हरियाणा

हरियाणा में किसानों ने शुरू किया विरोध प्रदर्शन, धान खरीद को लेकर अपनी मांगों के साथ दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किया ब्लॉक, यहां पढ़ें पूरा मामला?

Editor Saab
23 Sep 2022 12:19 PM GMT
हरियाणा में किसानों ने शुरू किया विरोध प्रदर्शन, धान खरीद को लेकर अपनी मांगों के साथ दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किया ब्लॉक, यहां पढ़ें पूरा मामला?
x

हरियाणा में धान की सरकारी खरीद शुरू होने में देरी के कारण किसानों ने आज कुरुक्षेत्र के शाहबाद में दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे-44 (जीटी रोड) को जाम कर दिया है। यहां पिछले 2 घंटो से यातायात व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है और बारिश के कारण चीज़े और भी खराब होते दिख रहे है। सबसे पहले भाकियू के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढ़ूनी की सरकार और प्रशासन के अधिकारियों के साथ बैठक हुई, इस बैठक में ये उम्मीद जताई जा रही थी कि सब कुछ सही हो जायेगा पर दोनों पक्षों की बातचीत विफल रही है और किसानों की तरफ से गुरनाम धान की खरीद तुरंत शुरू करने पर अड़े रहे। बता दें कि प्रदेश में आढ़ती भी हड़ताल पर चल रहे हैं।


हरियाणा की मंडियों में धान की आवक ज़ोर पकड़ चुकी है, लेकिन किसी कारण वश अब तक सरकारी ख़रीद शुरू नही हुई है। जिसकी वजह से किसानों को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है। 2 दिन पहले शाहबाद किसान रेस्ट हाउस में भाकियू (चढूनी) राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी की अध्यक्षता में मीटिंग कर निर्णय लिया गया था कि अगर सरकार गुरुवार शाम तक धान की खरीद शुरू नही करती है तो शुक्रवार को शाहाबाद के पास राष्ट्रीय राजमार्ग को ट्रैक्टर ट्रॉली की मदद से जाम कर दिया जाएगा।


आज सुबह शुक्रवार को 11 बजे हजारों की संख्या में खराब मौसम होने के बाद भी किसान अपने ट्रैक्टर ट्राली लेकर शाहबाद में शहीद उधम सिंह चौक पर पहुंचे और अब दोपहर से किसानों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगा दिया हैं। इस विरोध प्रदर्शन के चलते हरियाणा सरकार ने भारी पुलिस फ़ोर्स भी तैनात कर दी है। इस विरोध प्रदर्शन का असली मुद्दा धान की खरीद जिसको जल्द से जल्द शुरू करना चाहते है किसान।


गुरनाम सिंह ने कहा कि धान की खरीद ना होने के चलते किसानों को हर दिन काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है क्योंकि किसानों की धान की कई किस्म पक कर खेतों में तैयार है और काफी किसानों की फसल कट भी चुकी है। परंतु खरीद ना होने के चलते बरसात के कारण उनकी धान की फसल खराब हो रही है और उनको आर्थिक रूप से नुकसान हो रहा है।

Next Story