Chopaltv.com
किसानों की बढ़ सकती है चिंता, एक और च्रकवात जवाद के आने के संकेत, समुद्री इलाकों के आसपास अलर्ट
 

बंगाल की खाड़ी में अगले सप्ताह कभी भी एक और उष्णकटिबंधीय तूफान की फिर से दस्तक हो सकती है। इससे पहले, चक्रवात गुलाब 26 सितंबर 2021 को उत्तरी बंगाल की खाड़ी पर दिखाई दिया था, और आंध्र प्रदेश में श्रीकाकुलम के पास आया था। 

यह तूफान मध्य भागों में फैला और बाद में चक्रवात शाहीन के रूप में अरब सागर में फिर से आ गया। चक्रवाती तूफान के 13 अक्टूबर के आसपास मध्य बंगाल की खाड़ी पर बनने की संभावना है और अगले 48 घंटों में आंध्र प्रदेश के लिए महत्वपूर्ण है।

स्काइमेट के पूर्वानुमान के अनुसार, अगले 48 घंटों में एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मार्ताबन की खाड़ी और उससे सटे उत्तरी अंडमान सागर के ऊपर बनने की उम्मीद है। इसके प्रभाव में 11 अक्टूबर को इसी क्षेत्र में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है। यह सिस्टम अगले 24 घंटों में और अधिक प्रभावी हो जाएगी। 

इस अवधि के दौरान, दक्षिण चीन सागर से एक और उष्णकटिबंधीय तूफान के अवशेष वियतनाम, लाओस और थाईलैंड में चले जाएंगे और अंत में उत्तरी अंडमान सागर पर मौसमी सिस्टम के साथ गायब हो जाएंगे।

एक उष्णकटिबंधीय चक्रवात 'लायनरॉक' पहले ही दक्षिण चीन सागर के ऊपर बन चुका है और चीनी प्रांत हैनान की ओर बढ़ रहा है, जो हाइको के सबसे अधिक आबादी वाले शहर के करीब है। इसके बाद, कमजोर तूफान टोंकिन की खाड़ी में प्रवेश करेगा, ताकत हासिल करेगा और वियतनाम के भागों में प्रभाव दिखायेगा। 

यह भी पढ़ें: PM Kisan Tractor Yojana: ट्रैक्टर खरीदने पर सरकार दे रही है 50% सब्सिडी, फटाफट उठाएं इस योजना का फायदा

यह तूफान कमजोर होकर ऊबड़-खाबड़ और पहाड़ी इलाकों में एक डिप्रेशन में बदल जाएगा और बचे हुए मौसमी सिस्टम लाओस और थाईलैंड से होते हुए म्यांमार पहुंचेंगे। पहले से मौजूद मौसमी सिस्टम के साथ विलय से निम्न दबाव का क्षेत्र सक्रिय होगा और बंगाल की खाड़ी के मध्य भागों में साइक्लोजेनेसिस में मदद मिलेगी। 

गर्म समुद्र की सतह के तापमान और हल्की हवाओं की अनुकूल पर्यावरणीय परिस्थितियों के कारण बंगाल की खाड़ी में मानसून के बाद के मौसम 2021 का पहला चक्रवात भारतीय समुद्र के लिए एक सक्रिय तूफानी मौसम की गति निर्धारित करेगा।

बंगाल की खाड़ी में अक्टूबर के महीने में भयंकर तूफान का मंथन पहले भी हो चूका है। वर्ष 2013 में, श्रेणी V तूफान (पैमाने पर सबसे गंभीर श्रेणी) के बराबर, चक्रवात फैलिन ने 12 अक्टूबर की शाम को गोपालपुर (ओडिशा) में गतिविधियां दिखी। 2007 में चक्रवात सिद्र के बाद से उत्तर हिंद महासागर में ऐसा करने वाला यह पहला तूफान था। 

अगले वर्ष भी, एक अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान (ईएससीएस) हुदहुद ने पूर्वी तट को प्रभावित किया। चक्रवात हुदहुद ने 12 अक्टूबर 2014 को 175 किमी प्रति घंटे की तेज हवा के साथ विशाखापत्तनम में दस्तक दी थी।

भारतीय समुद्र के ऊपर विकसित हो रहे अगले तूफान का नाम 'जवाद' होगा। यह नाम सऊदी अरब से आया है और इसके बाद यदि कोई अगला तूफान बनता है तो उसे श्रीलंका द्वारा आसनी नाम दिया जाएगा। चक्रवात की अत्यावश्यकताओं को पूरा करने के लिए चेतावनी नोटिस जारी कर दी गयी है।