पीएम मोदी की विकसित भारत- विकसित हरियाणा का होगा लाइव प्रसारण

 
 पीएम मोदी की विकसित भारत- विकसित हरियाणा का होगा लाइव प्रसारण
उपायुक्त कैप्टन शक्ति सिंह ने आगामी 15 फरवरी को आयोजित होने वाले 15 वें राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की तैयारियों को लेकर लघु स्थित सभागार में अधिकारियों की मीटिंग ली। 

उपायुक्त ने मीटिंग के दौरान जिला बताया कि राष्ट्रीय कृमि दिवस पर एक से 19 आयु वर्ग के बच्चों को नि:शुल्क दवाई खिलाई जाएगी और संबंधित अधिकारी समुदाय में कृमि नियंत्रण को लेकर लोगों को जागरूक करें। उन्होंने कहा कि अधिकारी अपने क्षेत्र के सभी गैर पंजीकृत और स्कूल ना जाने वाले बच्चों की सूची तैयार करें।

डीसी ने बताया कि राष्ट्रीय कृमि मुक्त दिवस 15 फरवरी को होगा और 20 फरवरी, 2024 को मॉप-अप दिवस मनाया जाएगा। 

इस कार्यक्रम के तहत 1-2 वर्ष के बच्चों के लिए एल्बेंडाजोल टेबलेट की खुराक आधा टैबलेट, 3-19 वर्ष के बच्चों के लिए एक टेबलेट, प्रजनन आयु वर्ग (20-24 वर्ष) वाली महिलाओं (गैर-गर्भवती और गैर-स्तनपान कराने वाली महिलाओं ) के लिए एक टेबलेट का प्रावधान है। 

झज्जर में जिले में विभिन्न आयु वर्ग में करीब 2.5 लाख से 3 लाख बच्चों व महिलाओं को कृमि रोग से बचाव के लिए एल्बेंडाजोल की दवाई खिलाने का लक्ष्य रखा गया है। बैठक के दौरान सिविल सर्जन डॉ ब्रह्मदीप सिंह ने उपस्थित संबंधित विभागों के विभागाध्यक्षों से आगामी 15 फरवरी को आयोजित होने वाले कृमि दिवस को लेकर जागरूकता फैलाने का आह्वान किया।

डीसी ने मीटिंग के दौरान बीते वर्ष कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम में सराहनीय कार्य करने पर बहादुरगढ़ ब्लॉक शिक्षा अधिकारी मुन्नी देवी, सीडीपीओ अर्बन बहादुरगढ़ प्रियंका, स्वास्थ्य विभाग से डॉ सुंदरम एवं डॉ गगन जैन को सम्मानित किया गया। डीसी ने निर्देश जारी करते हुए कहा जिले में कोई भी लक्षित वर्ग के बच्चे एवं लाभार्थी महिला वंचित ना रहे यह सुनिश्चित किया जाए।

एल्बेंडाजोल सुरक्षित दवाई: डीसी
डीसी कैप्टन शक्ति सिंह ने कहा कि कृमि रोगों के नियंत्रण के लिए दी जाने वाली एल्बेंडाजोल पूरी तरह से सुरक्षित दवाई है। 

उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व शिक्षक अपनी निगरानी में ही प्रत्येक बच्चे को दवाई खिलाएंगे। जो बच्चे बीमार हैं या अन्य दवाई ले रहे हैं उन्हें ये दवाई नहीं खिलाई जाएगी। इस दवाई को बच्चे चबाकर भी खाने की सलाह दी गई है ताकि बच्चे के गले में दवाई ना अटके। 

उन्होंने कहा कि दवाई खाने के बाद बच्चों को जी मचलना, पेट में हल्का दर्द, उल्टी, दस्त व थोड़ी थकान महसूस हो सकती है, इसे लेकर बिल्कुल भी ना घबराएं और चिकित्सक की सहायता के लिए 108 पर फोन कर सकते हैं। बैठक में सीएमओ डॉ ब्रह्मदीप सिंह, डिप्टी सीएमओ डॉ मनोज सैनी, जिला अर्श कांउसलर संदीप जांगड़ा सहित अन्य विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।