Chopaltv.com
रोहतक हत्याकांड- आरोपी अभिषेक बार बार कर रहा पुरुष प्रेमी की मांग, आज रिमांड हो रहा पूरा
 
 


हरियाणा के रोहतक में चार परिजनों की हत्या के आरोपी अभिषेक का आज रिमांड पूरा हो रहा है। कोर्ट ने आरोपी अभिषेक को पांच दिन के पुलिस रिमांड पर भेजा था, आज किसी भी समय पुलिस आरोपी अभिषेक को कोर्ट में पेश कर सकती है।

इधर पुलिस के सामने कई सवालों के जबाव अभी अधूरे खड़े हैं। आरोपी बार बार अपने बयान बदल रहा है और वह अपने पुरुष प्रेमी के साथ जाने की जिद्द कर रहा है। पुलिस की टीमें लगातार अलग अलग एंगल से मामले की जांच कर रही है।

वहीं पुलिस सूत्रों के अनुसार, आरोपी बहुत ही जटिल है। वह आए दिन नए-नए खुलासे करके वारदात में नए मोड़ ला रहा है। आरोपी बहुत ही शॉर्प और कूल माइंडिड क्रिमिनल है। उसे परिवार को मारने का दुख नहीं है। वह रिमांड अवधि के दौरान जो भी राज खोल रहा है, उनकी सत्यता पर आसानी से सवाल नहीं उठा सकते हैं। इन सब को देखते हुए उसका रिमांड नहीं भी बढ़वाया जा सकता है।

Abhisek in Hotel Room Rohtak

पुलिस की मार से रोया तक नहीं अभिषेक
लेकिन 5 दिन की रिमांड अवधि के दौरान अभिषेक पुलिस की मार से कतई भी नहीं रोया। लेकिन, जब भी उसे अपने प्रेमी पुरुष की याद आती तो दहाड़े मारकर रोता है। वह पुलिस को एक ही बात कहता रहा, सर प्लीज मुझे मेरे प्यार से मिला दो। 

आरोपी ने पुलिस को यह भी कहा है कि उसे अपने परिवार को मारने का कोई दुख नहीं है। वह बस इतना चाहता है कि उसे जहां भी रखा जाए, जिस भी जेल में भेजा जाए, उसके साथ उसका प्रेमी पुरुष दोस्त साथ जाना चाहिए। वह बार बार अपने पुरुष प्रेमी को उसके पास भेजने की बात कह रहा है।

अभिषेक की यह सब बातें पुलिस ने कागजी कार्रवाई में भी शामिल की हैं। पुलिस ने उसकी यह हालत देखकर मनोचिकत्सकों से उसकी काउंसिलिंग व इलाज करवाया है। लेकिन पुलिस के लिए सबसे चौंकाने वाली बात यह है कि वह लिव इन में रहता है और अपने पुरुष प्रेमी के साथ उसके शारीरिक संबंध भी हैं। लिंग बदलवाने के लिए वह परिवार से 5 लाख रुपए मांग रहा था।

Rohtak Four Murder Abhishek

1. दिल्ली में कैबिन क्रू की पढ़ाई करने वाले सहपाठी अभिषेक के साथ लिव इन में रहता है।

2. अपने पुरुष प्रेमी को 10-10 दिन के लिए घर पर बुलाना व उससे घर पर ही संबंध बनाने।

3. अपने खर्च पर प्रेमी को होटल में ले जाना, बाहर घुमाना, गाड़ियों में घुमाना, ऐश करवाना।

4. अब प्रेमी के साथ 7 जन्मों तक पति-पत्नी के रूप में शादी करके साथ निभाने के लिए जैंडर बदलवाने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए घर से 5 लाख रुपए मांगना।

5. जैंडर बदलवाने की बात से नाखुश परिजनों द्वारा उसे इग्नोर करना, खर्चा बंद करना व बहन तमन्ना के नाम प्रॉपर्टी, पैसा आदि करवाने की बात करने पर रंजिश रखना।

