्रीटमेंट से भी दांतों का पीलापन बढ़ सकता है। जिन लोगों की कीमोथेरेपी चल रही होती है, उन्हें दांतों का पीलापन का सामना करना पड़ता है इसके अलावा, अस्थमा और उच्च रक्तचाप की दवाइयों से भी दांतों का पीलेपन बढ़ सकता है।

मुंह की सफाई में लापरवाही: मुंह की सफाई में लापरवाही भी पीले दांतों के कारणों में से एक है। नियमित रूप से और सही तरीके से ब्रश न करने से दांतों का पीलापन बढ़ता है। साथ ही दांत कमजोर होकर टूट भी सकते हैं।

फ्लोराइड: अत्यधिक फ्लोराइड का संपर्क भी दांतों का पीलापन बढ़ाने का एक कारण है, खासकर बच्चों में इसके लक्षण ज्यादा देखे गए हैं ।

आइए, अब दांतों को सुंदर और सफेद करने के कुछ घरेलू उपायों के बारे में बात करते हैं।

1.चारकोल

सामग्री :

चारकोल का पाउडर

टूथब्रश

विधि :

टूथब्रश को गीला करें और इस पर चारकोल लगाएं।

अब दो मिनट तक आराम-आराम से अपने दांतों को ब्रश से साफ करें।

अब पानी से अच्छी तरह से कुल्ला कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इसे हफ्ते में एक या दो बार करें।

फायदा :

चारकोल गंदगी को अवशोषित कर दांतों को प्रभावी ढंग से जल्दी सफेद करता है। यह कैविटीज को रोकने, बैक्टेरिया को दूर करने और दांतों व मसूड़ों को स्वस्थ बनाए रखने में उपयोगी है। आजकल तो बाजार में चारकोल वाले ब्रश भी उपलब्ध हैं (11)।

 

  1. स्ट्रॉबेरीज

सामग्री :

1 स्ट्रॉबेरी

1 चम्मच बेकिंग सोडा

विधि :

स्ट्रॉबेरी को मैश करके उसमें बेकिंग सोडा मिलाएं।

फिर इस मिश्रण को अपने दांतों पर लगाने के लिए टूथब्रश या अपनी उंगली का उपयोग करें।

इसे लगाकर कुछ मिनट के लिए छोड़ दें।

इसके बाद कुल्ला कर लें फिर रोज की तरह ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस विधि को सप्ताह में एक बार किया जा सकता है।

 

फायदा :

स्ट्रॉबेरी में मौजूद विटामिन सी मसूढ़ों को मजबूत करने के साथ ही दांतों का पीलापन भी घटाता है और दाग हल्के होते हैं। इसके नियमित उपयोग के बाद देखेंगे कि दांत और चमकीले हो गए हैं।

 

  1. नीम

सामग्री :

1 नीम का दातुन

 

विधि :

नीम के दातुन को गर्म पानी से धो लें।

फिर इससे दांत साफ करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस प्रकार दांत की सफाई हर दिन कर सकते हैं ।

 

फायदा :

नीम का उपयोग बहुत पहले से ही दांतों की सफाई के लिए किया जाता है। इसके नियमित उपयोग से आपके दांत और मसूड़े बिना किसी पीलेपन के स्वस्थ रहेंगे (13)।

 

  1. 4. हल्दी

सामग्री :

1 चम्मच हल्दी पाउडर

1 टूथब्रश

विधि :

अपने टूथब्रश पर हल्दी पाउडर छिड़कें और ब्रश करें।

इसके बाद इसे 2-3 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर अच्छी तरह से कुल्ला कर लें।

इसके बाद सामान्य टूथपेस्ट से ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

ऐसा करने से तुरन्त ही सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा। अगरग आवश्यक हो, तो कुछ दिनों के बाद इस दांतों की सफाई के नुस्खे को फिर से दोहराएं।

 

फायदा :

हल्दी के पाउडर का हल्का खुरदुरापन दांतों से गहरे दाग हटाने में मदद करता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीऑक्सिडेंट, एंटीमाइक्रोबियल, हेपेटोप्रोटेक्टिव, इम्युनोस्टिमुलेंट, एंटीसेप्टिक और एंटीमुटाजेनिक जैसे गुणों के कारण, यह दंत चिकित्सा में भी काफी उपयोगी है। यह आपके दांतों और मसूड़ों को मजबूत और बैक्टेरिया से मुक्त बनाता है, इसके अलावा नीम का अर्क, पाउडर और पेस्ट भी एंटीप्लेक के रूप में किया जाता है। एक शोध के अनुसार जिन बच्चों ने नीम की दातुन का उपयोग किया उनके दांत मजबूत थे (14)।

