Home राजनीति हरियाणा में बनेगा भारत माता का मंदिर, पांच एकड़ जमीन देने की तैयारी

हरियाणा में बनेगा भारत माता का मंदिर, पांच एकड़ जमीन देने की तैयारी

10 second read

Sahab Ram, Chopal TV
Chandigarh, 25 Nov, 2019

महाभारत काल से भारत के धार्मिक, सामाजिक, अध्यात्मिक केन्द्र कुरुक्षेत्र को लगातार  पिछले चार वर्ष से अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव के माध्यम से देश व विदेश में नई पहचान दिलाने के बाद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यहां 5 एकड़ क्षेत्र में भारत माता मन्दिर बनवाने की घोषणा की है ताकि धर्मनगरी कुरुक्षेत्र में आने वाले पर्यटकों को भारत  दर्शन की झलक स्थायी रूप से देखने को मिल सके। इसके अलावा, मुख्यमंत्री ने कुरुक्षेत्र को ‘दिव्य कुरुक्षेत्र’ के रूप में विकसित करने के लिए कोई कोर-कसर नहीं छोडऩे की घोषणा भी की।
मुख्यमंत्री आज यहां सेक्टर-3 स्थित, हरियाणा निवास में अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव कार्यक्रम के बारे विस्तार से जानकारी देने के लिए मीडिया से रू-ब-रू हो रहे थे।

उन्होंने कहा कि इस वर्ष उत्तराखण्ड भागीतदार राज्य है । आस्ट्रेलिया में मार्च, 2020 में गीता महोत्सव मनाया जाएगा, कनाडा ने भी गीता जयंती महोत्सव  मनाने का प्रस्ताव हरियाणा सरकार को भेजा है। मुख्यमंत्री ने इस बात की भी जानकारी दी कि इस वर्ष गीता जयंती महोत्सव में 15 देशों के प्रतिनिधि  भाग  ले रहे है।  इन देशों के राजदूत या कोई अन्य वरिष्ठ अधिकारी अपने देश का प्रतिनिधित्व करेंगे।
मुख्यमंत्री ने इस बात की भी जानकारी दी कि गीता जयंती महोत्सव की महत्वत्ता का अंदाज इस बात से हम लगा सकते है कि भारत सरकार ने इस वर्ष इस महोत्सव के लिए अपने प्रतीक चिह्नï ‘अतुल्य भारत’ का लॉगो इस्तेमाल करने की अनुमति भी प्रदान की है।

उन्होंने बताया कि गीता जयंती महोत्सव विधिवत रूप से 23 नवम्बर से आरम्भ हो चुका है । मुख्य समारोह 3 से 8 दिसम्बर, 2019 तक रहेगा। गत वर्ष  लगभग 30 लाख श्रद्घालु कुुरुक्षेत्र की पावन धरा पर नतमस्तक हुए थे। ज्योतिसर में पानी की निरन्तर निकासी की व्यवस्था की गई है। भारत सरकार ने बह्मïसरोवर को स्वच्छ स्थल के रूप में  शामिल किया है ।

मुख्यमंत्री ने बताया कि कुरुक्षेत्र की 48 कोस की परिधि में 134 तीर्थ स्थल हैं। उन्होंने कहा कि वे स्वयं इन तीर्थ स्थलों का दौरा कर चुके हैं और इनका जीर्णोद्घार करवाने की घोषणा की जा चुकी है जिस पर कार्य कर रहा है।  किसी भी समाज, देश व राज्य की प्रगति का तब तक कोई महत्व नहीं जब तक वह अपने इतिहास व संस्कृति  के बारे में युवा पीढ़ी तक जानकारी नहीं पहुंचा  सकती है। उन्होंने कहा  कि कुरुक्षेत्र  में अध्यात्मिक शिक्षा  पर शोध के कार्यक्रम निरन्तर चलते रहते है। उन्होंने कहा कि ‘जीयो गीता के साथ, अक्षरधाम, इस्कोन मन्दिर’ जैसे संस्थान इसमें सहयोग दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि कि कुरुक्षेत्र को दिव्य कुरुक्षेत्र बनाने में उद्योग सामाजिक दायित्व सहयोग के लिए भारतीय तेल निगम ने पहल की है और शीघ्र ही इस पर कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के साथ समझौता ज्ञापन किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अन्य राज्यों को कुरुक्षेत्र  में बह्मïसरोवर के आस पास 1500 से 2000 वर्ग  फुट का प्लाट दिया जाएगा ताकि वे अपने राज्य का भवन बना सकें और वहां से आने वाले पर्यटक इन भवनों में ठहर सकें । उन्होंने कहा कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, गुजरात 1500 वर्ग फुट का प्लाट लिया है। उन्होंने बताया कि  हर वर्ष की भांति इस बार भी गीता के 8 अध्यायों के 18 श्लोकों का 18 हजार विद्याथी एक साथ उचारण करेंगे।

