Chopaltv.com
हरियाणा के अंबाला में बनेगी कोरोना से बचाव की दवा, “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के इस्तेमाल की मंजूरी
BS Gulyani, Chaupal Tv, Ambala हरियाणा के अंबाला में कोरोना से बचाव की दवा बनने जा रही है। “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के भारत में इस्तेमाल को अब केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने मंजूरी दे दी है। जिसके बाद अब हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दवा निर्माता कंपनी मेकनिल...
 
हरियाणा के अंबाला में बनेगी कोरोना से बचाव की दवा, “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के इस्तेमाल की मंजूरी

BS Gulyani, Chaupal Tv, Ambala

हरियाणा के अंबाला में कोरोना से बचाव की दवा बनने जा रही है। “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के भारत में इस्तेमाल को अब केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग ने मंजूरी दे दी है। जिसके बाद अब हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने दवा निर्माता कंपनी मेकनिल एंड आरग्स में पहुंचकर दवा संबंधित जानकारी ली और दवा की पहली खेप रवाना की।

इस मौके पर हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि यह दवा कोरोना के ख़िलाफ़ जंग में बड़ा हथियार साबित होगा और ये हरियाणा के साथ साथ अंबाला के लिए भी गर्व की बात है।

हरियाणा के अंबाला में बनेगी कोरोना से बचाव की दवा, “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के इस्तेमाल की मंजूरी

In Ambala, Haryana, a medicine to prevent corona is going to be made. The use of a drug named “Favipiravir” in India has now been approved by the Union Health Department. After which now Haryana Health Minister Anil Vij reached the pharmaceutical company Macneil and Args and took the information related to the medicine and sent the first consignment of the medicine.

On this occasion, Haryana Health Minister Anil Vij said that this medicine will prove to be a big weapon in the war against Corona and it is a matter of pride for Haryana as well as Ambala.

हरियाणा के अंबाला में बनेगी कोरोना से बचाव की दवा, “फेवीपीरावीर” नाम की दवा के इस्तेमाल की मंजूरी

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने बताया है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए हरियाणा राज्य को माल्टा के फार्मा रेगुलेटरी सर्विसेज लिमिटेड से 30 मिलियन डोज़-1 और 30 मिलियन डोज़-2 की आपूर्ति के लिए प्रस्ताव प्राप्त हुआ है अर्थात स्पुतनिक वैक्सीन की कुल 60 मिलियन डोज़ का प्रस्ताव राज्य सरकार को प्राप्त हुआ है।

अनिल विज ने आज यहां ट्वीट के माध्यम से यह जानकारी देते हुए बताया कि राज्य सरकार इस प्रस्ताव पर विचार कर रही है और हम इस प्रस्ताव की अंतिम मंजूरी के लिए इसे मंत्रिमंडल की बैठक में प्रस्तुत करेंगे।