Chopaltv.com
सीवरेज में दम घुटने से तीन युवकों की मौत, आज तीनों का हुआ अंतिम संस्कार
 

हरियाणा के पानीपत जिले में टीडीआई सिटी में सीवर की सफाई करने उतरे तीन कर्मचारियों की दम घुटने से मौत हो गई थी। शनिवार सुबह तीनों का अंतिम संस्कार कर दिया गया। घटना के बारे में जानकारी देते हुए सफाई कर्मचारी विक्की ने बताया कि उन्हें सीवर में ब्लॉकेज की सूचना मिली थी। शुक्रवार को इसकी सफाई करने के लिए एक कर्मचारी नीचे सीवर में उतरा।

लेकिन जब काफी देर तक भी वह वापस नहीं आया तो दूसरा कर्मचारी नीचे सीवर में उतरा। काफी इंतजार के बाद भी जब दोनों बाहर नहीं निकले तो तीसरा कर्मचारी भी सीवर में उतर गया। काफी देर तक जब तीनों बाहर नही आए तो सीवर तोड़कर सेफ्टी बेल्ट से तीनों को बाहर निकाला और बिना देरी किए अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने तीनों को मृत घोषित कर दिया।

हरियाणा के पानीपत में सीवरेज हादसे में इंजीनियर समेत तीन युवाओं की मौत हो गई है। हादसे में मजदूर जाहिद और साइट इंजीनियर सुमित मिटान की मौत हो गई। इन्हें बचाने उतरे एक राहगीर की भी जान चली गई। 

पानीपत के सेक्टर-23 स्थित टीडीआई सिटी में एसटीपी (सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट) के अंदर सीवरेज टैंक की जहरीली गैस से एक मजदूर, एक सिविल इंजीनियर और एक राहगीर की मौत हो गई।

हादसा शुक्रवार की दोपहर करीब ढाई बजे का है। जब एक मजदूर सीवरेज मेनहोल का ढक्कन खोलकर सफाई करने नीचे उतरा लेकिन बाहर नहीं आने पर इंजीनियर को नीचे उतरना पड़ा, वह भी बाहर नहीं आया। इसके बाद एक राहगीर उन्हें बचाने नीचे उतरा लेकिन वह भी बाहर नहीं आया।

panipat-police-tdi-city-suffocation-sewerage-panipat

आनन-फानन जेसीबी की मदद से सीवरेज को तोड़ा गया और तीनों को बाहर निकाला गया। स्थानीय लोगों ने उन्हें सामान्य अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने तीनों को मृत घोषित कर दिया। तीन में से राहगीर की पहचान नहीं हो सकी है। टीडीआई सिटी में शुक्रवार को एसटीपी के अंदर सीवरेज टैंक की सफाई करने की तैयारी चल रही थी। इसी बीच यूपी के जिला अमरोहा निवासी जाहिद (18) को सीवरेज टैंक में उतरकर सफाई के लिए कहा गया। 

सीवरेज टैंक का ढक्कन न खुलने पर पास में काम कर रहे सिविल इंजीनियर को बुलाया गया। सभी की मदद से ढक्कन खोला गया और जाहिद करीब 20 फीट गहरे सीवरेज टैंक में उतार गया। 10 मिनट बाद अंदर से कोई हलचल न होने पर आवाज लगाई गईं, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। जिसके बाद गांव बड़ौली निवासी सिविल इंजीनियर सुमित मिटान (26) नीचे उतरे लेकिन वह भी नीचे ही रह गए। फिर दोनों को देखने के लिए एक राहगीर नीचे गया लेकिन वह भी वापस नहीं आया। 

इसी बीच तीनों के अंदर फंस जाने से हड़कंप मच गया। हादसे की सूचना मिलते ही मौके पर एएसपी पूजा वशिष्ठ, चांदनीबाग थाना प्रभारी मंजीत सिंह सहित अन्य पुलिस अधिकारी-कर्मचारी पहुंचे। वहीं मौके पर एफएसएल की टीम भी पहुंची, जिन्होंने हादसे की जांच की और प्रत्यक्षदर्शियों के बयान दर्ज कराए।