हरियाणा में ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 872 मोबाइलों समेत 86 लाख की संपत्ति जब्त, ठगी का तरीका जानकर रह जाएंगे हैरान

 

Chaupal Tv, Kaithal

कैथल में स्पेशल साइबर सैल की टीम ने दो युवकों को ऑनलाइन ठगी के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से 872 स्मार्ट फोन, 15 लाख की नकदी समेत कुल 86 लाख 56 हजार 439 रुपये की संपत्ति बरामद की है।

एसपी लोकेंद्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि यह गिरोह ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्म से शातिर तरीके से मोबाइल खरीदते थे और उसके बाद दिल्ली की गफ्फार मार्केट में बेच देते थे।

साइबर सैल की टीम ने सुधीर नारंग और रजत नामक दो युवकों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से लाखों रुपये के मोबाइल फोन बरामद किये हैं। आरोपी ऑनलाइन शॉपिंग एप की क्लोनिंग करके मोबाइल खरीदते थे और उन्हे दिल्ली में बेच देते थे।

पुलिस ने बताया कि इस गिरोह के लोग जीएसपी पोर्टल से जीएसटी नंबर चोरी करते थे, जिसके बाद अमेजन बिजनेस के नाम से एक फर्जी आईडी तैयार करके इस काम को अंजाम देते थे।

इन्होंने इंटरनेट शापिंग एप के एक-दो नहीं, बल्कि थर्ड पार्टी क्लोनिंग एप से सैकड़ों क्लोन एप तैयार किए और उनसे हजारों की संख्या में फर्जी आइडी और पतों से कोड डालकर बार-बार मोबाइल खरीदे। पकड़े गए दोनों युवक इस गिरोह के सदस्यों से मोबाइल खरीदते थे और उन्हें बिना बिल आगे बेच कर कई गुणा मुनाफा कमा रहे थे। इनमें कैथल की बैंक कालोनी निवासी रजत कुमार और अमरगढ़ कालोनी निवासी सुधीर नारंग शामिल हैं।

हरियाणा में ऑनलाइन ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश, 872 मोबाइलों समेत 86 लाख की संपत्ति जब्त, ठगी का तरीका जानकर रह जाएंगे हैरान

अलग-अलग कंपनियों के मोबाइल फोनों को बिना बिल के ही रजत व सुधीर नारंग जैसे लोग दिल्ली की गफ्फार मार्केट में नकद रुपयों में बेच अमेजन गिफ्ट वाउचर खरीदकर बड़े पैमाने पर अवैध तरीके से रुपये कमाते हैं। इसके लिए गिरोह के सरगना मोबाइल बेचने वालों को मोटा कमीशन भी देते हैं। इनके पास अलग-अलग जिलों व राज्यों से लोग फोन बेचने व खरीदने के लिए आते हैं।

पुलिस को सूचना मिली थी कि रजत अपने घर से बड़ी संख्या में फोन लेकर कहीं बेचने के लिए जाने वाला है। एसपी ने बताया कि पुलिस ने रजत के मकान पर दबिश दी। जहां पिट्ठू बैग लगाकर अपने दोनों हाथों में बैग लिए अपने मकान से बाहर निकल रहा था। उसे वहीं दबोच लिया गया।

पिट्ठू बैग से 15 लाख 15 हजार रुपये और दोनों बैगों से 100 नए मोबाइल फोन बरामद हुए। जांच में रजत के मकान से प्लास्टिक के कट्टों से रियलमी, रेडमी, इन्फीनिक्स, सैमसंग, पोक्को, वन प्लस, ओप्पो, एमआइ, नार्जो सहित विभिन्न कंपनियों के 772 अन्य मोबाइल फोन बरामद हुए। जो करीब 71 लाख 41 हजार 439 रुपए मूल्य के हैं।

इस तरह उससे कुल 872 मोबाइल फोन बरामद हुए। इनके बारे में वह कोई बिल या रसीद नहीं दिखा सका। पूछताछ के दौरान रजत ने सुधीर नारंग के बारे में बताया। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।