Chopaltv.com
हरियाणा में इस बार 8वी कक्षा की बोर्ड की होगी परीक्षा, देखें पूरी जानकारी
 

हरियाणा में इस बार भिवानी बोर्ड ने बड़ा फैसला लिया है। इस बार आठवीं कक्षा की बोर्ड की परीक्षाएं होंगी। बोर्ड के चेयरमैन डॉ. जगबीर सिंह ने इसकी जानकारी दी। डॉ. जगबीर सिंह बोर्ड के 53वें स्थापना दिवस पर बोल रहे थे।
उन्होंने बताया कि बोर्ड की तऱफ से इस बार आठवीं कक्षा की बोर्ड की परीक्षाएं लेने का फैसला किया गया है। उन्होंने  कहा कि राज्यपाल ने आरटीआई में संशोधन के बाद यह फैसला किया है। 

चेयरमैन ने कहा कि 15 दिन में ही बोर्ड की तरफ से सभी तैयारियां पूरी कर ली जाएगी और इसके लिए बच्चों को भी जानकारी दी जाएगी। बोर्ड चैयरमेन डॉ जंगबीर सिंह ने दी जानकारी, छात्रो को लगाने होंगे पौधे, पौधे लगाने की जानकारी स्कूल मुख्या को देंनी होगी लिखित में पौधरोपण की जानकारी के बाद लगेंगे इंटर्नल नम्बर।

इंदिरा गांधी विश्वविद्यालय, मीरपुर, जिला रेवाडी में  बी.फॉर्मेसी में दाखिले लेने के इच्छुक छात्रों को एक और मौका दिया गया है। अब इच्छुक अभ्यर्थियों द्वारा 09 सितम्बर, 2021 तक ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा।

इस संबंध में जानकारी देते हुए विश्वविद्यालय के प्रवक्ता ने बताया कि बी.फॉर्मेसी में दाखिला लेने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए हरियाणा राज्य तकनीकी शिक्षा सोसाइटी द्वारा 09 सितम्बर, 2021 तक ऑनलाइन आवेदन करने की तिथि को बढ़ा दिया गया है।

उन्होंने बताया कि अभ्यर्थी हरियाणा राज्य तकनीकी शिक्षा सोसाइटी की वैबसाइट www.onlinetesthry.gov.in  पर लॉग इन कर आवेदन कर सकते है। बी.फॉर्मेसी में दाखिले संबंधी वरीयता सूची/रैंक 14 सितम्बर, 2021 को www.onlinetesthry.gov.in   पर उपलब्ध होगी।  उन्होंने बताया कि अभ्यर्थी 16 से 20 सितम्बर, 2021 को www.techadmissionshry.gov.in  पर ऑनलाइन लॉग इन करके प्रथम काउंसलिंग में भाग ले सकते हैं।
उन्होंने बताया कि सीटों आवंटन का परिणाम 21 सितम्बर, 2021 को सायं 05 बजे बाद www.techadmissionshry.gov.in  पर उपलब्ध करवाया जाएगा।

हरियाणा के आवासीय विश्वविद्यालयों में 15 अक्टूबर, 2021 तक ऑनलाइन-क्लासेस का संचालन जारी रखा जाएगा, इसके बाद कोविड की स्थिति को देखकर ही इन आवासीय विश्वविद्यालयों में फिजीकली-क्लासेस में भाग लेने की अनुमति देने का निर्णय लिया जाएगा।

उच्चतर शिक्षा विभाग के एक प्रवक्ता ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 15 अक्तूबर तक विश्वविद्यालय प्रशासन सभी विद्यार्थियों, संकाय सदस्यों और कर्मचारियों (आउटसोर्स वाले कर्मचारियों सहित) को पूरी तरह से टीकाकरण करवा सकते हैं और उच्चतर शिक्षा विभाग के साथ इस दिशा में उठाए गए कदमों के प्रयास सांझा कर सकता है।

उन्होंने बताया कि भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी एसओपी के अनुसार आवश्यक सामाजिक-दूरियों के मानदंडों तथा नियमित कोविड-उपयुक्त व्यवहार का कड़ाई से पालन करते हुए और संस्थान परिसर की नियमित सफाई करके विश्वविद्यालय/महाविद्यालयों को विद्यार्थियों के लिए डाऊट-क्लासेस, प्रयोगशालाओं में प्रैक्टिकल-क्लासेस और ऑफलाइन परीक्षा के लिए अनुमति दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि छात्रावास (कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में) केवल उन्हीं विद्यार्थियों के लिए खोलने की अनुमति है जो परीक्षा दे रहे हैं।