Chopaltv.com
अस्पताल में आई युवती को जबरन दबोचा, गले लगाने का किया प्रयास, CCTV में कैद, रोती हुई निकली बाहर
 

हिसार के अग्रोहा स्थित प्राइमरी हेल्थ सेंटर में युवती के साथ छेड़छाड़ का मामला सामने आया है। युवती के साथ छेड़छाड़ की घटना सीसीटीवी में कैद हो गई। इसके बाद युवती ने तो कोई शिकायत नहीं दी लेकिन पीएचसी इंचार्ज ने इस पर एक्शन लिया है।

जानकारी के मुताबिक अग्रोहा स्थित PHC केंद्र पर एंबुलेंस चालक बैठा था, उस वक्त एक युवती दवाई लेने के लिए आई थी। एंबुलेंस चालक ने मौका पाकर युवती को दबोच लिया। लेकिन ये घटना वहां लगे सीसीटीवी में कैद हो गई।

इसके बाद युवती ने किसी प्रकार की कोई शिकायत नहीं की लेकिन PHC इंचार्ज को इस बारे में जानकारी मिल गई जिसके बाद PHC इंचार्ज डॉ. संजीव सांवरिया ने घटना का वीडियो देखा और आरोपी एंबुलेंस चालक के खिलाफ केस दर्ज करवाया है।

Girl Molestation in Hisar

PHC इंचार्ज डॉ. संजीव सावरिया ने बताया कि वह अपने कार्यालय में हेल्थ सेंटर की सीसीटीवी चेक कर रहा था। तब उन्होने देखा कि 28 अगस्त को सुबह करीब 7 बजे एंबुलेंस चालक विजेंद्र ने दवाखाना खोला है। 

उस समय एक युवती भी वहां पर आ जाती है, जो वहां दवा लेने के लिए आई है। विजेंद्र उसे दवा देने के बहाने पकड़ लेता है और उसके साथ अश्लील हरकत करता है। जब युवती उससे खुद को छुड़वाकर बाहर जाने लगती है तो वह उसका रास्ता रोकता है। आरोपी विजेंद्र अग्रोहा के पास के गांव किरोड़ी का रहने वाला है।

इसके बाद युवती वहां से रोते हुए बाहर चली जाती है। इंचार्ज डॉ. संजीव के अनुसार, हो सकता है युवती ने किसी डर या परेशानी के कारण घटना के बारे में किसी के आगे जिक्र न किया हो, लेकिन हेल्थ सेंटर में एक एंबुलेंस चालक द्वारा किसी अकेली युवती के साथ इस तरह का व्यवहार करना आपराधिक घटना है। इसलिए पुलिस को शिकायत दी गई है। 

वायरल वीडियो में एंबुलेंस चालक बिजेंद्र नाबालिग को दवा देने के बहाने दवा स्टोर में बुलाकर गले लगाने का प्रयास करता दिखाई दे रहा है।

डॉ. संजीव ने बताया कि वह घटना के दिन बाहर थे। 30 अगस्त को अस्पताल आने पर उन्होंने दवा स्टोर की सीसीटीवी वीडियो को देखा तो घटना का पता चला। इसके बाद स्टाफ से इस बारे में पूछताछ की। अभी नाबालिग मरीज का पता नहीं चल पाया है कि वह कहां की रहने वाली थी। अग्रोहा पुलिस ने पोक्सो एक्ट और 354 धारा के तहत केस दर्ज कर लिया है।

इंचार्ज डॉ. संजीव सांवरिया के अनुसार आरोपी विजेंद्र इससे पहले भी एक लड़की के साथ इसी तरह की गलत हरकत कर चुका है, जिस बारे में अस्पताल में शिकायत भी आई थी, लेकिन आरोपी सुबूतों के अभाव में बच गया था।