हरियाणा समेत देशभर में चक्का जाम का ऐलान, 16 फरवरी को कर्मचारी संगठनों ने आंदोलन का किया ऐलान, देखें क्या-क्या है मांग ?

 
 हरियाणा समेत देशभर में चक्का जाम का ऐलान, 16 फरवरी को कर्मचारी संगठनों ने आंदोलन का किया ऐलान, देखें क्या-क्या है मांग ?
16 फरवरी की राष्ट्रीय हड़ताल की तैयारी में हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन ( संबंधित सर्व कर्मचारी संघ) डिपो प्रधान नरेश सिवाच अध्यक्षता में कर्मचारी संपर्क अभियान को आरंभ किया गया। 

कर्मचारी संपर्क अभियान टीम का संचालन राज्य उप प्रधान एवं डिपो सचिव जयकुंवार दहिया ने किया।संपर्क अभियान से पहले यूनियन कार्यालय में मीटिंग कर अभियान चलाने का निर्णय लिया गया। 

इस मौके पर सैंकड़ों कर्मचारियों ने सरकार की वादाखिलाफी व मानी गई मांगों को लागू नहीं करने पर भारी रोष झलकता नजर आया। वही कर्मचारी नेताओं द्वारा संपर्क अभियान के माध्यम से कर्मचारियों को जागरूक करने की कोशिश करी। 

इस अवसर पर जयकुंवार दहिया, सतबीर मुंढाल, नरेश सिवाच व प्रदीप हुडडा ने कर्मचारियों को सम्बोधित करते हुए कहा सरकार द्वारा बार बार की जा रही वादाखिलाफी व टरकाऊ रवैये से कर्मचारियों में भारी रोष है। सरकार व विभाग के उच्चाधिकारी रोडवेज कर्मचारियों की मांगों के लिए गंभीर नहीं है! 

उन्होंने कहा रोडवेज कर्मचारी सांझा मोर्चा के आह्वान पर सरकार की वादाखिलाफी का जवाब देने के लिए 16 फरवरी की राष्ट्रव्यापी हड़ताल में बसों का पूर्ण चक्का जाम करेंगे।

उन्होंने कहा बार बार सांझा मोर्चा प्रतिनिधिमंडल परिवहन मंत्री,परिवहन विभाग के प्रधान सचिव से मिल चुका है और उनको मांगों से अवगत कराया जा चुका है इसके बावजूद भी अभी तक कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है और न ही मांगों पर कोई अमल किया गया है। इसलिए सरकार के इस रवैए के खिलाफ अब आंदोलन को निर्णायक मोड़ पर ले जाएंगे। 

उन्होंने कहा कि परिचालकों व लिपिकों का वेतनमान ₹35400 किया जाए। अर्जित अवकाश में कटौती का पत्र वापस लेकर पहले की तरह अवकाश लागू करें। पुरानी पेंशन बहाली , जोखिम भत्ता देने पर सरकार बिल्कुल गम्भीर नहीं है। बेड़े में 10 हजार बसों को शामिल किया जाए ताकि 60 हजार बेरोजगारों को रोजगार मिल सके। 

2016 को भर्ती चालकों सहित कच्चे कर्मचारियों को पक्का किया जाए। वर्कशॉप सहित सभी श्रेणियों में खाली पड़े रिक्त पदों को स्थाई भर्ती करके भरा जाए। उन्होंने कहा हिट एंड रन कानून लागू करने से चालकों में दहशत का माहौल है। 

दुर्घटना होने पर 10 वर्ष की जेल व 7 लाख रुपए भारी भरकम जूर्माना लगने पर वाहन चालकों का रोड़ पर चलना दूर्भर हो जाएगा। उन्होंने हिट एंड रन कानून संसद सत्र में रद्द करने की मांग की।इस मौके पर जयकुंवार दहिया, सतबीर मुंढाल, नरेश सिवाच, प्रदीप हुडडा, बलजीत सिंह, राजीव कुमार, जयबीर फौजी आदि नेताओं ने सरकार की वादाखिलाफी व जनविरोधी नीतियों की जमकर आलोचना की।

