सरपंच और VDO को रिश्वत लेते किया गिरफ्तार, बिल पास करवाने की एवज में ले रहे थे रिश्वत
 

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो बूंदी की टीम ने अजेता ग्राम पंचायत के सरपंच और सचिव को 50 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया है। दोनों आरोपी, परिवादी ठेकेदार के करीब 10 लाख रूपए के निर्माण कार्य के बिल पास करने की एवज में एक लाख रूपये रिश्वत की मांग कर रहे थे। आरोपी सरपंच बूंदी पंचायत समिति सरपंच संघ का अध्यक्ष भी बताया जा रहा है। गिरफ्तार आरोपियों से एसीबी टीम पूछताछ कर रही है। वहीं, दूसरी और आरोपियों के आवास और अन्य ठिकानों की तलाशी ली जा रही है।

एसीबी के डीजी बी.एल.सोनी ने बताया कि रिश्वत लेते आरोपी जगदीश प्रसाद मीणा निवासी ग्राम रामपुरा गेण्डोली बूंदी और धनराज मीणा निवासी कवरपुरा कापरेन बूंदी को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी जगदीश प्रसाद मीणा ग्राम पंचायत अजेता बूंदी का सरपंच है। अजेता बूंदी के वीडीओ के पद पर धनराज मीणा कार्यरत है। 

एसीबी बूंदी इकाई को परिवादी ने शिकायत दी। उसकी फर्म की ओर से ग्राम पंचायत अजेता में करवाए गए निर्माण कार्यों के बकाया बिल पास करने की एवज में रिश्वत मांगी जा रही है। सरपंच जगदीश प्रसाद मीणा और वीडीओ धनराज मीणा उससे 1 लाख रुपए की रिश्वत मांग कर परेशान कर रहे है। शिकायत पर एसीबी टीम ने सत्यापन कराया। शिकायत के सही निकलने पर ट्रैप का आयोजन किया।

एसीपी बूंदी जिलाप्रभारी ज्ञानचंद मीणा ने बताया कि ट्रैप की कार्रवाई के दौरान वीडीओ धनराज मीणा और सरपंच जगदीश प्रसाद मीणा सोमवार दोपहर अपनी-अपनी कार से खड़कड चौराहे पर आए। वीडीओ धनराज मीणा की कार में बैठकर परिवादी से 50 हजार रुपए लेकर जेब में रखे। 

रिश्वत लेते जैसे ही एसीबी टीम जैसे ही उन्हें पकड़ने दौड़ी तो उसे देखकर कार को रिवर्स में दौड़ाने लगा। एसीबी टीम ने तुरंत कार का गेट खोलकर वीडीओ को पकड़ लिया। कार रोकने पर उसे कार से उतारकर जेब में रखी रिश्वत की रकम को जब्त कर लिया।