संयुक्त किसान मोर्चा ने किसान आंदोलन को लेकर लिया बड़ा फैसला
 

तीन कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने का ऐलान भले ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कर दिया हो लेकिन दिल्ली की सीमाओं पर बैठे किसान पीछे हटने को तैयार नहीं हैं। आज सोनीपत सिंघु बॉर्डर पर किसान नेताओं की बैठक हुई जिसमें किसान नेताओं ने बड़ा फैसला किया।

We'll write open letter to PM. Pending demands will be mentioned in it - MSP Committee, its rights, its time frame, its duties; Electricity Bill 2020, withdrawal of cases. We'll also write to him to sack the Minister (Ajay Mishra Teni) over Lakhmipur Kheri: Balbir Singh Rajewal pic.twitter.com/CdsHSoVKNI

— ANI (@ANI) November 21, 2021


किसान नेता बलवीर सिंह राजेवाल ने बताया कि आंदोलन जारी रहेगा और अगली बैठक 27 नवंबर को होगी। इसके साथ पहले से तय किए गए प्रोग्राम वैसे ही जारी रहेंगे। किसानों ने बताया कि 29 नंवबर को टिकरी बॉर्डर से 500 किसानों का जत्था संसद कूच के लिए रवाना किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वह पराली कानून, बिजली बिल, एमएसपी कानून को लेकर सरकार को खुली चिट्ठी लिखेंगे।