चाचा - भतीजी को हुआ आपस में प्यार, परिवारवालों ने जो किया उसे जानकर हरकोई चौंक उठेगा
 

कहते हैं ना जब प्यार परवान चढ़ता है तो उम्र का लिहाज, रिश्तों की सीमाएं कुछ नहीं दिखता। और प्रेमी बस एक दूसरे के होना चाहते हैं और इसके लिए वे कुछ भी कर गुजरने को तैयार रहते हैं। ऐसा ही मामला सामने आया है, वाराणसी में। यहां चाचा भतीजी को आपस में प्यार हो गया। फिर क्या.. दोनों के सिर प्यार का ऐसा भूत सवार हुआ कि वो शादी के बंधन में बंधने के बाद जा खत्म हुआ।

चाचा भतीजी को हुआ आपस में प्यार

काफी विवाद के बाद इस प्रेमी युगल के प्यार के आगे आखिरकार दोनों के परिवार वालों को झुकना ही पड़ गया। थाने में चली पंचायत के बाद परिवार के लोग दोनों की शादी के लिए राजी हो गए। इसके बाद दोनों ने कोतवाली के बाहर मंदिर में शादी की। 
 

ये है पूरा मामला

मछलीशहर कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में अनुसूचित जाति के एक युवक को अपनी भतीजी से प्यार हो गया था। दोनों के परिजनों को मामले की जानकारी होने तो उनलोगों ने युवक को चंडीगढ़ कमाने के लिए भेज दिया जबकि युवती की शादी सिकरारा थाना क्षेत्र के एक गांव में तय कर दी। बीते शनिवार को युवती की गोदभराई हुई। गोदभराई की सूचना चंडीगढ़ में जब प्रेमी को लगी तो वह घर पहुंच गया और देर रात प्रेमिका को लेकर भाग गया। युवती के भागने की सूचना दोनों के परिजनों को लगते ही वे खोजबीन में लग गए। रविवार सुबह दोनों को बगल के गांव से एक घर में पकड़ लिया गया।
 

प्रधान व पुलिस के समझाने पर दोनों के परिजन विवाह के लिए राजी हुए

मामले को लेकर दोनों परिवार एक दूसरे को मारने के लिए उतारू हो गए। उधर घटना की सूचना पर पहुंचे प्रधान ने दोनों पक्षों को समझाया इसके बाद सूचना कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस दोनों पक्षों को लेकर कोतवाली पहुंची वहां एक बार फिर दोनों पक्षों में काफी बहस हुई। अंत में प्रधान व पुलिस के समझाने पर दोनों के परिजन विवाह के लिए तैयार हो गए।