हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम को दो भ्रष्टाचारी पकड़ने में मिली सफलता

 शिकायतकर्ता से जीएसटी जुर्माना कम करने के बदले में की जा रही थी रिश्वत की मांग
 
 हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम को दो भ्रष्टाचारी पकड़ने में मिली सफलता

चंडीगढ़ 10 फरवरी। हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम द्वारा देर सांय पानीपत जिला से दो आरोपियों को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया। इनमें से एक आरोपी पंकज खुराना , चार्टर्ड अकाउंटेंट है जिसे 7 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा गया है

जबकि जीएसटी कार्यालय पानीपत में कार्यरत प्रेम राज राणा, सुपरीटेंडेंट ( राजपत्रित अधिकारी) की गाड़ी से साढे तीन लाख रुपए बरामद किए गए है। एसीबी द्वारा दोनों आरोपियों की गिरफ्तारी करते हुए मामले की जांच की जा रही है।

इस बारे में जानकारी देते हुए सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम को सूचना प्राप्त हुई थी कि जीएसटी कार्यालय में कार्यरत सुपरीटेंडेंट तथा चार्टर्ड अकाउंटेंट(निजी) द्वारा जीएसटी जुर्माने को कम करने के बदले में 12 लाख रुपये की रिश्वत की मांग की जा रही है।

प्राप्त शिकायत के आधार पर तथ्यों की जांच पड़ताल की गई और आरोपी प्रवीन खुराना, चार्टर्ड अकाउंटेंट को 7 लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया जबकि सुपरीटेंडेंट प्रेमराज राणा की गाड़ी से 3 लाख रुपए बरामद किए गए। इस मामले में सभी आवश्यक सबूत जुटाते हुए जांच पड़ताल की जा रही है।

आरोपी प्रेम राज राणा द्वारा चार्टर्ड अकाउंटेंट प्रवीन खुराना के माध्यम से रिश्वत की मांग की जा रही थी जिसमें से राजपत्रित अधिकतर अधिकारी द्वारा ₹300000 की रिश्वत 7 फरवरी को ली गई थी जिसे उसकी निजी गाड़ी से बरामद किया गया है इसके अलावा ₹50000 की अतिरिक्त राशि राजपत्रित अधिकारी की गाड़ी से बरामद की गई है।

इस मामले में आरोपी के खिलाफ करनाल के एंटी करप्शन ब्यूरो पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करते हुए उसकी गिरफ्तारी की गई है। ब्यूरो के प्रवक्ता ने आमजन से अपील करते हुए कहा कि यदि कोई भी अधिकारी अथवा कर्मचारी सरकारी काम करने की एवज में रिश्वत की मांग करता है तो तुरंत इसकी जानकारी हरियाणा एंटी करप्शन ब्यूरो के टोल फ्री नंबर -1800-180-2022 तथा 1064 पर देना सुनिश्चित करें।