Chopaltv.com
हरियाणा में स्मार्ट मीटर लगाने की योजना, खुद कंट्रोल कर सकेंगे बिजली बिल, सस्ती मिलेगी बिजली
 

Haryana Smart Meter Scheme- हरियाणा में बिजली निगम ने प्रदेश में करीब 72 लाख स्मार्ट मीटर लगाने का लक्ष्य रखा है। इसे पांच सालों में पूरा करना है। इसके लिए हर साल 15 लाख मीटरों को स्मार्ट मीटरों में बदलने की तैयारी है।

निगम के मुताबिक प्रदेश में करीब 72 लाख बिजली उपभोक्ता हैं। ये उपभोक्ता अगले पांच सालों में करीब आठ लाख और बढ़ सकते हैं, ऐसे में कुल संख्या 80 लाख हो सकती है। 

बिजली मीटर स्मार्ट करने का सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि उपभोक्ता को बिजली बिल में पांच फीसदी की छूट दी जाएगी। उपभोक्ता अपने मीटर को पोस्टपेड की बजाए प्री-पेड में बदल सकेंगे। कई उपभोक्ता ऐसे होते हैं जो 15 दिन घर नहीं होते, ऐसे में उनका बिल कम आएगा। 

मीटर को वे बंद कर सकेंगे और जब घर लौट आएंगे तो मीटर को फिर से चलाकर बिजली सप्लाई शुरू कर सकेंगे। मीटर में रीडिंग को लेकर उपभोक्ताओं की शिकायत दूर हो जाएगी, क्योंकि हर समय उपभोक्ता को यह पता चलता रहेगा कि उसके मीटर में मोबाइल सिम की तरह कितनी राशि बाकी है।

हरियाणा में स्मार्ट मीटरों की प्रक्रिया अब तेज हो रही है। प्रदेश के कई जिलों में स्मार्ट मीटर लगाने का काम चल रहा है वहीं प्रदेश के कई हिस्सों में अब स्मार्ट मीटर लगाने का काम जोर पकड़ने वाला है। इन मीटरों के लगने के बाद आपकी बिलिंग व्यवस्था में भी बदलाव होने वाला है।

गुरुग्राम, फरीदाबाद, करनाल और पंचकूला के बाद अब हिसार में भी स्मार्ट मीटर लगाने की योजना शुरु हो गई है। रविवार को पहला स्मार्ट मीटर निगम के एमड एमडी फूलचंद मीणा के क्वार्टर पर लगाया गया है। इसके संचालन के बाद आगे की प्रक्रिया शुरु की जाएगी।

हिसार में पहला स्मार्ट मीटर लगने के बाद अब पूरे सर्कल में जल्द ही इन मीटरों के लगने की प्रक्रिया तेज हो सकती है। इन मीटरों के आने के बाद बिजली की खपत और बिलों को लेकर होने वाली समस्याएं भी खत्म होने की संभावना है।

बिजली विभाग के एक अधिकारी चौपाल टीवी पर बताते हैं कि स्मार्ट मीटर हाई टैक्नॉलोजी से युक्त हैं। इन मीटरों को अभी तक प्रदेश के चार शहरों में लगाया जा रहा है, धीरे धीरे ये प्रक्रिया प्रदेश के सभी जिलों में लागू हो जाएगी।

smart meter scheme in haryana 30 august 2021

बिजली अधिकारियों के मुताबिक स्मार्ट मीटरों को प्रीपेड मीटरों में कन्वर्ट किया जा सकता है जिसमें मोबाइल की तरह पहले रिचार्ज करना होगा। जब आपके खाते में राशि खत्म होने वाली होगी तो आपको अलर्ट मिलता रहेगा और आप अपना रिचार्ज दोबारा करवान सकते हैं।

शुरुआती तौर पर प्रीपेड मीटरों पर सरकार की तऱफ से 5 फीसदी बिल कटौती का फैसला लिया है। इसमें उपभोक्ताओं को लाभ मिलने की संभावना है। निगम के अलावा सरकार का भी मानना है कि स्मार्ट और प्रीपेड मीटर लगने के बाद बिजली चोरी से निजात मिलेगी वहीं बिजली की लागत का भी पता चलता रहेगा।

बिजली निगम की तरफ से प्रदेश में स्मार्ट मीटर लगाने का ठेका कंपनियों को दिया गया है। बताते हैं कि इन मीटरों को लगाने की प्रक्रिया अभी तक काफी ढीली रही है, चार सालों में 30 लाख स्मार्ट मीटर लगाने की योजना थी, लेकिन अब तक महज 3 लाख मीटर की लग पाएं हैं।

Smart And Prepaid Meter Scheme in Haryana

स्मार्ट मीटर की खासियतें
इसमें बिजली चोरी करने की संभावना बिल्कुल खत्म हो जाती है।
स्मार्ट मीटर के साथ छेड़छाड़ करते ही यह अपने आप बंद हो जाएगा।
स्मार्ट मीटर के साथ छेड़छाड़ पर सीधा बिजली दफ्तर में अलार्म होगा।
रिमोट से छेड़छाड़ पर मीटर अपने आप ही बंद हो जाएगा।

कैसे कर सकते हैं भुगतान ?
स्मार्ट मीटर के उपभोक्ता को एक यूनिक कोड देकर डीएचबीवीएन स्मार्ट मीटर ऐप से जोड़ा जाएगा। 
हर उपभोक्ता को विशेष नंबर मिलेगा। 
हर दिन से लेकर हर माह की बिजली खपत सहित अन्य जानकारियां ऐप पर अपलोड होंगी। 
इसके इलावा स्मार्ट मीटर उपभोक्ता के पास पोस्टपेड, प्रीपेड व नेट मॉनिटरिंग की सुविधा भी होगी। 

मोबाइल की तरह होगा रिचार्ज
इस मीटर को मोबाइल की तरह प्रीपेड रिचार्ज भी करवाया जा सकेगा व मंथली बिलिंग का ऑप्शन भी उपभोक्ता को मिलेगा। 
उपभोक्ता की रोजाना, मासिक खपत यूनिट को बिजली निगम के कार्यालय में बैठे कर्मचारी निकाल सकेंगे। 
उसके लिए कर्मचारियों को मीटिर रिडिंग के लिए घर-घर जाने की जरूरत नहीं होगी। इससे पारदर्शिता आएगी। 
स्मार्ट मीटर में मेमोरी कार्ड उपलब्ध होगा।

READ THIS – हरियाणा में डीसी रेट नौकरियां-  CLICK HERE