Chopaltv.com
गैंगस्टर काला जठेड़ी और लेडी डॉन अनुराधा को पकड़ने के लिए पुलिस ने लॉरेंस को बनाया था हथियार, ऐसे पकड़ा
नामी गैंगस्टर काला जठेड़ी को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पकड़ने के लिए अलग ही तरीका अपनाया था। पुलिस के हाथ ना चढ़ने वाले गैंगस्टर काला जठेड़ी को पकड़ने के लिए पुलिस ने उसके ही साथियों को हथियार बनाया। पुलिस ने काला जठेड़ी की गिरफ्तारी से जुड़ा बड़ा खुलासा...
 
गैंगस्टर काला जठेड़ी और लेडी डॉन अनुराधा को पकड़ने के लिए पुलिस ने लॉरेंस को बनाया था हथियार, ऐसे पकड़ा

नामी गैंगस्टर काला जठेड़ी को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पकड़ने के लिए अलग ही तरीका अपनाया था। पुलिस के हाथ ना चढ़ने वाले गैंगस्टर काला जठेड़ी को पकड़ने के लिए पुलिस ने उसके ही साथियों को हथियार बनाया।

पुलिस ने काला जठेड़ी की गिरफ्तारी से जुड़ा बड़ा खुलासा किया है। पुलिस ने बताया कि गैंगस्टर काला जठेड़ी को पकड़ने के लिए उसके ही साथियों को निशाना बनाया था और उसी के जरिये काला जठेड़ी तक पहुंच पाई थी।

पुलिस की टीम ने जेल में बंद लॉरेंस बिश्नोई से काला जठेड़ी के ठिकानों के बारे में पूछताछ की थी लेकिन लॉरेंस ने मुंह नहीं खोला था। रिमांड खत्म होने के बाद लॉरेंस को फिर से जेल में भेज दिया गया था।

जब लॉरेंस ने पुलिस के सामने मुंह नहीं खोला तो पुलिस मुखबिरों के जरिये जेल में मोबाइल लॉरेंस तक पहुंचाया गया था, ताकि काला जठेड़ी का सुराग मिल सके।

गैंगस्टर काला जठेड़ी और लेडी डॉन अनुराधा को पकड़ने के लिए पुलिस ने लॉरेंस को बनाया था हथियार, ऐसे पकड़ा

जेल में मोबाइल पहुंचने के बाद लॉरेंस ने गैंग के सदस्यों से बातचीत करनी शुरु कर दी थी। लॉरेस ने काला गैंग के बेहद करीबियों से फोन पर बातचीत की थी। जिसके बाद पुलिस को काला जठेड़ी का सुराग लगा था।

गैंगस्टर काला जठेड़ी लगातार इंटरनेट कॉल करता था वह इसी वजह से पुलिस की पकड़ में नहीं आ रहा था।

अनुराधा उर्फ मैडम मिंज राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर आनंदपाल की गर्लफ्रेंड रह चुकी है। आनंद पाल के एनकाउंटर के समय वह राजस्थान पुलिस को चकमा देकर फरार हो गई थी।

इसके बाद गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के जरिए उसकी मुलाकात काला जठेड़ी से हुई थी। अपनी लिव इन पार्टनर अनुराधा के इशारे पर ही काला जठेड़ी राजस्थान में जबरन उगाही व कत्ल जैसे संगीन वारदातों को अंजाम देता था। स्पेशल सेल के मुताबिक जठेड़ी साल 2020 में फरीदाबाद पुलिस की गिरफ्त से फरार होने के बाद एक बार नेपाल गया था।

गैंगस्टर काला जठेड़ी और लेडी डॉन अनुराधा को पकड़ने के लिए पुलिस ने लॉरेंस को बनाया था हथियार, ऐसे पकड़ा

उस वक्त आनंदपाल राजस्थान के एक अन्य गैंगस्टर राजू बसौदी के टारगेट पर था। आनंद के मारे जाने के बाद से अनुराधा राजू बसौदी के टारगेट पर थी, जिसके बाद उसने बलबीर बानूड़ा का साथ पकड़ा।

बलबीर बानूड़ा के पकड़े जाने पर लारेंस बिश्नोई के संपर्क में आ गई, जहां से उसे काला जठेड़ी का साथ मिला और और फिर उसी की लिव इन पार्टनर बन गई।

यमुनानगर पुलिस की लिस्ट में मोस्ट वांटेड काला जठेड़ी जिला पुलिस से 40 किलोमीटर दूर था, लेकिन उन्हें भनक तक नहीं मिली। वहीं, दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने 200 किलोमीटर आकर सहारनपुर से गिरफ्तार कर लिया।