Haryana Scholarship Scheme: हरियाणा में ढाई लाख रुपए वार्षिक आय वाले एससी परिवार के खिलाड़ियों को मिलेगी छात्रवृति, जानिए कैसे करें आवेदन
 

अगर आपके परिवार की वार्षिक आय ढाई लाख रुपये से कम है और आप पात्र एससी खिलाड़ी हैं तो आपको विभाग की ओर से छात्रवृति मिलेगी। हालांकि इसके लिए विभाग की ओर से पहले भी आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। लेकिन अधिकारियों का कहना है कि अनुसूचित जाति के अधिक से अधिक खिलाड़ियों के फायदे को देखते हुए विभाग की ओर से छात्रवृति के लिए आवेदन की तिथि बढ़ा दी गई है। छात्रवृति के लिए पात्र खिलाड़ी कर अब 20 मई तक आवेदन कर सकते हैं।

इसको लेकर विभागीय अधिकारियों ने बताया कि खेल एवं युवा कार्यक्रम विभाग की ओर से अनुसूचित जाति (एससी) के छात्र, छात्रा खिलाड़ियों को वर्ष 2021-2022 के दौरान प्रदेश, राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेल उपलब्धियों के अनुसार छात्रवृति प्रदान करने के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। उन्होंने बताया कि खिलाड़ियों की एक अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 के दौरान राज्य, राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं की खेल उपलब्धियों के अनुसार छात्रवृति प्रदान करने के लिए आगामी 20 मई तक आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं।

आवेदन करने वाले अनुसूचित जाति के खिलाड़ियों के परिवार की वार्षिक आय दो लाख 50 हजार रुपये से कम होनी चाहिए। उन्होंने यह भी बताया कि स्कोलरशिप के लिए आवेदन पत्र का नमूना व छात्रवृति के लिए पात्रता व अन्य शर्तें विभागीय वेबसाइट पर उपलब्ध है। जहां से खिलाड़ी अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। जिला से संबंधित खिलाड़ी 20 मई तक अपने आवेदन पत्र सर छोटूराम स्टेडियम में जमा करवा सकते है। निर्धारित तिथि के पश्चात प्राप्त होने वाले आवदेन पत्रों पर कोई विचार नहीं किया जाएगा, जिसके लिए खिलाडी स्वयं जिम्मेदार होंगे।

ये प्रमाण पत्र आवश्यक :

अधिकारियों का कहना है कि खिलाड़ी को आवेदन पत्र के साथ खेल प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, बैंक पासबुक, रिहायसी प्रमाण पत्र, अनुसूचित जाति प्रमाण पत्र, परिवार पहचान पत्र, ड्रग्स एवं समाज विरोधी व्यवहार में संलिप्त न होने के संबंध में शपथ पत्र व समस्त परिवार के आय प्रमाण पत्र (केवल एससी स्कोलरशिप के लिए) की प्रतियां साथ लगाना अनिवार्य है।

अनुसूचित जाति के पात्र खिलाड़ी छात्रवृति के लिए 20 मई तक आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए पात्र खिलाड़ियों को आवश्यक दस्तावेजों की प्रतियां साथ संलग्न करनी आवश्यक है।