Chopaltv.com
हरियाणा पुलिस का कारनामा, शिकायकर्ता को ही उठा ले गए, मारपीट की, तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड
 
 

हरियाणा के पंचकूला में वकील के घर जबरदस्ती घुसने और मारपीट करने के मामले में पुलिस के तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया है, वहीं पुलिस उपायुक्त पंचकूला ने सभी के खिलाफ विभागीय जांच करने के लिए एक अधिकारी नियुक्त किया है।

दरअसल पंचकूला के सेक्टर 4 में रहने वाले वकील दीपक अग्रवाल ने बताया कि उनके घर के बाहर किसी ने स्कूटर खड़ा कर दिया था, जिसके बाद वह स्कूटर काफी देर तक खड़ा रहा। 

जब संदिग्ध हालात में स्कूटर को घऱ के सामने खड़ा देखा तो एडवोकेट ने रात के समय डायल 112 पर इसकी सूचना दी। इसके बाद पुलिस के कर्मचारी मौके पर पहुंच गए और कार्रवाई करने की बजाय उनके घर में बने दफ्तर में वो आ गए।

घर में पुलिसकर्मियों ने आकर उल्टा शिकायतकर्ता वकील को ही धमकाना शुरु कर दिया और गाड़ी में बैठाकर ले गए। इसके काफी देर तक गाड़ी में ही उसे घुमाते रहे और काफी समय बाद सेक्टर 2 की पुलिस चौकी में ले गए।

पूरी रात पुलिस ने दीपक अग्रवाल को खाने-पीने के लिए कुछ नहीं दिया। सुबह दीपक अग्रवाल का बेटा उनकी बीपी की दवाई, पानी और खाना लेकर आया। मामले की सूचना पर पंचकूला बार एसोसिएशन के प्रधान सतीश कादियान, पंजाब हरियाणा हाई कोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष जीबीएसएस ढिल्लों पंचकूला पहुंचे। वकीलों के पुलिस चौकी पहुंचने के बाददीपक अग्रवाल को छोड़ा गया। उनके खिलाफ पुलिस ने केस भी दर्ज कर लिया।

दीपक का आरोप है कि पुलिस ने उनकी पिटाई भी की। वकीलों ने दीपक अग्रवाल का नागरिक अस्पताल सेक्टर 6 में मेडिकल करवाया। उनके मुंह पर काफी चोट लगी थी। पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष ढिल्लों ने बताया कि दीपक अग्रवाल को घर से अवैध तौर पर उठा लिया गया। रास्ते में पीटा और पुलिस चौकी में भी उनकी पिटाई की गई।

डीसीपी मोहित हांडा ने वकीलों को आश्वासन दिया है कि दर्ज केस को रद्द किया जाएगा और निष्पक्ष जांच की जाएगी। पुलिस उपायुक्त पंचकूला ने काम में लापरवाही और वकील से बदसलूकी करने पर तीन पुलिस कर्मचारियों ईएचसी वीरेंद्र सिंह, कॉन्स्टेबल दिलबाग सिंह और इकबाल खान को निलंबित कर दिया है।

इसके साथ ही सेक्टर 2 पुलिस चौकी प्रभारी मलकीत सिंह और एएसआई अनिल कुमार के भी मौके पर न पहुंचने के चलते लापरवाही बरतने के मामले में जांच के आदेश दिए हैं। एसीपी राजकुमार को मलकीत सिंह, अनिल कुमार, वीरेंद्र सिंह, दिलबाग सिंह और इकबाल खान के खिलाफ जांच सौंपी गई।