भिवानी में बेटी के सिर सजा सेहरा, दूल्हे की जगह घोड़ी पर बैठकर निकाला दुल्हन का बनवारा
 

Chopal Tv, Bhiwani

अब तक आपने लड़कों के सिर पर सेहरा सजा देखा होगा लेकिन हरियाणा के भिवानी में एक बेटी सिर पर सेहरा सजाकर घोड़ी पर बैठी नजर आई। हरियाणा में बेटियों की पढ़ाई और शादी के लेकर काफी भेदभाव किया जाता है। लेकिन कुछ लोग इस परंपरा को तोड़ नई सोच को अपना रहे है।

बेटी को बेटे की तरह सम्मान दिया है भिवानी जिले के गांव गोपलवास में। दरअसल गांव में नीतू नाम की लड़की की शादी 22 नवंबर यानि आज हो रही है लेकिन शादी से पहले नीतू की बुआ के लड़के ने उसका धूमधाम से बनवारा निकाला।

नीतू का घोड़ी पर बैठा कर गांव में बाजे-गाजे के साथ बनवारा निकाला गया। उसके पिता मास्टर बलबीर ने बताया कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत उनकी तरफ से यह पहल की गई है ताकि लोग समाज में लड़कियों को मान-सम्मान दें।

नीतू का परिवार लड़का-लड़की में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं करता है। वो कहते हैं कि लड़का लड़की एक समान है। इसलिए देर रात को नीतू ने घोड़ी पर बनवारा निकालकर एक नई पहल की शुरुआत की। नीतू के बनवारे को देखने के लिए ग्रामीणों की भीड़ उमड़ गई।

नीतू के परिवार ने दहेज प्रथा व कन्या भ्रूण हत्या जैसी कुरीतियों को छोड़कर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश देते हुए बेटी को घोड़े पर बैठकर बाना निकाला। बता दें नीतू एमए की छात्रा है और राजस्थान के मखनी लुटाना गांव में दुल्हन बनकर जाएगी।

नीतू के पिता व माता का कहना है उन्होंने अपनी बेटी को लड़कों की तरह पाला है लेकिन उन्होंने अपनी बेटी को ये भी सिखाया है कि ससुराल में सास ससुर की सेवा, इज्जत करना पहली प्राथमिक है। उनकी सेवा करने से हमारा मन भी शांतिपूर्वक रहेगा।