Chopaltv.com
जनता को समर्पित होगी ये 7 सड़कें, डिप्टी सीएम करेंगे शिलान्यास और उद्घाटन, देखिये कौनसी हैं ये सड़कें
उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला फरीदाबाद में 7 सड़कों का करेंगे शिलान्यास व उद्घाटन
जिला परिवेदना एवं कष्ट निवारण समिति की बैठक की अध्यक्षता भी करेंगे
 

हरियाणा के उप-मुख्यमंत्री एवं फरीदाबाद जिला लोक सम्पर्क एवं परिवेदना समिति के अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला 11 अक्टूबर को जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक की अध्यक्षता करेंगे। उपमुख्यमंत्री दुष्यन्त चौटाला जिला लोक सम्पर्क जनपरिवाद सीमित की बैठक में आई शिकायतों का निवारण करेंगे।

इससे पूर्व, हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला और केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर जिला फरीदाबाद की सात विभिन्न सड़कों का उद्घाटन व शिलान्यास भी करेंगे। इनमें कुरेशीपुर से नगला गुजरां सड़क का चौड़ीकरण एवं सुदृढ़ीकरण, 

कुराली से भूखा वाया फैजपुर अटाली व मोटूका, शाहजहांपुर खादर से लतीफपुर सड़क का निर्माण, अरवा पंटून पुल से शाहाजापुर गांव फतेहपुर अट्टा तक सड़क निर्माण, फरीदाबाद जसाना, चिरसी, मंझावली के चार मार्गीय सड़कों का शिलान्यास करेंगे। इसी दिन उप-मुख्यमंत्री फरीदाबाद सूरजकुंड सड़क पर बने फुट ओवर ब्रिज का उद्घाटन भी करेंगे।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा है कि आउटसोर्सिंग पॉलिसी वन व पॉलिसी टू के लिए सभी नियुक्ति कौशल रोजगार निगम के माध्यम से की जाएगी। इससे जहां ठेकेदारी प्रथा के तहत कर्मचारियों के हितों से हो रहे खिलवाड़ को बंद किया जाएगा, अपितु योग्यता आधार पर युवाओं को रोजगार देना सुनिश्चित किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश में रोजगार में पारदर्शिता लाने के लिए मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा बिना पर्ची-बिना खर्ची की जो व्यवस्था बनाई गई है, उसी व्यवस्था का विस्तार करते हुए अब अनुबंध आधार पर नियुक्तियों में भी पारदर्शिता लाना सुनिश्चित किया जाएगा।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि प्रदेश में ठेका प्रथा को बंद करते हुए आउटसोर्सिंग के कर्मचारियों को कौशल रोजगार निगम के माध्यम से लगाया जाएगा। इसके लिए रोजगार निगम 1 नवंबर से अपना पोर्टल लांच करेगा, जिसके माध्यम से योग्य युवा आवेदन कर सकेंगे। 

उन्होंने कहा कि विभिन्न विभागों में ठेकेदार एजेंसियों के माध्यम से काम करने वाले कर्मचारियों द्वारा ईपीएफ, ईएसआई की सुविधा नहीं देने की शिकायत की जाती थी, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। 

उन्होंने कहा कि निगम के माध्यम से योग्य युवाओं को न केवल रोजगार दिया जाएगा, अपितु उनके कौशल विकास के लिए समय-समय पर प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि इससे युवाओं के भविष्य से होने वाले खिलवाड़ पर रोक लगेगी तथा गलत प्रथाएं बंद होंगी।