Chopaltv.com
Haryana Weather Alert- हरियाणा में 21 तक बारिश के आसार, देखिये मौसम विभाग की भविष्यवाणी
 
 

कृषि मौसम विज्ञान विभाग, चौधरी चरणसिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय  हिसार
बंगाल की खाड़ी में बने एक कम दबाब के क्षेत्र व साथ में राजस्थान के ऊपर एक साइक्लोनिक सर्कुलेशन बनने तथा टर्फ रेखा दक्षिण में आने से मॉनसूनी हवायों की सक्रियता बढ़ने से हरियाणा राज्य में  पिछले एक सप्ताह से बीच-बीच में ज्यादातर स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश दर्ज की गई। 

हरियाणा राज्य में 1 जून से 14 सितम्बर तक भारत मौसम विज्ञान विभाग के आंकडो के अनुसार 505.7 मिलीमीटर बारीश दर्ज हुई है जो सामान्य बारिश (418.8मिलीमीटर) से 21 प्रतिशत अधिक हुई है। 

मौसम पूर्वानुमान:-  बंगाल की खाड़ी में  एक और कम दबाब के क्षेत्र बनने के साथ साथ अरब सागर से भी नमी वाली हवाएँ आने की संभावना से हरियाणा राज्य में मौसम 21 सितम्बर तक आमतौर पर परिवर्तनशील रहने की संभावना है।

अगले तीन-चार दिनों में उत्तर व दक्षिण हरियाणा में कहीं-कहीं तथा पश्चिमी हरियाणा में कुछ -एक स्थानों पर हल्की बारिश परन्तु 18 सितम्बर से 21 सितम्बर के बीच राज्य के ज्यादातर क्षेत्रों में हवायों व गरजचमक के साथ बारिश होने की संभावना है। इस दौरान कुछ एक स्थानों पर तेज बारिश भी संभावित है।

##$$$$$$#/////////#$$$$$$
डॉ मदन खीचड़ विभागाध्यक्ष
कृषि मौसम विज्ञान विभाग, चौधरी चरणसिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार

देश भर में बने मौसमी सिस्टम 

छत्तीसगढ और आसपास के क्षेत्र में डिप्रेशन सप्ताहांत में एक अच्छी तरह से चिह्नित निम्न दबाव में बदल गया है और अब यह पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश और आसपास के क्षेत्र में है। इसके आज शाम तक कम दबाव में उठने की उम्मीद है और यह पूरे मध्य प्रदेश में पश्चिम दिशा की ओर बढ़ सकता है।

दक्षिण गुजरात पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र औसत समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर तक फैला हुआ है।

मॉनसून की ट्रफ रेखा द्वारका, बड़ौदा, भोपाल, पूर्वोत्तर मध्य प्रदेश डाल्टनगंज, दीघा और फिर दक्षिण पूर्व की ओर बंगाल की खाड़ी के पूर्व मध्य में अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव के क्षेत्र से गुजर रही है।

एक ट्रफ रेखा दक्षिण गुजरात पर बने चक्रवाती परिसंचरण से लेकर गंगीय पश्चिम बंगाल तक उत्तरपूर्वी मध्य प्रदेश के ऊपर कम दबाव वाले क्षेत्र से जुड़े चक्रवाती परिसंचरण पर फैली हुई है।

पिछले 24 घंटों के दौरान देश भर में हुई मौसमी हलचल
पिछले 24 घंटों के दौरान, गंगीय पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ हिस्सों में मध्यम से भारी बारिश के साथ छिटपुट बारिश हुई।

छत्तीसगढ़, झारखंड के कुछ हिस्सों, विदर्भ के कुछ हिस्सों, दक्षिण मध्य प्रदेश, कोंकण और गोवा, गुजरात और मध्य महाराष्ट्र के अलग-अलग हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई।

अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप, केरल के कुछ हिस्सों, तटीय कर्नाटक, तटीय आंध्र प्रदेश, दक्षिण और पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश के शेष हिस्सों, उत्तर प्रदेश, बिहार, सिक्किम के कुछ हिस्सों और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल में छिटपुट हल्की से मध्यम बारिश हुई। .

दिल्ली एनसीआर, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, पंजाब के कुछ हिस्सों, हरियाणा के अलग-अलग हिस्सों, तेलंगाना, आंतरिक कर्नाटक और पूर्वोत्तर भारत में हल्की बारिश हुई।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम की संभावित गतिविधि

अगले 24 घंटों के दौरान, गंगीय पश्चिम बंगाल, उत्तरी ओडिशा के आसपास के हिस्सों, झारखंड, उत्तर प्रदेश, बिहार के कुछ हिस्सों, मध्य प्रदेश, उत्तराखंड के कुछ हिस्सों, दक्षिण-पूर्व राजस्थान, गुजरात के कुछ हिस्सों और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

हिमाचल प्रदेश, सिक्किम उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, उत्तर पूर्व भारत, पंजाब के दिल्ली भागों, हरियाणा, राजस्थान के शेष हिस्सों, कोंकण और गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप और विदर्भ के कुछ हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

आंध्र प्रदेश, आंतरिक कर्नाटक, तेलंगाना, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में हल्की बारिश संभव है।