 

  1. 5. पेरोक्साइड से कुल्ला

सामग्री :

 

1 कप हाइड्रोजन पेरोक्साइड

1 कप गुनगुना पानी

विधि :

पानी के साथ हाइड्रोजन पेरोक्साइड मिलाकर एक घोल बना लें।

इस घोल से 30-40 सेकंड तक गरारे करें और इसे थूक दें।

फिर सादे पानी से कुल्ला कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस दांत साफ करने के तरीके को सप्ताह में दो बार दोहराएं। ध्यान रखें कि इसको निगलें नहीं, सिर्फ कुल्ला करें।

 

फायदा :

दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के तौर पर हाइड्रोजन पेरोक्साइड का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें ब्लीचिंग के गुण पाए जाते हैं। दांतों के डॉक्टर भी इलाज के दौरान इसका उपयोग करते हैं (15)।

 

  1. नारियल का तेल

सामग्री :

2 चम्मच नारियल का तेल

 

विधि :

अपनी उंगलियों से नारियल के तेल को अपने दांतों पर आराम-आराम से रगड़ें, लेकिन आप इसे निगले नहीं।

इसके बाद पानी से कुल्ला करें और फिर ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

रोजाना सुबह इस दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय को करें।

 

फायदा :

नारियल तेल में मौजूद लॉरिक एसिड में एंटी-माइक्रोबियल व एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। इस कारण से यह दांतों में प्लाक पैदा करने वाले बैक्टीरिया को खत्म करता है। यह आपकी सांसों को ताजा रखने में भी मदद करता है (16)।

 

  1. 7. ऑरेंज ऑयल

सामग्री :

ऑरेंज ऑयल की 2-3 बूंदें

1 टूथपेस्ट

1 टूथब्रश

विधि :

सबसे पहले अपने टूथब्रश पर ऑरेंज ऑयल लगाएं और फिर उस पर टूथपेस्ट लगाएं।

इसके बाद अपने दांत ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

एक या दो सप्ताह तक रोज सुबह इस दांतों की सफाई के नुस्खे को आजमाएं।

 

फायदा :

संरते के तेल को संतरे के छिलके से तैयार किया जाता है। यह दांतों को सफेद करने में सहायक होता है। साथ ही इसमें एंटीफंगल गुण भी होते हैं, जिस कारण से यह दांतों को ठीक रखने में मदद करता है (17), (18)।

 

  1. तिल का तेल

सामग्री :

1 बड़ा चम्मच तिल का तेल

 

विधि :

सुबह खाली पेट 15-20 मिनट तक तेल को अपने मुंह में धीरे-धीरे घुमाते रहें, लेकिन ध्यान रहे कि इसे निगलें नहीं।

इसके बाद तेल को थूक दें और पानी से कुल्ला कर लें। आप चाहें तो इस पानी में एक चुटकी नमक भी मिला सकते हैं।

इसके बाद रोज की तरह ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

हर सुबह एक बार इस प्रकार दांत की सफाई कर सकते हैं।

 

फायदा :

तिल के तेल में सेसमिन, सेसमोलिन और सेसमिनोल के साथ ही डिटॉक्सिफिकेशन, एंटीऑक्सिडेंट और एंटीबायोटिक गुण होते हैं। इन सभी गुणों के कारण तिल का तेल न सिर्फ दांतों के धब्बे साफ करता है, बल्कि उन्हें मजबूती भी देता है (19)।

 

  1. 9. संतरे का छिलका

सामग्री :

संतरे का छिलका

 

विधि :

संतरे के छिलके को अपने दांतों पर एक या दो मिनट के लिए रगड़ें।

इसके बाद रोज की तरह ब्रश पर टूथपेस्ट लगाकर ब्रश करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

आप हफ्ते में एक दिन छोड़कर दांत सफेद करने के तरीके को कर सकते हैं।

 

फायदा :

दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के रूप में संतरे के छिलकों को इस्तेमाल किया जा सकता है। इसमें ब्रोमेलैन नामक एक एंजाइम होता है, जो दांतों को सफेद करता है और यह एंटीबैक्टीरियल व एंटीमाइक्रोबियल के रूप में भी काम करता है (20)।

 

  1. सेंधा नमक

सामग्री :

थोड़ा-सा सेंधा नमक

2 चम्मच पानी

1 टूथब्रश

विधि :

