शादी में छपवाया ऐसा कार्ड, सोशल मीडिया पर जमकर हो रहा वायरल, जानिये क्या है खास ?
 

3 नए कृषि कानूनों के विरोध में शुरू हुआ किसानों का आंदोलन कानूनों की वापसी के बाद भी जारी है। इसके साथ ही हरियाणा में BJP और JJP नेताओं का विरोध भी जारी है। झज्जर के रहने वाले विश्व वीर जाट महासभा के अध्यक्ष ने 1 दिसंबर को खुद के परिवार में होने वाली शादी के कार्ड पर BJP, JJP और RSS के लोगों से शादी से दूर रहने का संदेश छपवाया है।

गांव मातनहेल निवासी विश्व जाट महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष तथा जय जवान जय किसान मजदूर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष एवं पूर्व ब्लॉक समिति चेयरमैन राजेश धनखड़ ने एक दिसंबर को होने वाली शादी के कार्ड पर ‘कृपया BJP, JJP व RSS के लोग इस शादी से दूर रहें’ छपवाया है। इसी कार्ड को बुधवार को सर छोटू राम जयंती पर रेवाड़ी के बावल स्थित अंबेडकर पार्क में पहुंचे किसान नेता युद्धवीर सिंह ने मंच पर प्रदर्शित कर भाजपा, जजपा व आरएसएस के विरोध में लोगों से एकजुट रहने का आह्वान किया।

एक साल से विरोध जारी
दरअसल, एक साल से भी ज्यादा समय से किसानों का आंदोलन चल रहा है। इस आंदोलन का सबसे ज्यादा असर पंजाब के बाद हरियाणा में ही है और आंदोलन की शुरुआत से ही किसान भाजपा और जजपा के नेताओं का विरोध करते आ रहे हैं। विरोध के चलते कई बार बवाल भी हो चुका है, लेकिन शादी के कार्ड पर भाजपा और जेजेपी नेता के विरोध में पंक्ति लिखने का यह पहला मामला है

टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर चल रहा आंदोलन
हरियाणा के सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन चल रहा है। 26 नवंबर को किसान आंदोलन को 1 साल पूरा होने वाला है। इस दिन दोनों ही बॉर्डर पर बड़ी संख्या में किसानों से पहुंचने की अपील की गई है। हालांकि 19 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा कृषि कानूनों के वापस लेने के ऐलान के बाद से आंदोलन के मंच से भाजपा और केन्द्र सरकार को कोसने के भाषण कम ही सुनाई दे रहे हैं।