हरियाणा में 3 से 5 मार्च तक जिले में चलेगा पल्स पोलियो अभियान, 139 मोबाइल टीमें व 71 ट्रांजिट टीमों का गठन, 165 सुपरवाइजर नियुक्त

 
 हरियाणा में 3 से 5 मार्च तक जिले में चलेगा पल्स पोलियो अभियान, 139 मोबाइल टीमें व 71 ट्रांजिट टीमों का गठन, 165 सुपरवाइजर नियुक्त

पल्स पोलियो प्रतिरक्षण कार्यक्रम के लिए गठित डिस्ट्रिक टास्क फोर्स की मीटिंग डीसी कैप्टन शक्ति सिंह ने कॉन्फ्रेंस रूम में ली। डीसी ने विभिन्न विभागों के अधिकारियों की पल्स पोलियो अभियान को लेकर ड्यूटी निर्धारित की। 

उन्होंने कहा कि देश पोलियो मुक्त घोषित किया जा चुका है। देश को पोलियो मुक्त रखने की दिशा में लगातार कार्य किया जा रहा है और इसी दिशा में कार्य करते हुए आगामी 3,4 व 5 मार्च को संपूर्ण झज्जर जिले में सघन पल्स पोलियो अभियान चलाया जाएगा। 3 मार्च को जिले के 610 बूथों पर 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों को पोलियो रोधी दवाई पिलाई जाएगी। 

इस दौरान जिले में 1 लाख 23 हजार 571 बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके बाद 4 व 5 मार्च को डोर-टू-डोर पोलियो अभियान चलाया जाएगा। 

डीसी ने बताया कि अभियान के लिए 139 टीमों की ड्यूटी निर्धारित की गई है। उन्होंने बताया कि शहरी व ग्रामीण दोनों क्षेत्रों में पल्स पोलियो अभियान के बारे में लोगों को जागरूक किया जा रहा है।  

डीसी ने बताया कि पल्स पोलियो अभियान को लेकर डिस्ट्रिक्ट टास्क फोर्स में 139 मोबाइल टीमें शामिल हैं जो विशेष रूप से चिन्हित किए गए क्षेत्रों को कवर करने का कार्य करेंगी। इसके अलावा 21 ट्रांजिट टीमें, 165 सुपरवाइजर भी नियुक्त किए गए हैं। 

डीसी ने बताया कि पोलियो देश को पोलियो मुक्त करने के लिए 1995 में पल्स पोलियो अभियान की शुरुआत की गई थी। देश में पोलियो अभियान को बेहतर तरीके से चलाया गया जिससे की वर्ष 2011 के बाद से देश में कोई पोलियो ग्रस्त मरीज नहीं मिला व वर्ष 2014 में भारत को पोलियो मुक्त होने का सर्टिफिकेट प्रदान किया गया था। 

उन्होंने कहा कि सरकार पोलियो अभियान को लेकर अति गंभीर है और समय-समय पर पल्स पोलियो अभियान चलाया जाता है। डीसी कैप्टन शक्ति सिंह ने बताया कि जिले में सघन तरीके से पल्स पोलियो अभियान चलाया जाएगा। इस अवसर पर एडीसी सलोनी शर्मा, सिविल सर्जन डॉ. ब्रह्मदीप सिंधु, जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी सुभाष भारद्वाज सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।