कांग्रेस नेत्री हत्याकांड में आरोपी भाई गिरफ्तार, तीन शादियां कर चुकी थी नीलू, हत्या की ये वजह आई सामने
 

हिसार के सेक्टर-14 में नीलू सिक्का मर्डर केस में पुलिस ने मृतका के भाई नीरज सिक्का को गिरफ्तार कर लिया है। प्रारंभिक पूछताछ में आरोपी ने कबूला है कि प्रॉपर्टी विवाद को लेकर आए दिन होने वाले झगड़ों के चलते उक्त कदम उठाया था। 

पुलिस ने घर में लगे कैमरों की डीवीआर को जब्त कर लिया है। उसमें वारदात के कैद होने की संभावना के चलते फुटेज खंगालकर साक्ष्य जुटाने का प्रयास है। 

पुलिस के अनुसार मृतका नीलू सिक्का की उसके रिश्तेदारों के साथ नहीं बनती थी। उनके साथ भी रिश्ता-नाता टूटा हुआ था। यही कारण है कि मृतका के शव का पोस्टमार्टम करवाने और उसका अंतिम संस्कार करवाने के लिए नजदीकी सगा-रिश्तेदार आगे नहीं आया। 

ऐसे में दिन ढलता देख पुलिस के आग्रह करने पर वार्ड के पार्षद प्रवीण केडि़या और हत्यारोपी का साला भगत सिंह चौक वासी नोमिश आगे आया। इनके बयान के आधार पर पोस्टमार्टम की कार्यवाही पूरी हुई। इसके बाद शव को कंधा देने के लिए भी चार लोग नहीं थे। यह देखते हुए पुलिस ने लावारिस शवों का अंतिम संस्कार करने वाली संस्था विश्व जागृति मिशन व जनमानस सेवा समिति से संपर्क किया। 

समिति की मदद से ऋषि नगर श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया। हालांकि इस दौरान हत्यारोपी का साला व एक अन्य व्यक्ति मौजूद रहे थे। पुलिस के अनुसार नीलू सिक्का का 2 पतियों से तलाक हो चुका था। तीसरा पति जालंधर में रहता है, जिससे तलाक का केस चल रहा था। इनमें से भी कोई नहीं आया था।

पुलिस के अनुसार झगड़े के दौरान फट्टी के प्रहार से नीले सिक्का के सिर में गंभीर चोट लगी थी। यह बात भी सामने आई है कि वह चोटिल होने के बाद सीढ़ियों से नीचे गिर गई थी। इस दौरान उसका हाथ भी टूट गया था। काफी खून बहने के कारण उसकी हालत ज्यादा खराब हो गई थी। जब तक अस्पताल पहुंची, तब तक उसकी सांसें थम चुकी थी। हत्या की वारदात होने से गली में दिन के समय में भी सन्नाटा पसरा रहा।

पुलिस के अनुसार नीलू सिक्का और नीरज सिक्का के बीच लंबे समय से प्रॉपर्टी का विवाद चल रहा था। इनके बीच आए दिन होते झगड़े किसी से नहीं छुपे थे। इनकी गली में रहने वाले सभी वाशिंदों को विवाद का पता था। 

पूछताछ में नीरज सिक्का ने बताया कि वह नर्सरी चलाता है। छोटी बात को लेकर भी नीलू से तकरार होती रहती थी। आए दिन चौकी में दरखास्त का सिलसिला आम हो गया था। बुधवार की सुबह झगड़ा हुआ था। शाम को फिर से झगड़ा होने पर मारपीट हो गई थी। इस दौरान चोट ज्यादा लग गई और वह सीढ़ियों पर लुढ़क गई जिससे ज्यादा चोटिल होने पर खून बह गया था। मैंने कोशिश की कि उसे अस्पताल पहुंचा दूं लेकिन होश-हवास खो बैठा था। मुझे कुछ नहीं समझ आ रहा था।

हत्यारोपी नीरज सिक्का को गिरफ्तार कर लिया है। इसने कबूला है कि प्रॉपर्टी विवाद के चलते बहन नीलू सिक्का की हत्या की है। इससे पूछताछ जारी है और वारदात में प्रयुक्त फट्टी बरामद की जाएगी।