रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, 300 से लेकर 575 रुपये तक किराया हुआ कम, यहां देखें पूरी लिस्ट
 

अगर आप ट्रेन में सफर करते है तो आपके लिए खुशखबरी है। अब रेल यात्रियों को सफर के लिए ज्यादा पैसे नहीं चुकाने पड़ेंगे। भारतीय रेल मंत्रालय ने ट्रेनों का स्‍पेशल दर्जा हटा दिया है जिसके बाद यात्रियों का काफी फायदा हुआ है। इससे ट्रेनों के किराये में काफी ज्यादा कमी आई है।

दरअसल रेल मंत्रालय ने रोजाना 432 ट्रेनों से स्पेशल का दर्जा हटा है जिसके बाद से 300 रुपये से लेकर 570 रुपये तक किराया घट गया है। लेकिन जो स्पेशल ट्रेनों का टैग हटाने के लिए टारगेट रखा गया था वो पूरा नहीं हो पाया लेकिन रेल यात्रियों को काफी फायदा हुआ है।

रेल मंत्रालय का कुल लक्ष्य 3110 स्पेशल ट्रेनों का टैग बदले का था लेकिन पिछले तीन दिनों में 1866 स्पेशल ट्रेनों का टैग बदला जा चुका है। ट्रेनों का नंबर बदलते ही अब प्रथम श्रेणी के एसी के साथ ही स्लीपर कोच भी लगने लगे हैं।

गौरतलब है कि प्रतिदिन 432 ट्रेनों टैग हटाने का लक्ष्य प्राप्त करने के लिए दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता और मुंबई में साफ्टवेयर अपडेट किया जा रहा है। रोजाना छह घंटे इसी काम पर लगे हैं। रात साढ़े ग्यारह बजे से सुबह साढ़े पांच तक नंबर बदलने का काम चल रहा है, जिस कारण स्टेशन से टिकट नहीं मिल पा रहा है।

ट्रेनों का नंबर बदल जाने के बाद ट्रेन संख्या 12420 नई दिल्ली से लखनऊ तक जाने वाली गाड़ी में प्रथम श्रेणी एसी को कोच जोड़ दिया है। इसी प्रकार अमृतसर से हावड़ा जाने वाली ट्रेन संख्या 12332 हिमगिरी एक्सप्रेस में किराया कम होने के साथ-साथ प्रथम श्रेणी एसी व स्लीपर का कोच भी लगने लगा है।

टिकटों का किराया

ट्रेन संख्या      किराया सेकेंड एसी     किराया चेयरकार      किराया स्लीपर

02420-         1670 रुपये           920 रुपये          210 रुपये

12420-         1250 रुपये          725 रुपये           195 रुपये

02332-         3550 रुपये          2485 रुपये          500 रुपये

12332-         2980 रुपये          2065 रुपये          485 रुपये

02232-         1895 रुपये          1360 रुपये          250 रुपये

12232-         1445 रुपये          1045 रुपये          235 रुपये

अंबाला मंडल रेल प्रबंधक जीएम सिंह ने कहा कि "ट्रेनों का नंबर बदल जाने से किराये में भी कमी आई है। पहले जिन ट्रेनों को स्पेशल का दर्जा देकर चलाया गया था अब उन्हीं के नंबर बदले जा रहे हैं। रेल मंत्रालय के इस फैसले से यात्रियों को काफी राहत मिली है।