Chopaltv.com
हरियाणा में बकरी के दूध के लिए मची मारामारी, 300 रुपये किलो से भी हुआ महंगा, जानिये वजह
 

हरियाणा के कई जिलों में डेंगू के बढ़ते प्रकोप से आम लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं अस्पतालों में डेंगू के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। अस्पतालों में मरीजों की लंबी लाइनें लगी हुई है।

डेंगू के बढ़ते कहर के साथ ही जिले में बकरी के दूध की मांग भी बढ़ रही है। पहले बकरी का दूध महज 50 रुपये लीटर के हिसाब से मिलता था। वहीं दूध अब 300 से 400 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से मिल रहा है। 

आम लोगों का मानना है कि बकरी का दूध प्लेटलेट्स बढ़ाने में फायदेमंद है, जबकि चिकित्सक इस बात को नकार रहे हैं। लालावास निवासी बकरी पालक सोमवीर, श्याम, किसान नरेश, अजय ने बताया कि डेंगू के चलते बकरी के दूध की मांग बढ़ गई है। एक महीने पहले 50 रुपये लीटर बिकता था, जो अब 300 रुपये तक बिक रहा है।  

नागरिक अस्पताल के सीनियर फिजिशियन डॉ. यतिन गुप्ता ने बताया कि डेंगू के दौरान मरीज के प्लेटलेट्स कम होने पर उसके मसूड़ों से खून आ सकता है और शरीर पर निशान भी बन जाते हैं। ऐसे में चिकित्सक से चेकअप जरूर करवाएं। सामान्य व्यक्ति की प्लेटलेट्स डेढ़ लाख से अधिक होती हैं।

डेंगू के मरीज की प्लेटलेट्स कम होती हैं तो ऐसे में 24 से 48 घंटे के अंतराल में मरीज की सीबीसी जांच जरूर करवाएं। प्लेटलेट्स कम होने पर अधिक से अधिक पानी, शिकंजी, ओआरएस, नारियल पानी, पपीते के पत्ते का रस पीते रहें। फल में पपीता और कीवी का सेवन फायदेमंद है। 

इसमें प्लेटलेट्स बढ़ाने में बकरी का दूध कोई साइंटिफिक प्रमाण नहीं है। दूध कोई भी हो उसका सेवन करते रहें। साथ ही ध्यान रखें की डेंगू में एक बार बुखार कम हो जाता है तो दवा और अन्य सावधानियां बंद न करें, क्योंकि डेंगू छह से सात दिन बाद भी हो सकता है। ऐसे में सावधानी रखें दवा, पौष्टिक आहार का सेवन और अधिक से अधिक आराम करें।

डेंगू के सामान्य लक्षण
सामान्य तौर पर डेंगू मरीज में मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, शरीर पर पड़ने वाले लाल निशान जो थोड़े समय बाद ठीक होने के बाद पुन वापस भी आ जाते हैं, तेज बुखार, बहुत तेज सिर दर्द, आंखों के पीछे दर्द, उल्टी आना और चक्कर महसूस होना, मसूड़ों से खून आना आदि लक्षण हैं। ऐसे लक्षण होने पर तुरंत चिकित्सक से चेकअप करवाएं।