Chopaltv.com
दहेज की बलि चढ़ी एक और बेटी, मौत से पहले भाई से कहा- मुझे बचा लो, ससुराल ने बताया सुसाइड
 

Chopal Tv, Ajmer

हमारे देश में अभी भी दहेज लेन-देन की प्रथा चल रही है। राजस्थान के अजमेर में एक विवाहिता इस प्रथा की बलि चढ़ गई। परिवार कहना है कि उनकी बेटी को दहेज के लिए मार ड़ाला जबकि ससुराल ने इसे आत्महत्या बताया है।

मामला अजमेर के भिनाय थाना क्षेत्र के महासिंहपुरा का है। परिवार वालों ने बताया कि उनकी बेटी प्रियंका के ससुराल वाले उसे बहुत प्रताड़ित करते थे। उसके पति के अन्य युवती से अवैध संबंध हैं, इसलिए उसकी हत्या कर दी। बताया जा रहा है कि मरने से पहले विवाहिता ने भाई को फोन किया था।

प्रियंका ने अपने भाई को कहा कि उसे बचा लो। लेकिन जब घर वालों ने दोबारा फोन किया तो उसकी मौत की खबर मिली। प्रियंका के दादा लक्ष्मण सिंह रावत ने शिकायत दर्ज करवाई और बताया कि पोती प्रियंका की शादी 11 नवंबर 2020 को वीरेंद्र सिंह के साथ हुई थी।

परिवार वालों ने शादी में घरेलू सामान के साथ जेवरात और नकदी उपहार में भी थी। लेकिन शादी के दो महीने बाद ही पति वीरेंद्र ने प्रियंका को कार लाने के लिए कहने लगा और प्रताड़ित करने लगा। प्रियंका के परिवार वालों ने जब समझाने की कोशिश की तो बात और बिगड़ गई है।

दादा ने शिकायत में ये भी बताया कि वीरेंद्र सिंह ने प्रियंका से कहा कि वह दूसरी लड़की से प्यार करता है। लेकिन अगर साथ रहना है अपने पिता से कार लेकर आए नहीं तो जान से मार देगा और दूसरी शादी कर लेगा।

प्रियंका ने ये बात अपने परिवार वालों को बताई। प्रियंका ने भाई दीपक को फोन पर वीरेंद्र का ऑडियो मैसेज भी भेजा। फिर फोन कर कहा कि वीरेंद्र मुझे जान से मारना चाहता है। मुझे बचा सको तो बचा लो। ये कहकर प्रियंका ने फोन काट दिया।

प्रियंका के भाई ने वीरेंद्र सिंह को फोन किया तो पता चला कि प्रियंका ने आत्महत्या कर ली है। जह वह प्रियंका ससुराल पहुंचे तो वह पलंग पर मृत पड़ी हुई थी। परिजनों ने बताया कि प्रियंका का फोन भी वीरेंद्र ने छुपा लिया था। बड़ी मुश्किल से परिजनों ने लिया।

प्रियंका के ससुर ने बताया कि उनके बहू और बेटे दोनों कंपटीशन एग्जाम की तैयारी कर रहे थे। दोनों के बीच कोई विवाद नहीं था और ना ही कभी दहेज की कोई बात हुई। प्रियंका ने सुसाइड किया है किसी ने नहीं मारा। आरोप झूठे हैं। जांच में सब सामने आ जाएगा। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।