Chopaltv.com
कल का मौसम अपडेट- मॉनसून की विदाई, इन जगहों पर हो सकती है बारिश
 

उत्तर भारत के सभी हिस्सों में मॉनसून की विदाई के साथ ही पिछले 4 - 5 दिनों से मौसम साफ और शुष्क बना हुआ है, उत्तर पश्चिमी हवाएं चल रही है हवा में नमी की मात्रा अब काफी कम हो रही है साथ ही रात के तापमान में मामूली गिरावट से रात सुहावनी है लेकिन सुखी हवा, तेज़ धूप के चलते दिन के तापमान में कोई कमी नहीं है और हल्की गर्मी बरकरार है।

आज 10 अक्टूबर की शाम से कश्मीर के हिस्सों में हल्का पश्चिमी विक्षोभ का असर शुरू होगा, 11, 12 अक्टूबर को कश्मीर के ज्यादातर इलाकों में हल्की से मध्यम बारिश और ऊपरी पहाड़ियों पर ताज़ा बर्फबारी दर्ज की जाएगी, जम्मू वाले क्षेत्रो में भी हल्की से मध्यम बारिश या बादलों की गरज चमक के साथ तेज़ बारिश के आसार अगले 2 दिन में बन रहे है। हिमाचल में लाहौल स्पीति में हल्की बर्फबारी संभव है, इससे अलग हिमाचल और उत्तराखंड में इस पश्चिमी विक्षोभ का ज्यादा असर नही होगा। 

पश्चिमी विक्षोभ के पहाड़ी राज्यो के करीब आने से पाकिस्तान और भारत में बॉर्डर वाले इलाकों तक हवा की दिशा दक्षिण पश्चिम से हो सकती है लेकिन पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय नहीं है की वह मैदानी राज्यो में बड़े पैमाने पर बरसात कर सके, कल और परसो पंजाब में पठानकोट, अमृतसर, गुरदासपुर, होशियारपुर, तारण तारण, जालंधर के हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश की संभावना बन सकती है।

शेष पंजाब, हरियाणा, दिल्ली एनसीआर, उत्तरप्रदेश, राजस्थान के हिस्सों में मौसम मुख्यता शुष्क ही रहेगा, दिन में गर्मी है और पहाड़ों पर पश्चिमी विक्षोभ होगा तो 11 और 12 अक्टूबर को दोपहर से शाम के बीच हरियाणा और उत्तरी राजस्थान में केवल पृथक तौर बादलों का निर्माण संभव है पर एक दो जगह हल्की या मध्यम बारिश की संभावना बन सकती है, बड़े पैमाने पर या ज्यादा बरसात के कोई आसार नहीं है। 

13 से 17 अक्टूबर के दौरान उत्तर/उत्तर पश्चिमी हवा का प्रभाव बना रहेगा, रात यानी न्यूनतम तापमान में 3 से 4°c की कमी आने की संभावना बनेगी, दिन का तापमान भी 1 से 2°c वर्तमान स्तिथि से कम होगा, अधिक जानकारी आगे अपडेट में दी जाएगी।

देश भर में बने मौसमी सिस्टम 

पश्चिम और उत्तर-पश्चिम दिशा से लगातार शुष्क हवाओं के कारण, अगले चौबीस घंटे के दौरान गुजरात, छत्तीसगढ़ और पूरे मध्य प्रदेश, झारखंड, बिहार और महाराष्ट्र, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्सों से दक्षिण-पश्चिम मानसून की वापसी के लिए परिस्थितियां अनुकूल हैं। ।

चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उत्तरी अंडमान सागर और आसपास के क्षेत्रों में औसत समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर है। इसके प्रभाव में अगले 24 से 48 घंटों के दौरान इसी क्षेत्र से कम दबाव का क्षेत्र बन सकता है। इसके और तेज होने और अगले 4 से 5 दिनों में पश्चिम उत्तर-पश्चिम दिशा में दक्षिण ओडिशा और उत्तरी आंध्र प्रदेश तट की ओर बढ़ने की उम्मीद है।

चक्रवात परिसंचरण पूर्वी मध्य अरब सागर के ऊपर है जो समुद्र तल से 4.5 किमी ऊपर तक फैला हुआ है और ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुका हुआ है। एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य पाकिस्तान और इससे सटे इलाकों पर बना हुआ है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल
पिछले 24 घंटों के दौरान, दक्षिण गुजरात, मध्य महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों, गोवा, तटीय कर्नाटक और तेलंगाना में अलग-अलग स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। तटीय ओडिशा, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, केरल, आंतरिक कर्नाटक, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों, तेलंगाना के शेष हिस्सों, आंध्र प्रदेश और असम के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

गुजरात, गंगीय पश्चिम बंगाल, सिक्किम, असम के शेष हिस्सों, लक्षद्वीप और दक्षिण राजस्थान के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, कर्नाटक, कोंकण और गोवा के कुछ हिस्सों, तमिलनाडु, लक्षद्वीप और केरल में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कहीं-कहीं भारी भारी बारिश होने की संभावना है।

तटीय आंध्र प्रदेश, रायलसीमा, तेलंगाना के कुछ हिस्सों, दक्षिण मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा और दक्षिण गुजरात के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। पूर्वोत्तर भारत, गंगीय पश्चिम बंगाल, तटीय ओडिशा, गिलगित-बाल्टिस्तान, मुजफ्फराबाद और जम्मू-कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों में हल्की बारिश संभव है।

राजस्थान के पश्चिमी हिस्सों और गुजरात के कच्छ क्षेत्र में दिन गर्म रहेगा। और वहां का तापमान 38 से 39 डिग्री के बीच रह सकते हैं।