 मुख्य मांगें:-
1. परिचालकों व लिपिकों का वेतनमान 35400 किया जाए।
2.चालक,परिचालक निरीक्षक,उप निरीक्षक, कर्मशाला के कर्मचारियों के देय अर्जित अवकाश कटौती बारे क्रमांक 5066-93 A2/E3/ दिनांक 20/9/ 2022 को जारी आदेशों को वापस लिया जाए।क्रमांक 4071-86 A2/E4 दिनांक 3/2/1984 की हिदायतों अनुसार देय अर्जित अवकाश व सभी लाभ दिए जाएं।
3.नई पेंशन नीति को बंद करके पुरानी पेंशन नीति को लागू किया जाए।
4.लम्बे समय से लंबित लिपिकों/ टिकिट वरिफायर की प्रमोशन की अति शीघ्र की जाए। डिपो स्तर पर कार्यालय में सांख्यिकी सहायक ,सहायक लेखाकार, जूनियर ऑडिटर के पदों से कार्यालय अधीक्षक के पद पर प्रमोशन का अनुभव 12 वर्ष की बजाए 5 वर्ष किया जाए।
5. ट्रांसपोर्ट रूल 1995 में संशोधन करके मुख्यालय व क्षेत्रीय डिपो में कार्यरत लिपिकों की सीनियरिटी एक की जाए।
6. विभाग के बेड़े में बढ़ती आबादी अनुसार 10000 सरकारी बसों को शामिल किया जाए ।
7. ऑनलाइन तबादला पॉलिसी में संशोधन किया जाए।
8.1992 से 2003 के मध्य लगे सभी कर्मचारियों को नियुक्ति तिथि से पक्का किया जाए ।
9. हरियाणा रोजगार कौशल निगम को भंग किया जाए। सभी प्रकार के रिक्त पदों पर पक्की भर्ती की जाए।
10. सभी कर्मचारियों की वेतन विसंगति को दूर की जाए।
11. वर्ष 2016 में सभी प्रकिया पूर्ण उपरांत भर्ती किये गए चालकों को पक्का किया जाए। दादरी डिपो में पार्ट-2 के तहत लगे 52 हेल्परों को पॉलिसी बनाकर पक्का किया जाए।
12. चालकों को अड्डा इंचार्ज का नया पद सृजित करके प्रमोशन की जाए।
13. विभाग में जोखिम भरी ड्यूटी करने वाले सभी कर्मचारियों को 5000 रुपए जोखिम भत्ता दिया जाए।
14. कर्मशाला व स्टोर  के वंचित कर्मचारियों को तकनीकी वेतनमान दिया जाए। 
15. आरक्षित श्रेणी के कर्मचारियों को प्रमोशन में रोस्टर प्रणाली लागू कर बैकलॉग पूरा किया जाए।
16. डिपो स्तर पर कार्यालयों की काम की अधिकता देखते हुए हर ब्रांच में सहायक के नए पद बढ़ाएं जाएं व डिपो में कम से कम 4 जूनियर ऑडिटर के पद बढ़ाए जाएं तथा नॉर्म 0.04 से बढ़ाकर 0.05 किया जाय।
17. कर्मशाला में वर्षों से खाली पड़े रिक्त पदों पर भर्ती की जाए, कर्मशाला में 2018 में लगे ग्रुप D व अन्य कर्मचारियों की प्रमोशन की जाए। कर्मशाला के सुपरवाइजर की प्रमोशन हेड से SSI के लिए सभी ट्रेड हैड को जोड़ा जाए।
18.एक्स ग्रेशिया नीति में लगाई गई शर्तो को हटाया जाए।
19. एचआरईसी गुड़गांव के लिए सरकार विषेश बजट का प्रावधान करें। ठेकेदारी प्रथा पर रोक लगाई जाए, आवश्यकतानुसार एच आर ई सी में स्थाई भर्ती की जाए, HREC कर्मचारियों को हरियाणा रोडवेज का अभिन्न अंग मानते हुए रोडवेज कर्मचारियों की तरह सभी लाभ दिया जाए।
20. विभाग में कार्यरत वाशिंग ब्वाय व सफाई कर्मचारीयों की कर्मशाला में तकनीकी रिक्त पदों पर प्रमोशन की जाए।प्लम्बर,बोरर, ग्लास कटर, सफाई कर्मचारी,वासिंग ब्वायं सहित सभी पदों पर हैड के पद सृजित कर प्रमोशन की जाए।
21. हरियाणा सरकार की अधिसूचना अनुसार किराया राउंड फिगर में किया जाए। 
22. मुख्यालय द्वारा जारी सभी प्रकार के आदेशों को सभी डिपो में एक समान लागू किया जाए ।
23. वर्दी, जूते एवं कर्मशाला कर्मचारियों का रात्रि भत्ता सहित अन्य भत्तों में महंगाई अनुसार बढ़ोतरी की जाए।
24. वरिष्ठ एवं कनिष्ठ कर्मचारियों के वेतनमान में अंतर दूर किया जाए।
25. विभाग के सभी कर्मचारियों व अधिकारियों को पुलिस कर्मचारियों की भांति एक माह के वेतन के समान बोनस दिया जाएं। सात वर्ष के बकाया बोनस का भूगतान शिघ्र किया जाए।
26. ट्रांसपोर्ट एक्ट 1961अनुसार 8 घंटे की ड्यूटी ली जाए, 8 घण्टे से ज्यादा ड्यूटी का ओवरटाइम दिया जाए।
27. सभी प्रकार की बीमारियों के लिए मैडिकल कैशलेश सुविधा दी जाए।
28. विभाग में कार्यरत सभी कैटेगिरी के कर्मचारियों की प्रमोशन तय समय मे की जाए।
29. विभाग के रिटायर्ड कर्मचारियों की फ्री यात्रा सुविधा पहले की तरह रखी जाए व रिटायर्ड कर्मचारी पति पत्नी का सयुक्त पहचान पत्र बनाया जाए।
30.हिट एंड रन कानून को वापस लिया जाए।