6. प्रेमी के साथ शादी न करने देने वालों मां-बाप और बहन की हत्या करने का प्लान बनाना।

7. प्लान के अनुसार, दो दिन तक अपने प्रेमी के साथ होटल में रुकना व घर की दो दिन में तीन बार रेकी करना। मौका न लग पाने के कारण दो बार हत्या करने में नाकाम रहना।

8. 27 अगस्त को मौका लगने पर बहन, नानी, मां और पिता की गोलियां मारकर हत्या करना और फिर वहां से होटल में जाकर दोस्तों के साथ मर्डर की पार्टी करना।

9. पार्टी के बाद घर जाना और एक कहानी बनाकर सभी को घर के दरवाजे न खोलने और किसी के भी द्वारा फोन न उठाने की कहानी बताना

10. घर में लाशें देखकर दहाड़े मार-मार कर रोना, ताकि किसी को भी शक न हो और उसे संवेदनाएं मिले।

पुलिस ने आरोपी अभिषेक उर्फ मोनू से उसके घर के हर ताले की चाबियां बरामद की हैं। इसके अलावा उसकी निशानदेही पर पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त पिस्तौल भी बरामद की है। वारदात के समय मोनू द्वारा पहने गए कपड़े, जूते भी बरामद किए हैं। वहीं, मोनू के प्रेमी की वह कार भी बरामद की है, जिसमें वह उत्तराखंड से दिल्ली और दिल्ली से रोहतक आया था।

Rohtak Murder Case Abhishek Malik

27 अगस्त की दोपहर को झज्जर चुंगी स्थित शीतल नगर की बाग वाली गली में बबलू पहलवान के घर में घुसकर चार लोगों को गोलियां मारी गई थीं। मौके पर प्रॉपर्टी डीलर बबलू पहलवान, इसकी पत्नी बबली व बबलू की सास रोशनी की मौत हो गई थी। जबकि गोली लगने से 19 वर्षीय तमन्ना घायल हो गई थी। जिसकी पीजीआई में इलाज के दौरान दो दिन बाद मौत हो गई थी।

प्रारंभिक पूछताछ में अभिषेक ने बताई थी यह कहानी
मैं अपने दोस्तों के साथ एक होटल में खाना खाने गया था। दोपहर 2 बजे के बाद घर वापस लौटा तो मेन गेट बिना कुंडी लगाए बंद था। नीचे के कमरे में गया तो दरवाजा बंद था। ऊपर कमरे में गया तो वहां का दरवाजा भी बंद मिला।

मैंने दोनों दरवाजे खूब जोर-जोर से खटखटाए। मम्मी-पापा सहित घर के अन्य नंबरों पर फोन भी मिलाया, मगर कोई जवाब नहीं मिला। मेरे मन में बहुत डर पैदा हो गया तो मैंने अपने सांपला निवासी मामा को फोन मिलाया और पूरी बात बताई। मामा ने दरवाजा तोड़ने की सलाह दी। 

मैंने किसी तरह दरवाजे के लॉक को तोड़ा तो अंदर खून से लथपथ अपने परिजनों को देख मेरे पैरों तले की जमीन खिसक गई। मेरी बहन बहुत जोर-जोर से सांस ले रही थी। मैंने रोते-रोते मामा को फिर से फोन करके पूरी बात बताई और इसके बाद मैं खुली आंखों से मदहोश हो गया।

बबलू के साले प्रवीन ने दी थी पुलिस को शिकायत
पुलिस को बबलू के साले प्रवीन निवासी सांपला ने लिखित शिकायत दी थी। प्रवीन ने पुलिस को मौखिक तौर पर यह भी बताया था कि जब उसे वारदात की सूचना मिली तो वह तुरंत ही घर से रोहतक के लिए निकल पड़ा। रास्ते में एक संदिग्ध वरना गाड़ी सवारों ने उसका काफी दूर तक पीछा किया। उसकी गाड़ी पर गोलियां भी चलाई गई। वह बहुत तेजी से गाड़ी चलाता हुआ रोहतक घटनास्थल पहुंचा।