इस वर्ष 3 हजार  अन्य व्यक्तियों को भी  शामिल किया जाएगा। प्रतिदिन महा आरती, सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ-साथ शोभा यात्रा का भी आयोजन किया जाएगा और कुरुक्षेत्र की परिधि में पडऩे वाले  तीर्थ स्थलों पर भी समारोह का आयोजन होगा। जिला स्तर पर 6 दिसम्बर से तीन दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। गीता महोत्सव में आने के लिए कुरुक्षेत्र की 100 किलोमीटर की परिधि में पडऩे वाले 9 जिलों में  विशेष बसों की व्यवस्था की जाएगी जिनमें 50 प्रतिशत किराये में छूट दी जाएगी। गीता मॅराथन का आयोजन 24 नवम्बर को हो चुका है। इसके अलावा, सरपंचों का सम्मेलन 18 नवम्बर हो चुका है। इसी प्रकार शिल्प व  सरस मेले अगन्तुकों की  आर्कषण का  केन्द्र इस गीता जयंती महोत्सव में होते है।

मुख्यमंत्री ने इस बात की भी जानकारी दी कि केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय के द्वारा कृष्णा सर्किट फेस-। के तहत वर्ष 2016 में 9734.70 लाख रुपये की राशि महाभारत काल से जुड़े  स्थलों में आधारभूत संरचना विकसित करने के लिए उपलब्ध करवाई गई थी जिसके तहत छ: बड़ी परियोजनाओं के लिए कार्य आरम्भ किए गए । बह्मïसरोवर को नया लुक देने के लिए 3831.00 लाख रुपये आवंटित किए गए जिसके तहत बहु-उदïदेशीय पर्यटन सूचना केन्द्र, पार्किंग लाईट, शौचाल्य, महिला स्नान घाट तथा मल्टी मीडिया लेजर-शो का आयोजन किया जाएगा तथा यह कार्य भारतीय पर्यटन विकास निगम दिल्ली को जनवरी, 2020 में आवंटित किया जाएगा। इसी प्रकार, ज्योतिसर के विकास के लिए 3233.88 लाख रुपये स्वीकृत किए गए और लोक निर्माण विभाग, कुरुक्षेत्र द्वारा 40 प्रतिशत से अधिक कार्य पूरा किया जा चुका है।
इसके अलावा हरियाणा सरकार ने ज्योतिसर के ऐतिहासिक महत्व को देखते हुए 1661.00 लाख रुपये की राशि अतिरिक्त रूप से उपलब्ध करवाई गई है।

भगवान कृष्ण जी की 50 फुट ऊंची ताम्बे की धातु से प्रतिमा बनाई जा रही है जिस पर 9.49 करोड़ रुपये की राशि होगी और जाने माने शिल्पकार राम सुतार कला संस्थान को दी गई है।  इसी प्रकार नरकटारी के विकास के लिए 212.96 लाख रुपये, स्नहीत सरोवर के लिए 545.59 लाख रुपये,  शहर में आधारभूत संरचना  के लिए 491.22 लाख रुपये तथा कुरुक्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए सीसीटीवी कैमरे तथा वाईफाई सुविधा के लिए 7787.58 लाख रुपये की राशि भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय से प्राप्त हुई है जिसमें से अब तक 5538.00 लाख रुपये की  राशि खर्च की जा चुकी है।

मुख्यमंत्री ने बताया कि केन्द्रीय पर्यटन मंत्रालय की कृष्णा सर्किट फेस-॥ ‘स्वदेश दर्शन योजना’ के तहत कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, जीन्द, मेवात तथा पानीपत जिलों  के महाभारत  से जुड़े 12 तीर्थ स्थलों का जीर्णोद्घार के लिए  9706 लाख रुपये की राशि उपलब्ध करवाई गई है। इनमें अमीन, पिहोवा,गीता ज्ञान संस्थानम, ज्योतिसर में मूलभूत सुविधाएं, अष्ठï कोसी परिक्रमा, व्यास स्थली, फग्गू तीर्थ, रामहृदय तीर्थ राम राय, सोम तीर्थ पिडारा,सर्पदानम तीर्थ सफीदो तथा पाण्डव मन्दिर मेवात व  ट्रक्टौक यक्ष  सींक शामिल है।

 

Check Also

हरियाणा में श्रमिकों की सरकार ने मांगी लिस्ट, 72 घण्टे का दिया गया वक्त

Chaupal TV, Chandigarh: हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला, जिनके पास उद्योग एवं वाणि…