हरियाणा पुलिस के 18 कर्मचारियों पर गिरी गाज, विभाग ने किया सस्पेंड, जानिये क्या है वजह ?
 

हरियाणा के यमुनानगर में शिक्षामंत्री कंवरपाल गुर्जर के आवास पर बर्खास्त पीटीआई और ड्राइंग शिक्षकों के प्रदर्शन को न रोक पाने पर बड़ी कार्रवाई की गई है। जिला पुलिस अधीक्षक ने गुरुवार को लापरवाही बरतने पर 18 पुलिसकर्मियों को निलंबित और तीन एसपीओ (स्पेशल पुलिस ऑफिसर) को बर्खास्त कर दिया।

इसके अलावा 16 होमगार्डों को उनके विभाग में वापस भेजकर कार्रवाई की संस्तुति की गई है। प्रदर्शन करने वाले 250 शिक्षकों के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है। 2 दिन पहले हरियाणा शारिरिक शिक्षक संघर्ष समिति के 250 से अधिक सदस्यों के शिक्षा मंत्री के निवास पर प्रदर्शन के दौरान ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में कई पुलिस वालों पर गाज गिरी है। 

पुलिस अधीक्षक कमलदीप गोयल ने बताया कि ड्यूटी में लापरवाही बरतने में 18 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है, जबकि 37 कर्मचारियों व अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू की गई है।

3 स्पेशल पुलिस ऑफिसरों को पुलिस विभाग से बर्खास्त कर दिया गया है। 16 होमगार्ड के जवानों को उनके विभाग में वापस भेजकर हुए उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई करने के लिए गृह रक्षी विभाग को लिखा गया है।

पुलिस ने प्रदर्शनकारी शिक्षकों के खिलाफ भी कई धाराओं के महत मामला दर्ज किया था। अब पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर ड्यूटी पर मौजूद पुलिस कर्मचारियों से धक्का-मुक्की करने सहित कई और धाराएं लगाई हैं। जिन सदस्यों के खिलाफ मुकदमे दर्ज किए गए हैं उनमें समिति के सभी पदाधिकारी, विभिन्न जिलों के प्रधान एवं कार्यकारिणी के सदस्य शामिल हैं। उनकी तलाश में पुलिस विभिन्न जिलों में छापेमारी कर रही है।

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि बर्खास्त पीटीआई टीचरों ने सुबह बिना किसी पूर्व सूचना के शिक्षा मंत्री के निवास पर जाकर कोरोना प्रोटोकॉल के नियमों की उलंघना की। बिना मास्क लगाए शिक्षा मंत्री के निवास के सामने इकट्ठे हुए। इसके लिए उनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करके उनकी तलाश में छापेमारी की जा रही है।