किसान आंदोलन को लेकर सीएम मनोहर लाल ने दिया ये बड़ा बयान, कही ये बात
 

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने किसान आंदोलन के जारी रहने पर बड़ा बयान दिया है। सीएम मनोहर ने कहा है कि किसानों की मुख्य मांग कृषि कानूनों को रद्द करना थी, जिसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मान लिया है। ऐसे में अब किसानों को नैतिक अधिकार नहीं है कि वे आंदोलन को चालू रखें। उन्होंने कहा कि यदि किसानों ने अब भी आंदोलन चालू रखा है तो यह सवाल उनसे पूछा जाना चाहिए। सीएम मनोहर लाल रविवार को यमुनानगर पहुंचे थे।

वहीं हरियाणा लोक सेवा आयोग के उपसचिव के रिश्वत मामले में पकड़े जाने पर उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार शुरू से ही गुड गवर्नेंस के नाते करप्शन को खत्म करना चाहती है, वही मुख्य टारगेट है। बहुत सी चीजें ऐसी हैं जो पकड़ी जा रही हैं उसे ठीक किया जा रहा है। किसी का लिहाज नहीं किया जा रहा। उन्होंने कहा कि खर्ची पर्ची नहीं चलेगी, यह गिरफ्तारी उसी का हिस्सा है। उन्होंने कहा कि जो ऐसा करेगा वह पकड़ा जाएगा और इस मामले में भी किस-किस ने पैसे दिए हैं, उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

मनोहर लाल ने कहा कि कांग्रेस के समय में ऐसा होता था लेकिन कार्रवाई नहीं होती थी। कांग्रेस के 10 साल के कार्यकाल में मात्र 7 एफआईआर दर्ज हुई। उन्होंने कहा कि उनके समय में भर्तियों में गड़बड़ होती थी, जिसके चलते कई कर्मचारियों को कोर्ट ने बाहर निकाला। उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों में भ्रष्टाचार चरम सीमा पर था और पूर्व मुख्यमंत्री तक को जेल की हवा खानी पड़ी। उन्होंने कहा कि हरियाणा में भ्रष्टाचारी कोई भी हो उसे सख्त सजा दी जा रही है।