सेंधा नमक को पानी में मिला कर पेस्ट बनाएं।

इस पेस्ट से अपने दांतों को ब्रश करें।

बचे हुए नमक-पानी के घोल में थोड़ा और पानी मिलाएं और इससे गरारे करें।

इसके बाद सादे पानी से गरारे करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस दांतों को चमकाने के घरेलू उपाय को हफ्ते में 2-3 बार करें।

फायदा :

सेंधा नमक दांतों पर बनने वाली पीलेपन की धुंधली परत को साफ करता है। साथ में ही यह जीवाणुरोधी भी है (21)।

 

  1. अमरूद की पत्तियां

सामग्री :

1-2 अमरूद के पत्ते

 

विधि :

अमरूद की पत्तीओं को पीस कर पेस्ट बना लें।

इस पेस्ट को अपने दांतों पर हल्के-हल्के रगड़ें और एक या दो मिनट के लिए छोड़ दें।

फिर कुल्ला करके दांतों की सफाई करें और टूथपेस्ट से ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इसे कुछ दिनों तक रोज करें।

 

फायदा :

अमरूद की पत्तियों का उपयोग दांतों की सफाई के घरेलू उपचार के लिए किया जाता है। इससे मुंह का संक्रमण और मसूड़ों की सूजन का इलाज किया जा सकता है। इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड्स दांतों पर होने वाले ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस के प्रभाव को कम करते हैं, जो दांतों के पीलेपन के कारणों में से एक है (22)।

 

  1. तेल से मंजन

सामग्री :

थोड़ा-सा नारियल, सूरजमुखी या नारंगी तेल

 

विधि :

सुबह मंजन करने के पहले थोड़ी देर तक तेल को दांतों पर मलें।

इसके बाद पानी से कुल्ला कर लें।

फिर ब्रश कर लें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस दांत साफ करने के तरीके को हफ्ते में 3-4 बार कर सकते हैं।

 

फायदा :

दांत की सफाई के उपाय में ऑयल स्विंग थेरेपी एक पारंपरिक प्रक्रिया है। इसमें मुंह के अंदर तेल को मलते हैं। यह चिकित्सा मुंह की बीमारियों को ठीक करने वाली है। विभिन्न प्रकार के तेल को दातों पर मलने से मसूड़े की सूजन को कम किया जा सकता है (23)।

 

  1. केले का छिलका

सामग्री :

केले का छिलका

1 कप गुनगुना पानी

विधि :

केले के छिलके को छोटे टुकड़ों में काट लें।

एक टुकड़ा लें और उसके अंदर के हिस्से को एक या दो मिनट तक अपने दांतों पर आराम-आराम से रगड़ें।

इसके बाद गुनगुने पानी से कुल्ला कर दांत की सफाई करें।

इसे कितनी बार करना चाहिए :

इस दांत साफ करने के तरीके को रोज कर सकते हैं।

 

फायदा :

केले के छिलके में मैंगनीज और पोटैशियम जैसे खनिज होते हैं, जो दांत सफाई के उपाय में से एक हैं। ये दांतों को सफेद करने में मदद करते हैं।

 

दांत साफ़ रखने के लिए कैसा ख़ान पान रखें

 सेब का सिरका(एप्पल सिडर विनेगर) आपके दांतों का पीलापन हटाकर, आपको सफेद और चमकदार मुस्कान दे सकता है. बस लगभग एक कप पानी में आधा चम्मच सेब का सिरका लें और अपने टूथब्रश की सहायता से दांतों पर इससे तब तक ब्रश करें, जब तक आपके दांत पूरी तरह से साफ न हो जाएं. दांतों के दाग हटने के साथ ही धीरे-धीरे आपके दांतों पर चमक भी आ जाएगी.

– नींबू के रस में नमक और थोड़ा सा सरसों का तेल मिलाएं और अब ब्रश की सहायता से दांतों को इससे ब्रश करें. दांतों में चमक लाने का यह बहुत ही पुराना और कामयाब तरीका है.

– केले के छिलके के अंदर के हिस्से को दांतों पर रगड़ें और बाद में गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें. दांतों का पीलापन कम धीरे-धीरे कम होने लगेगा.

सेब का सिरका इस्तेमाल करते समय इन बातों का रखें ध्यान:

– सेब का सिरका इस्तेमाल करते समय बॉटल को अच्छी तरह से हिलाएं, तभी इस्तेमाल करें.

– बगैर पानी में घोले इसका इस्तेमाल करना हानिकारक हो सकता है, क्योंकि यह प्राकृतिक अम्ल है. यानी यह एसि‍डिक नेचर का है.

– इसका अत्यधि‍क प्रयोग करने से बचें और दिन में एक बार से ज्यादा इसका इस्तेमाल न करें 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *