Chopaltv.com
रोहतक में छह पहलवानों की हत्या का खुला राज, इस वजह से सुखविंद्र ने कर दिये थे छह मर्डर
Chaupal TV, Rohtak रोहतक के जाट कॉलेज के अखाड़े में 12 फरवरी को हुए हत्याकांड में आरोपित बरोदा निवासी कोच सुखवेंद्र ने पुलिस के सामने आरोप कबूल करते हुए, हत्याकांड की चौंकाने वाली वजह का खुलासा किया है। आरोपित ने बताया कि उसने हत्याकांड से तीन माह पहले नवम्बर में...
 
रोहतक में छह पहलवानों की हत्या का खुला राज, इस वजह से सुखविंद्र ने कर दिये थे छह मर्डर

Chaupal TV, Rohtak

रोहतक के जाट कॉलेज के अखाड़े में 12 फरवरी को हुए हत्याकांड में आरोपित बरोदा निवासी कोच सुखवेंद्र ने पुलिस के सामने आरोप कबूल करते हुए, हत्याकांड की चौंकाने वाली वजह का खुलासा किया है। आरोपित ने बताया कि उसने हत्याकांड से तीन माह पहले नवम्बर में ही हत्याकांड की साजिश रच ली थी। इसके लिए उसने यूपी के मुज्फ्फरनगर निवासी मनोज से नवंबर में ही 70 हजार में हथियार खरीद कर लाया था।

Coach Sukhvendra, a resident of Baroda, who was accused in the murder case in Rohtak’s Jat College arena on February 12, has revealed the shocking reason behind the murder, confessing the charge before the police. The accused told that he had hatched a conspiracy in November, three months before the murder. For this, he had bought weapons from Manoj, a resident of Muzaffarnagar in UP, in November itself for 70 thousand.

हत्याकांड की वजह बताते हुए सुखवेंद्र ने बताया कि डीपी मनोज और उसके बीच अखाड़े की कमाई के बंटवारे को लेकर मामला बिगड़ गया था। इसके बाद धीरे-धीरे मनोज ने सतीश और अन्य खिलाड़ियों को अपनी तरफ मिला लिया था और उसे अखाड़े से बाहर करने की साजिश कर रहे थे। इसके बाद उसने इस हत्याकांड के लिए यह खौफनाक साजिश रची थी।

रोहतक में छह पहलवानों की हत्या का खुला राज, इस वजह से सुखविंद्र ने कर दिये थे छह मर्डर

आपको बता दें कि इस हत्याकांड में सरगथल सोनीपत निवासी डीपी मनोज, उसकी पत्नी साक्षी, बेटे सरताज, पूजा, प्रदीप और सतीश समेत अमरजीत को गोली मार दी थी। घायलों को उपचार के लिए पीजीआई ले जाया गया, जहां पांच की मौत हो गई थी। अमरजीत घायल हो गया था। कुछ दिन तक उपचार के बाद सरताज की भी मौत हो गई थी।

हत्याकांड को अंजाम देने के लिए के बाद सुखवेंद्र अपने दोस्त मुकेश की कार लेकर फरार होना चाहता था। वह कार में खरखौदा सोनीपत क्षेत्र होते हुए दिल्ली भाग गया था। जहां दिल्ली पुलिस ने चेकिंग के दौरान उसे पकड़ लिया और फिर रोहतक पुलिस को सौंप दिया।

एसआईटी ने सुखवेंद्र को हथियार देने वाले मनोज को भी गिरफ्तार कर लिया था। मनोज का कहना है कि उसने दर्शन से हथियार खरीदे थे, अब दर्शन की तलाश में छापेमारी चल रही है। मामले में 24 जून को पहली सुनवाई होनी है।