Chopaltv.com
रोहतक हत्याकांड में बड़ा खुलासा, बहन थी असली राजदार, अब बताई पूरी असली कहानी
 
 

हरियाणा के रोहतक में चार हत्याओं के आरोपी अभिषेक की रिमांड अवधि खत्म हो गई है। इससे पहले डीएसपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस पूरे घटनाक्रम के राज खोले हैं। उन्होंने बताया कि आरोपी अभिषेक की असली दुश्मनी अपनी बहन के साथ थी, वो उसकी राजदार थी।

डीएसपी गोरखपाल राणा ने बताया कि 27 अगस्त को रोहतक की झज्जर चुंगी पर स्थित विजय नगर की बाग वाली गली में बबलू उर्फ प्रदीप पहलवान, पत्नी बबली, बेटी तमन्ना उर्फ नेहा व सास रोशनी की दिनदहाड़े घर में घुसकर हत्या कर दी गई थी।

इस हत्याकांड में पुलिस ने आरोपी बेटे अभिषेक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपी को पांच दिन के रिमांड पर लिया था जिस दौरान अहम सुराग एकत्रित किये हैं, वहीं हत्याकांड में प्रयुक्त पिस्तौल व अन्य चीजें बरामद की है।

Rohtak Murder case Accuesd Abhishek and Family

डीएसपी गोरखपाल राणा ने बताया कि पुलिस की पूछताछ के दौरान खुलासा हुआ है कि आरोपी युवक अभिषेक समलैंगिंक है और वह अपने जेंडर बदलवाकर उत्तराखंड के एक पुरुष साथी के साथ रहना चाहता था, वह कई बार उसके साथ संबंध बना चुका था।

पुलिस रिमांड के आखिरी दिन हत्यारोपी अभिषेक उर्फ मोनू ने वारदात की पूरी असलियत बताई। आरोपी ने बताया कि उसकी सबसे ज्यादा रंजिश बहन तमन्ना से थी, क्योंकि वही सबसे बड़ी राजदार थी। तमन्ना को अभिषेक के समलैंगिंक होने की जानकारी थी, वो ये राज खोलने वाली थी।

आरोपी ने बताया कि 27 अगस्त की सुबह करीब 11 बजे वह घर आया और चुपके से पापा की अवैध पिस्तौल उठाकर ऊपर वाले कमरे में चला गया। ऊपर जाने के बाद वह धीरे से अपनी बहन तमन्ना के कमरे में घुस गया और कमरा बंद किया। 

Rohtak Murder case Accuesd Abhishek and Family 2

जिस वक्त वह बहन तमन्ना के कमरे में गया तो तमन्ना बैड पर चादर ओढ़कर सो रही थी। उसी वक्त अभिषेक ने अपनी बहन के कपनपटी से सटाकर गोली मार दी और मुंह को तकिये से दबा दिया। इसके बाद किसी बहाने से नानी को ऊपर के कमरे में बुलाया। जब वो आई तो वह पीछे छुप गया और जैसे ही कमरे में दाखिल  हुई तो पीछे से गोली मार दी। 

इसके बाद वह नीचे गया और मम्मी को आवाज लगाई कि मम्मी जल्दी उपर आओ, नानी को पता नहीं क्या हो गया। मम्मी बबली बहुत जल्दी में ऊपर कमरे में पहुंची। पीछे-पीछे वह दौड़कर पहुंचा और मम्मी के कमरे में दाखिल होते ही पीछे से गोली मार दी। मम्मी के गहने उतारे और तीनों को कमरे में बंद किया और बाहर से लॉक लगाकर चाबी अपने साथ लेकर नीचे पापा के कमरे में आ गया। 

Rohtak Murder case Accuesd Abhishek and Family 3

नीचे कमरे में पापा चारपाई पर लेटे थे और फोन पर बात कर रहे थे। उसने पीछे खड़े होकर माथे में पिस्तौल अड़ाई और दो गोलियां मार दी। दो गोली लगने के बाद भी बबलू उठने की कोशिश करने लगा तो उसने एक और गोली मार दी। इसके बाद उसने पापा के हाथ से सोने का 11 तोले वजनी कड़ा निकाला व उन्हें भी कमरे में लॉक कर चाबी अपने पास रखी ली। आरोपी ने अलमारियों सहित घर के सभी लॉक की चाबिया अपने साथ रख ली थी।

पुलिस के मुताबिक, अभिषेक ने हत्याकांड अंजाम दिया क्योंकि वह अपने लिव इन पार्टनर के साथ जैंडर बदवाकर शादी करना चाहता था। वह उसके साथ चार साल से रिलेशन में था। दोनों के बीच संबंध थे। उसके घर पर भी इस बात के बारे में पता था। इसलिए उसके परिवार में भी काफी लड़ाई झगड़ा चल रहा था। 

दोनों की दोस्ती 4 साल पहले दिल्ली में कैबिन क्रू की पढ़ाई के दौरान हुई थी। उस समय चार लोग एक साथ एक कमरे में रहते थे। इन दोनों को छोड़कर बाकी दोनों बाहर चले जाते थे। ये दोनों एक ही कमरे में रहते थे तो दोनों के बीच संबंध बनने शुरू हो गए। 

Abhisek in Hotel Room Rohtak

दोनों चार साल से संबंध बनाते आ रहे हैं। अब करीब एक माह पहले ही दोनों ने विवाह सूत्र में बंधने की कसम खाई थी। इसके लिए ही अभिषेक ने जैंडर बदलवाने और शादी करने की प्लानिंग शुरू कर दी थी। ऐसे में हत्याकांड का बड़ा कारण यही संबंध हैं।

हत्यारोपी अभिषेक उर्फ मोनू के लिव इन पार्टनर की हत्याकांड में अभी तक कोई संलिप्तता नहीं मिली है। मगर पुलिस अभी उसे क्लीन चिट भी देने के मूड में नहीं है। मामले की जांच कर रही एसआईटी इंचार्ज डीएसपी गोरखपाल राणा ने कहा कि मामले की गंभीरता को देखते हुए किसी भी तरह की जल्दबाजी करना बहुत गलत होगा। 

25 व 26 अगस्त की रात को वह अपने प्रेमी दोस्त के साथ होटल में ही रुका था। उसने 25 अगस्त की दोपहर को घर के बाहर आकर रेकी की थी। उस दौरान घर पर मेहमान आए हुए थे। इसके बाद वह वहां से चला गया। 

26 अगस्त को दिन में उसने दो बार रेकी थी। मगर एक बार पड़ोसी घर पर बैठे तो एक बार घर के सभी सदस्य उपस्थित नहीं थे। 27 अगस्त को फिर से उसने घर पर रेकी की थी और मौका लगते ही चारों हत्याएं करने के बाद बड़े शातिर तरीके से फरार हो गया था। वह यहां से सीधा होटल अपने लिव इन पार्टनर के पास गया था।

जांच में सामने आया कि प्रदीप पहलवान की करोड़ों रुपये की संपत्ति है और वह अपने बेटे को ऐशोआराम की जिंदगी देना चाहता था। उसने अपने बेटे अभिषेक को होंडा सिटी कार, एप्पल का महंगा मोबाइल दिलवाया हुआ था। वहीं अलग अलग जगहों पर घूमने जाने के लिए भी मोटा पैसा देता था।

अब आरोपी अभिषेक दिल्ली में केबिन क्रू का कोर्स कर रहा था वहीं रोहतक के एक कॉलेज में वह बीकॉम की पढ़ाई कर रहा था।